• Hindi News
  • Union Territory
  • Chandigarh
  • News
  • झुकते हैं पर्वत भी कहीं कहीं, रुकती नहीं रवानियां और झुकती नहीं जवानियां...
--Advertisement--

झुकते हैं पर्वत भी कहीं-कहीं, रुकती नहीं रवानियां और झुकती नहीं जवानियां...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 02:05 AM IST

News - शोएब मलिक तेज रफ्तार बॉलिंग कर रहे थे और विरेंद्र सहवाग इसे टिप करते जा रहे थे। हर बॉल के बाद वह कहते कि मार, छक्का...

झुकते हैं पर्वत भी कहीं-कहीं, रुकती नहीं रवानियां और झुकती नहीं जवानियां...
शोएब मलिक तेज रफ्तार बॉलिंग कर रहे थे और विरेंद्र सहवाग इसे टिप करते जा रहे थे। हर बॉल के बाद वह कहते कि मार, छक्का मार। कभी घोंचू तो कभी मोटू जैसे चिढ़ाने वाले शब्द भी कहते। लेकिन सहवाग बिल्कुल शांत। कुछ समय तक यही चलता रहा तो वो चल कर शोएब तक गए। लगा कि झगड़ा होने वाला है, लेकिन आगे से बोले कि भाई साहब, आप बॉलिंग करवा रहे हैं कि भीख मांग रहे हैं। इसलिए याद रखें कि आपका एटीट्यूड मायने रखता है, जो आपको कामयाब बनाता है। ये किस्सा सुनाया पंजाब के लोकल गवर्नमेंट, टूरिज्म एंड कल्चरल अफेयर्स मिनिस्टर नवजोत सिंह सिद्धू ने। वह पंजाब यूनिवर्सिटी के डिपार्टमेंट ऑफ लॉ की ओर से कराए गए दो दिवसीय नेशनल लॉ फेस्टिवल में युवाओं से रू-ब-रू थे। “ड्रॉयट मिलांगे’ नाम से आयोजित इस प्रोग्राम में सिद्धू ने उद्घाटन समारोह में आना था, लेकिन अमृतसर में किसी काम की वजह से वह नहीं आ पाए। उन्होंने संदेश भेजा था कि वह वीरवार को आएंगे। क्रिकेट, कमेंटरी और राजनीति की दुनिया से जुड़े किस्सों के जरिए सिद्धू ने यूथ को मोटिवेट किया कि वह दूसरों की नकल करने के बजाय खुद पर विश्वास करें। उन्होंने कहा कि कपिल देव और सचिन तेंदुलकर का जीवन तमाम कमियों के बावजूद कामयाबी का एक उदाहरण है, जिसकी वजह पॉजिटिविटी और खुद पर विश्वास था। आखिर में उन्होंने स्टूडेंट्स को इस शेअर के साथ अलविदा कहा कि “झुकते हैं पर्वत भी कहीं-कहीं... रुकती नहीं रवानियां और झुकती नहीं जवानियां’।

कार्यक्रम के बाद पत्रकारों से बातचीत में सिद्धू ने कहा कि जब हमारे देश में 58 फीसदी आबादी युवाओं की होने का दावा किया जाता है तो उनके लिए एक नीति भी होनी चाहिए। वह पंजाब के लिए युवा नीति पर काम कर रहे हैं। उन्होंने रोल मॉडल खड़े करने की बात कही। वह इसके लिए प्रयास कर रहे हैं। फेस्टिवल में ट्रेजर हंट, क्लाइंट काउंसलिंग के फाइनल कंपीटीशन हुए। शाम को वेलीडिक्टरी फंक्शन हुआ। डीन स्टूडेंट्स वेलफेयर प्रो. इमैनुअल नाहर, डीन लॉ फैकल्टी अनु चतरथ, चेयरपर्सन प्रो. शालिनी मरवाहा और प्रो. मीनू पॉल भी इस मौके पर मौजूद थीं।

X
झुकते हैं पर्वत भी कहीं-कहीं, रुकती नहीं रवानियां और झुकती नहीं जवानियां...
Astrology

Recommended

Click to listen..