चंडीगढ़ समाचार

--Advertisement--

पिता करते हैं मजदूरी, बेटे ने की मेहनत औऱ अब दुबई में जीते 3 गोल्ड मेडल

कुछ साल पहले ही एथलेटिक्स शुरू करने वाले अमित दुबई से पहले चीन और सिंगापुर में भी अपने देश का नाम रोशन कर चुके हैं।

Danik Bhaskar

Dec 20, 2017, 05:04 AM IST
एथलीट अमित कुमार एथलीट अमित कुमार

चंडीगढ़. डीएवी कॉलेज के पैरा एथलीट अमित कुमार ने दुबई में हुई पैरा एशियन एथलेटिक्स चैंपियनशिप में तीन गोल्ड मेडल जीतकर इसे साबित भी कर दिया। उनके पिता पंजाब की आयरन सिटी मंडी गोबिंदगढ़ के एक गोदाम में मजदूरी का काम करते हैं लेकिन कभी भी बेटे के सपने के आगे नहीं आए। कुछ साल पहले ही एथलेटिक्स शुरू करने वाले अमित दुबई से पहले चीन और सिंगापुर में भी अपने देश का नाम रोशन कर चुके हैं।

कोचेज ने दिलाई सफलता.
डीएवी के स्टार पैरा एथलीट अमित कहते हैं कि उन्हें कॉलेज और प्रिंसिपल बीसी जोसन से हमेशा सपोर्ट मिला है। मैंने पहले हरविंदर सिंह सर से कोचिंग लेनी शुरू की थी। इसके बाद मैंने जगबीर सिंह से टिप्स लिए।

सरकार करे मदद
अमित कहते हैं कि बेहद कम सुविधाओं के दम पर यहां तक पहुंचा हूं। परिवार जितनी मदद कर पाता है करता है लेकिन वे एक इंटरनेशनल एथलीट के लिए पूरी नहीं है। सरकार या कॉर्पोरेट हाउस उनकी मदद करे ताकि वे देश के लिए आगे भी मेडल जीत सकें।

तीन साल की उम्र में गंवाया हाथ
अमित कहते हैं कि पिता मजदूरी करके परिवार को चलाते हैं। मैं तीन साल का था जब छत से गिरने पर दाहिने हाथ में फ्रैक्चर हो गया था और सही इलाज मिलने के कारण उनका हाथ ऐसा ही रह गया। पहले मैं नॉर्मल एथलीट्स के साथ मुकाबला करता था।

अमित ने दुबई में 100 मीटर रेस 11.8 सेकंड में पूरी की

200 मीटर रेस 23.14 सेकंड्स और 400 मीटर रेस में 51.9 सेकंड्स लगाए। इन तीनों इवेंट में उसने गोल्ड हासिल किए। अमित ने इससे पहले स्विट्जरलैंड में आयोजित जूनियर विश्व पैरा-एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में रेसिंग में सिल्वर मेडल जीता था। चीन में भी वे दो पदक हासिल कर चुके हैं।

Click to listen..