Hindi News »Union Territory News »Chandigarh News »News» The Elderly Do Millions Of Rupees

69 साल के ये बीमार बुजुर्ग करते हैं लाखों रूपए की सिक्युरिटी, ये है कारण

विनीत राणा | Last Modified - Feb 13, 2018, 04:52 AM IST

हाई ब्लड प्रेशर, शुगर और हार्ट का पेशेंट, आंखों से कम दिखता है इन्हें।
  • 69 साल के ये बीमार बुजुर्ग करते हैं लाखों रूपए की सिक्युरिटी, ये है कारण
    +2और स्लाइड देखें
    69 साल के बुजुर्ग के पास नहीं है कोई हथियार

    मोहाली.उम्र 69 साल, नाम नंद लाल, हाई ब्लड प्रेशर, शुगर और हार्ट का पेशेंट, आंखों से कम दिखता है और काम फेज-5 के IDBI बैंक के एटीएम की नाइट सिक्योिरटी। अगर बैंक के मैनेजमेंट एटीएम की रात की सुरक्षा के लिए ऐसे गार्ड्स को तैनात करेंगे तो अपराधी इसका फायदा उठाएंगे ही। इसके बावजूद बैंक प्रबंधक सिर्फ खानापूर्ति के लिए रात को ऐसे सिक्योरिटी गार्ड्स को ठेकेदार के जरिये एटीएम के बाहर तैनात कर रहे हैं। यहां तक कि उन्हें कोई हथियार और फोन तक मुहैया नहीं कराया जा रहा। सुरक्षा के लिए नहीं है कोई हथियार...

    - कुंभड़ा के नंदलाल से जब रात को एटीएम की सिक्योरिटी का काम करने का कारण पूछा गया तो उन्होंने बताया कि ठेकेदार दिन में नहीं लगाता, सिर्फ रात को ही सिक्योरिटी करने के लिए बोलता है।
    - वे यहां आईडीबीआई बैंक के एटीएम की सुरक्षा में तैनात हैं।
    - जब उनसे पूछा गया कि रात के समय अगर कोई लुटेरा आ जाए तो उनके पास खुद को बचाने और एटीएम की सुरक्षा के लिए कौन सा हथियार है तो उनका जवाब था, मेरे पास कुछ नहीं है। हां,एक डंडा पड़ा है, जो एटीएम बूथ के अंदर रखा हुआ है।
    - जब उनसे पूछा गया कि क्या यहां एरिया के पुलिस स्टेशन या पीसीआर का फोन नंबर है तो जवाब मिला है पर मेरे पास कोई फोन नहीं है।
    - यानी एटीएम की सिक्योरिटी एक बीमार बुजुर्ग से करवाई जा रही है, जिसके पास अपनी सुरक्षा के लिए कोई हथियार नहीं है।
    - ऐसे में वह एटीएम की सुरक्षा कैसे कर सकता है। इस बारे में बैंक प्रबंधकों से बात नहीं हो पाई।

    कई बार हो चुकी है लूट
    - फेज-7 बूथ मार्केट में दो बार एटीएम तोड़कर बाहर ही निकाल लिया गया था, लेकिन पीसीआर का हूटर सुनकर गाड़ियों में आए लुटेरे एटीएम को बरामदे में छोड़ भाग गए थे।

    - इंडस्ट्रियल एरिया में क्वार्क सिटी के पास दो एटीएम लुटेरे लूट चुके हैं। शहर में एक कैशवैन भी लूटी जा चुकी है।

    भास्कर रियलिटी चेक

    - भास्कर टीम ने रात 11.30 बजे फेज-5 स्थित एटीएम की सुरक्षा जांची।
    - एटीएम की सीढ़ियों पर धोती लगाए एक बुजुर्ग बैठे नजर आए तो उनसे वहां बैठने का कारण पूछा गया।
    - बुजुर्ग ने बताया कि वे यहां सिक्योरिटी गार्ड हैं। उन्होंने अपना नाम नंदलाल और उम्र 69 साल बताई।
    - उन्होंने बताया कि पिछले कई महीनों से वे यहां रात के समय सिक्येारिटी गार्ड का काम करते हैं और एक ठेकेदार ने उनको रखा है।
    - उन्होंने बताया कि ठेकेदार उन्हें 5 हजार रुपए प्रति महीना देता है।

    बैंक प्रबंधकों से समय-समय पर सिक्योरिटी के संबंध में मीटिंग्स की जाती हैं, लेकिन अगर कहीं सिक्योरिटी नहीं है या बुजुर्ग को बिना हथियार सिक्योरिटी गार्ड रखा है तो यह गलतहै। इसके बारे में प्रबंधकों से दोबारा बात की जाएगी। जगजीत सिंह जल्ला, एसपी सिटी-1

  • 69 साल के ये बीमार बुजुर्ग करते हैं लाखों रूपए की सिक्युरिटी, ये है कारण
    +2और स्लाइड देखें
    ATM पर रात में ड्यूटी करते बुजुर्ग।
  • 69 साल के ये बीमार बुजुर्ग करते हैं लाखों रूपए की सिक्युरिटी, ये है कारण
    +2और स्लाइड देखें
    एसपी सिटी बोले-बैंक प्रबंधकों से बात कर पूछा जाएगा कारण
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Chandigarh News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: The Elderly Do Millions Of Rupees
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From News

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×