--Advertisement--

4 जनवरी को जैसे ही राणा को बेटे के ईडी नोटिस का पता चला, उसी दिन सौंपा इस्तीफा

फेमा उल्लंघन मामले में बेटे इंद्रप्रताप से ईडी अाज करेगा पूछताछ

Danik Bhaskar | Jan 17, 2018, 03:49 AM IST

चंडीगढ़. 4 जनवरी को जैसे ही बिजली व सिंचाई मंत्री राणा गुरजीत सिंह को बेटे के ईडी नोटिस का पता चला, उसी दिन राणा ने कैप्टन को इस्तीफा सौंप दिया था। हालांकि, इस्तीफा अभी तक मंजूर नहीं हुआ है। रेत माइनिंग नीलामी मामले में 8 महीने से विपक्ष के निशाने पर रहे राणा गुरजीत ने कहा कि विपक्ष मुझ पर झूठे आरोप लगाकर कैप्टन को बदनाम कर रहा था, इसलिए इस्तीफा दिया है। इधर, कैप्टन ने कहा 12 दिन पहले 4 जनवरी को मिले इस्तीफे पर 18 को राहुल के साथ होने वाली मीटिंग में विचार करेंगे।

8 महीने में दूसरी बार राणा ने इस्तीफे की पेशकश की है। पहली बार मई 2017 में कैप्टन ने राणा का इस्तीफा नामंजूर कर दिया था। इस बार भी 12 दिन से इस्तीफा लटकाएं हैं।

इस्तीफा हो सकता मंजूर, क्योंकि

1. बेटे इंद्रप्रताप सिंह को सेबी, आरबीआई की मंजूरी बगैर विदेश से 100 करोड़ फंड जुटाने के मामले में ईडी ने नोटिस दिया है।
2. राहुल गांधी भ्रष्टाचार पर जीरो टाॅलरेंस नीति सख्ती से लागू करना चाहते हैं।

ईडी के नोटिस से मेरा कोई वास्ता नहीं है। 2000 से मैं बिजनेस से दूर हूं। बेटा ही कंपनी का एमडी है और वह नोटिस का जवाब देगा। -राणा गुरजीत