Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» The Collector Gave These Officers

35 मुलाजिमों के नाम रिवॉर्ड के लिए भेजे, इनमें वो भी जिन्होंने पहले छोड़ा था आरोपी

एक्साइज एंड टैक्सेशन डिपार्टमेंट ने करीब 175 आइटम्स की लिस्ट तैयार कर ली है, जो चंडीगढ़ की सभी दुकानों पर लगवाई जाएगी।

bhaskar news | Last Modified - Dec 31, 2017, 03:18 AM IST

  • 35 मुलाजिमों के नाम रिवॉर्ड के लिए भेजे, इनमें वो भी जिन्होंने पहले छोड़ा था आरोपी

    चंडीगढ़. इस साल15 नवंबर से करीब 175 आइटम्स पर गुड्स एंड सर्विसेस टैक्स (जीएसटी) 10 परसेंट कम हो चुका है। डेढ़ महीना गुजरने के बाद भी लोगों इसका फायदा नहीं मिल रहा और चीजें पहले के महंगे रेट पर ही मिल रही हैं। जिन चीजों के रेट कम हुए हैं उनकी लिस्ट दुकानों पर लगने के बाद ही इसका फायदा मिलेगा। इसके लिए एक्साइज एंड टैक्सेशन डिपार्टमेंट ने करीब 175 आइटम्स की लिस्ट तैयार कर ली है, जो चंडीगढ़ की सभी दुकानों पर लगवाई जाएगी।

    असिस्टेंट एक्साइज एंड टैक्सेशन कमिश्नर आरके चौधरी ने कहा कि डिपार्टमेंट ने टैक्स कम होने वाले आइटम्स की लिस्ट तैयार कर ली है। ये लिस्टें व्यापारी संगठनों को दी जाएंगी, ताकि पूरे शहर में ये डिस्ट्रीब्यूट हों और सभी दुकानों पर लगाई जाएं।

    नेशनल कंज्यूमर्स डे पर लोगों ने की थी मांग
    नेशनलकंज्यूमर्स डे के मौके पर लोगों ने भी प्रशासन से मांग रखी थी कि इस तरह का कोई सिस्टम होना चाहिए ताकि जब लोग दुकानों पर जाएं तो उन्हें पता चल सके कि किस चीज पर कितना टैक्स कम हुआ है। दुकानदार अगर उनको पुराने रेट पर ही सामान देता है तो वो आगे इसको लेकर डिपार्टमेंट को शिकायत कर सकें।

    कंपोजिशन स्कीम वाले लें जीएसटी, वॉयलेशन पर होगी कार्रवाई...
    डिपार्टमेंटने कंपोजिशन स्कीम लेने वाले ट्रेडर्स को कहा है कि वे जीएसटी नहीं ले सकते। एक्साइज एंड टैक्सेशन डिपार्टमेंट के अफसरों ने इस स्कीम को लेने वाले ट्रेडर्स को हिदायत दी है कि डिपार्टमेंट रेगुलर चेकिंग करेगा और वॉयलेशन पर कार्रवाई की जाएगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Chandigarh News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: The Collector Gave These Officers
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×