Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» इलेक्ट्रिकल व्हीकल चार्जिंग स्टेशन के लिए टैरिफ बनाकर अप्रूवल के लिए भेजा

इलेक्ट्रिकल व्हीकल चार्जिंग स्टेशन के लिए टैरिफ बनाकर अप्रूवल के लिए भेजा

पॉल्यूशन घटाने और एन्वायर्नमेंट बचाने के लिए शहर में आने वाले सालों में इलेक्ट्रिकल व्हीकल चलेंगे। इनके लिए...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 02:05 AM IST

पॉल्यूशन घटाने और एन्वायर्नमेंट बचाने के लिए शहर में आने वाले सालों में इलेक्ट्रिकल व्हीकल चलेंगे। इनके लिए चार्जिंग स्टेशन भी बनेंगे। इसी को देखते हुए बिजली विभाग ने इलेक्ट्रिकल व्हीकल चार्जिंग स्टेशन के टैरिफ बनाकर जेईआरसी (जॉइंट इलेक्ट्रिसिटी रेगुलेटरी कमीशन) के पास अप्रूवल के लिए भेजे हैं। इसके लिए बिजली टैरिफ 7.8 से 25 फीसदी बढ़ाने की जेईआरसी के पास 12 जनवरी को पिटीशन दायर की है। इसपर जेईआरसी चेयरमैन और मैंबर द्वारा 13 फरवरी को सेक्टर-10 के म्युजियम एंड आर्ट गैलरी के ऑडिटोरियम में पब्लिक हियरिंग करेंगे। इसमें आरडब्ल्यूए, बिजनेस काउंसिल, चंडीगढ़ व्यापार मंडल और अन्य एसोसिएशन एवं रेजिडेंट्स टैरिफ पर सुझाव और आपत्ति दर्ज कर सकेंगे। इलेक्ट्रिकल व्हीकल के चार्जिंग स्टेशन के रेट्स पर भी चर्चा होगी। वाजिब है या नहीं। इन्हें कंसीडर करके ही जेईआरसी चेयरमैन बिजली टैरिफ बढ़ाना उचित समझेंगे या नहीं। अगर जेईआरसी चेयरमैन और मैंबर को बिजली टैरिफ बढ़ाना जायज लगा तो बढ़ाने की नोटिफिकेशन मार्च माह के अंत तक जारी हो जाएगी।

चार्जिंग स्टेशन के प्रस्तावित टैरिफ

0 से 150 6.20 रुपए

151 से 400 6.45 रुपए

400 से ऊपर 6.75 रुपए

मीटर के फिक्स चार्जेज सिंगल फेज के 24 रुपए और थ्री फेज पर 122 रुपए प्रति माह जुड़ेंगे।

बिजली विभाग की ओर से टैरिफ बढ़ाने और इलेक्ट्रिकल व्हीकल के लिए चार्जिंग स्टेशन के टैरिफ की अप्रूवल संबंधी जेईआरसी के पास 12 जनवरी को पिटीशन दायर कर दी है। इसपर जेईआरसी चेयरमैन और मैंबर द्वारा 13 फरवरी को सेक्टर 10 आर्ट म्युजियम के ऑडिटोरियम में पब्लिक हियरिंग रखी है। ् -एमपी सिंह, सुपरिंटेंडिंग इंजीनियर, बिजली विभाग

बिजली विभाग को पिछले साल हुआ था 280 करोड़ का घाटा

बिजली विभाग की ओर से जेईआरसी (जॉइंट इलेक्ट्रिसिटी रेगुलेटरी कमीशन ) के पास दायर की गई पिटीशन में कहा गया है कि वर्ष 2016 में ही टैरिफ 17.78 फीसदी बढ़े थे। इसके बाद से दायर की गई पिटीशन पर जेईआरसी की ओर से टैरिफ नहीं बढ़ाए गए। हालांकि जेईआरसी की ओर से वर्ष 2016 में मल्टी ईयर टैरिफ अप्रूव कर दिया था। इसके बाद भी बिजली विभाग का पिछले साल का 280 करोड़ घाटा चला आ रहा है। वहीं, एफएफपीसीए (फ्यूल प्राइस एंड पावर परचेज एडजस्टमेंट चार्जेज) की 4 तिमाही के कारण कंज्यूमर से रिकवरी तो हो रही है। लेकिन पिछला घाटा कवर नहीं हो रहा है। अब बिजली विभाग की ओर से 12 जनवरी को जेईआरसी के पास पिटीशन दायर कर दी है।

लोग अपने व्हीकल की करवा सकेंगे चार्जिंग.. अगले सालों में शहर में इलेक्ट्रिकल व्हीकल ही ज्यादा चलेंगे। उनके लिए प्राइवेट चार्जिंग स्टेशन भी बनेंगे। जहां पर व्हीकल को लोग चार्जिंग करवा सकेंगे। इसके चार्जेज स्टेशन मालिक लोगों से लेगा। लेकिन स्टेशन मालिक के लिए सरकारी तौर पर बिजली टैरिफ तय किए हैं। व्हीकल चार्जिंग स्टेशन कोई भी प्राइवेट लगा सकेगा। पेट्रोल पंप या अन्य स्पेस पर बनाए जा सकेंगे।

एफएफपीसीए कैलकुलेशन का फॉर्मूला हो आसान...बिजली विभाग ने जेईआरसी के पास दाखिल पिटीशन में एफएफपीसीए कैलकुलेशन का आसान फार्मूला भेजे जाने की मांग उठाई है। इसकी कैलकुलेशन के बारे पब्लिक को जारी दें तो उसे भी आसानी से समझ में आ जाए। अभी इसकी कैलकुलेशन काफी पेचीदा है। इसे समझाने पर भी पब्लिक को समझ में नहीं आ रहा है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×