--Advertisement--

स्कूल में न बेंच हैं, न सिर पर है छत, गीली जमीन पर बिठाकर पढ़ाया जा रहा है बच्चों को

कमरे होने के कारण उन्हें बाहर जमीन पर ही बिठाया जा रहा है। यहां तक कि स्कूल में बेंच तक नहीं हैं।

Danik Bhaskar | Dec 16, 2017, 05:55 AM IST

मोहाली. गांव झुंगियां के सरकारी प्राइमरी स्कूल में इस कड़कती सर्दी में बच्चे खुले आसमान के नीचे गीली जमीन पर बैठकर पढ़ने को मजबूर हैं। स्कूल के कमरे इस्तेमाल लायक होने के कारण गिरा दिए गए थे। इसके बाद अभी तक कमरे नहीं बने। पहली और दूसरी क्लास के बच्चों के लिए तो टीचर्स ने अपने खर्च पर दो कमरे किराये पर ले लिए, लेकिन तीसरी, चौथी और पांचवीं क्लास के बच्चों के लिए कमरे होने के कारण उन्हें बाहर जमीन पर ही बिठाया जा रहा है। यहां तक कि स्कूल में बेंच तक नहीं हैं।

इस बारे में एजुकेशन डिपार्टमेंट के अफसरों को स्टाफ की ओर से कई बार लिखा गया, लेकिन अभी तक कोई इंतजाम नहीं किया गया। शुक्रवार को दोपहर 1 बजे तीसरी, चौथी और पांचवीं के बच्चों को बाहर गीली जमीन पर बिठाकर पढ़ाया जा रहा था। डीईओ प्राइमरी गरमेज कैंथ का कहना है कि इस बारे में डीजीएसई को लिखा गया है। केंद्र से ग्रांट आने के कारण काम नहीं हुआ है। बच्चों को सर्दी से बचाने के प्रबंध किए जाएंगे।