--Advertisement--

दूसरी शादी के आरोप नहीं हुए साबित, पति बरी

चंडीगढ़। एक महिला ने अपने पति पर पीटने और दूसरी शादी करने के आरोप लगाए थे, लेकिन महिला के आरोप कोर्ट में साबित नहीं...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:00 AM IST
दूसरी शादी के आरोप नहीं हुए साबित, पति बरी
चंडीगढ़। एक महिला ने अपने पति पर पीटने और दूसरी शादी करने के आरोप लगाए थे, लेकिन महिला के आरोप कोर्ट में साबित नहीं हो सके, जिस पर कोर्ट ने पति को बरी कर दिया। अक्टूबर 2014 में पुलिस ने सुनीता की शिकायत पर काॅलोनी नंबर-4 के राममेहर पर धारा 494 (पति या प|ी के होते हुए दूसरी शादी करना) और 498ए (पति या उसके रिश्तेदार द्वारा क्रूरता करना) के तहत केस दर्ज किया था।

सुनीता के अनुसार उसकी शादी 2002 में राममेहर से हुई। बाद में वे कालोनी नंबर-4 में शिफ्ट हुए। पहले तो सब ठीक चलता रहा, लेकिन पिछले एक साल में राममेहर ने अपनी प|ी को नजरंदाज करना शुरू कर दिया। वह कई बार तो घर भी नहीं आता था। एक बार तो राममेहर दो दिन घर नहीं आया। सुनीता ने जब राममेहर से पूछा तो उसने उससे मारपीट शुरू कर दी। सुनीता को पति पर शक हुआ। उसने जब पूछा तो राममेहर ने कह दिया कि उसने दूसरी शादी कर ली है। आरोप के मुताबिक राममेहर ने कहा कि अगर वह किसी को बताएगी तो वह उसे और उसके परिवार को मार डालेगा। सुनीता ने पति के खिलाफ पुलिस को शिकायत दी। वहीं, बचाव पक्ष के वकील अनिल गोगना के मुताबिक राममेहर ने दूसरी शादी नहीं की और उसे इस केस में झूठा फंसाया गया था। वहीं, प्रॉसिक्यूशन दूसरी शादी करने के आरोप साबित नहीं कर सका। दोनों पक्षों की बहस कोर्ट ने राममेहर को बरी कर दिया।

X
दूसरी शादी के आरोप नहीं हुए साबित, पति बरी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..