Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» Police Not Beaten By Liquor

शराब नहीं दी तो पुलिस ने पीटा, अस्पताल गया तो दर्ज किया केस

बुरी तरह पिटाई कर दी और उसके खिलाफ पुलिस से मिसबिहेव का केस तक दर्ज कर दिया।

bhaskar news | Last Modified - Dec 31, 2017, 04:59 AM IST

  • शराब नहीं दी तो पुलिस ने पीटा, अस्पताल गया तो दर्ज किया केस

    मोहाली.नए साल का जश्न मनाने के लिए जहां सभी लोग कुछ कुछ प्लान कर रहे हैं, वहीं थाना फेज-11 की पुलिस ने भी नए साल का जश्न मनाने के लिए जुगाड़ लगाना शुरू कर दिया है। जश्न के लिए जब पुलिस वालों को एक ऑटो चालक से फ्री की शराब नहीं मिली तो उन्होंने ऑटो चालक की बुरी तरह पिटाई कर दी और उसके खिलाफ पुलिस से मिसबिहेव का केस तक दर्ज कर दिया।

    ऑटो चालक हैपी ने बताया कि उसका एक अन्य ऑटो चालक से झगड़ा हो गया था। मौके पर पीसीआर पहुंची और मामला थाने तक पहुंच गया। वहां आईओ नरिंदर सिंह ने दोनों में समझौता कराने कराने के बाद नए साल का जश्न मनाने के लिए उससे शराब की बाेतलों की मांग की। जब उसने शराब की बोतलें देने से इनकार किया तो थाने में ही उसकी पिटाई कर दी गई। थाने में पिटने के बाद हैपी सिविल अस्पताल में अपना मेडिकल कराने चला गया, लेकिन वहां से पता चलने पर फेज-11 पुलिस उसे दोबारा उठाकर थाने ले गई और उसकी फिर बुरी तरह पिटाई कर डाली। इसके अलावा उस पर पुलिस से मिसबिहेव करने के आरोप में केस दर्ज कर दिया गया।
    हैपी ने बताया कि जब उसका झगड़ा हुआ तो थाने जाने के बाद एएसआई नरिंदर सिंह ने दोनों में समझौता करवा दिया। इसके बाद एएसआई ने कहा कि अगर दूसरा ऑटो चालक समझौते के लिए मानता तो उसके खिलाफ केस दर्ज हो सकता था और गिरफ्तारी भी हो सकती थी। उन्होंने जोर डालकर समझौता करवा दिया है। अब नए साल का जश्न मनाने की तैयारी करो और हमारा भी न्यू ईयर अच्छे से मनवा दो। इसके बाद उसने शराब की बोतलों की मांग की और कहा कि हमारी न्यू ईयर पार्टी के लिए शराब का इंतजामर करो।

    मेडिकल कराने अस्पताल गया तो फिर उठाया पुलिस ने

    एसएचओ बोले-आरोप निराधार
    थाना फेज-11के एसएचओ सुखदेव सिंह ने बताया कि ऑटो चालक हैपी ने जो आरोप एएसआई पर लगाए हैं, वो निराधार हैं, उसने ही शराब पीकर ऑटो स्टैंड पर हंगामा किया। इसी लिए उसे पकड़ कर मेडिकल कराया गया। इसके बाद उस पर शराब पीकर हंगामा करने पुलिस से मिसबिहेव का केस दर्ज किया गया है।

    एएसआई करने लगे टाल मटोल, बिना जवाब दिए काटा फोन
    इस बारेमें जब थाना फेज-11 के एएसआई नरिंदर सिंह को कॉल की गई तो उन्होंने सवाल सुनने के बाद कहा कि वो अभी कार ड्राइव कर रहे हैं। बात नहीं कर सकते। जब उन्हें बताया गया कि आप पर आरोप लगाए जा रहे हैं तो उन्होंने बिना कोई जवाब दिए फोन काट दिया और उसके बाद बार बार कॉल करने पर भी फोन नहीं उठाया।

    मेडिकल करवाने गया तो वहां से भी उठाया
    हैप्पी ने बताया कि जब थाने में उसकी पीटाई हुई तो वो सिविल अस्पताल फेज-6 पहुंचा और वहां अपना मेडिकल करवाने लगा। उसने डॉक्टरों से मांग की कि उसकी एमएलआर काटी जाए, क्योकि पुलिस कर्मियों ने थाने में उसके साथ मारपीट की और डंडे भी मारे। इससे उसके शरीर पर निशान भी पड़े हैं। इसके बाद देररात पुलिस कर्मी अस्पताल पहुंचे और हैपी को दोबारा उठा कर अपने साथ थाने ले गए और वहां जाकर उसके साथ दोबारा मारपीट की।

    हैपी के भाई रिक्की ने बताया कि जब वो लोग एएसआई की बात सुनकर थाने से बाहर गए और पुलिस कर्मियों के पास शराब भी नहीं पहुंचाई तो कुछ समय बाद ही एएसआई दोबारा ऑटो स्टेंड पर गया और उन्हें वहां से अपने साथ थाने चलने को कहा। रिक्की को तो छोड़ दिया, लेकिन हैपी को वे अपने साथ थाने ले गए। रिक्की ने बताया कि पुलिस हैपी को अपने साथ थाने ले गई और वहां उन्होंने हैप्पी की जमकर पीटाई की।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×