--Advertisement--

देशभगत यूनिवर्सिटी के चांसलर डॉ. जोरा सिंह ने सजा के खिलाफ की अपील

21 लाख रुपए के चेक बाउंस मामले में जिला अदालत ने पिछले महीने मंडी गोबिंदगढ़ की देशभगत यूनिवर्सिटी के चांसलर डॉ. जोरा...

Danik Bhaskar | Feb 02, 2018, 02:00 AM IST
21 लाख रुपए के चेक बाउंस मामले में जिला अदालत ने पिछले महीने मंडी गोबिंदगढ़ की देशभगत यूनिवर्सिटी के चांसलर डॉ. जोरा सिंह को दो साल की सजा सुनाई थी। जिला अदालत के इस फैसले के खिलाफ डॉ. जोरा सिंह ने एडिशनल डिस्ट्रिक्ट एंड सेशंस जज एसके सचदेवा की कोर्ट में अपील फाइल की है। उनकी अपील पर 16 फरवरी को सुनवाई होगी। 22 जनवरी को कोर्ट ने उन्हें 21 लाख रुपए का चेक अमाउंट रिफंड करने के साथ-साथ 21 लाख रुपए की अलग से पैनल्टी भी लगाई थी। मंडी गोबिंदगढ़ के रहने वाले संजय सिंगला ने उनके खिलाफ शिकायत दी थी। इसके मुताबिक सिंगला ने डॉ. जोरा सिंह को उनके इंस्टीट्यूट में फंडिंग के लिए 21 लाख दिए थे व इसका उन्हें ब्याज भी आ रहा था। लेकिन जब बाकी लोगों के चेक बाउंस होने लगे तो उन्होंने अपना पैसा वापस मांगा। डॉ. जोरा सिंह के इम्प्लॉयी ने 21 लाख का चेक 20 सितंबर, 2016 को उन्हें दे दिया। जब ये चेक बैंक में लगाया तो स्टॉप पेमेंट की वजह से चेक बाउंस हो गया।

साइन चेक करने की याचिका हुई है खारिज: पहले डॉ. सिंह ने कोर्ट में एक एप्लीकेशन दायर की थी जिसमें उन्होंने चेक पर हुए साइन को वेरिफाई करवाने की मांग की थी। इस एप्लीकेशन को पहले निचली अदालत फिर े सेशन कोर्ट ने खारिज कर दिया था।