चंडीगढ़ समाचार

--Advertisement--

आर्टिस्ट मलकीत सिंह को याद करने पहुंचे ट्राईसिटी के लोग

पंजाब ललित कला अकादमी की ओर से कलाकार मलकीत सिंह की याद में एक प्रोग्राम रखा गया। जिसमें शहर वे सब लोग शामिल हुए जो...

Danik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:05 AM IST
पंजाब ललित कला अकादमी की ओर से कलाकार मलकीत सिंह की याद में एक प्रोग्राम रखा गया। जिसमें शहर वे सब लोग शामिल हुए जो उनके दोस्त थे और उनकी कला के कद्रदान थे। अकादमी के चेयरपर्सन दीवान माना ने मलकीत से जुड़ी यादें साझा करते हुए बताया कि कैसे वे एक दोस्त के तौर पर हमेशा सबके काम आते थे। उनका घर हमेशा सबके लिए खुला रहता था। वे सबकी मदद करते थे। निरुपमा दत्त ने उनके साथ अपनी लंबी एसोसिएशन का जिक्र किया। वे बोलीं-इतनी लंबी यादों को एक जगह बताना संभव तो नहीं लेकिन ये जरूर कहा जा सकता है कि एक शाानदार कलाकार और दोस्त चला गया। जिसकी कमी कभी पूरी नहीं हो सकेगी। उन्होंने यह भी बताया कि कैसे एक बार पाकिस्तान जाते हुए वे अपने साथ अपनी पेंटिंग्स लेकर गए। उनका कहना था कि मैं उधर के पंजाब को इस तरफ के पंजाब का आर्ट दिखना चाहता हूं। और फिर तुरत फुरत में वहां अपनी पेंटिंग्स को लगाकार उन्होंने उसे एग्जीबिशन का रूप दे दिया था। मलकीत सिंह को याद करने वालों में उनके दोस्त ही नहीं वे लोग भी हैं जो उनकी कला से रूबरू होते रहते थे। उन्होंने अपने जीवन काम में कला को जीवन की तरह महसूस किया।वे महज कागज पर रंग उतारने वाले कलाकार नहीं थे बल्कि दर्दमंदी और कला के जीवन से जुड़ाव को भी वे नजदीकी से देखते रहे। पंजाब के एक गांव में जन्मे मलकीत दरअसल चंडीगढ़ आने के बाद भी शहरी कलाकार नहीं बने। उन्होंने अपने अंदर से मिट्‌टी की उस महक को कहीं जाने नहीं दिया जो चंडीगढ़ आते वक्त उनके साथ थी। यही वजह रही कि वे हमेशा अपनी पेंटिंग्स में धूसर रगों का प्रयोग करते रहे। उनके विषय ग्रामीण जीवन पर आधारित होते थे। खासतौर पर वे बकरियां खूब पेंट करते रहे। बाद में जब वे डिजिटल वर्क की तरफ मुड़े तो भी उनका बेसिक झुकाव पहले जैसा ही रहा। पंजाब कला भव में आयोजित कार्यक्रम के दौरान अकादमी द्वारा तैयार किया गया एक स्लाइड शो दिखाया गया जिसमें उनके गांव, शहर, दोस्त और जीवन को एकसाथ रखा गया था।

Face to Face

पंजाब ललित कला अकादमी की ओर से सेक्टर-16 रंधावा ऑडिटोरिय में कलाकार व अकादमी से जुड़े रहे मलकीत सिंह की याद में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

वो अच्छे कलाकार और संजीदा इंसान थे

गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ आर्ट्स कॉलेज के पूर्व प्रिंसीपल प्रेम सिंह भी इस मौके पर पहुंचे और मलकीत सिंह से जुड़ी बातें शेयर कीं। उन्होंने बताया कि एक ही इंसान में इतने सारे गुण अक्सर नहीं मिलते। लेकिन मलकीत सिंह न केवल बेहतरीन कलाकार थे बल्कि संजीदा इंसान भी थे जो दूसरों का दुख सुख समझते थे।


Click to listen..