Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» होटल के डायरेक्टर्स ने रिवीजन पिटीशन की दायर, कहा- मरने वाले की लापरवाही थी

होटल के डायरेक्टर्स ने रिवीजन पिटीशन की दायर, कहा- मरने वाले की लापरवाही थी

आईटी पार्क स्थित होटल ललित में करीब चार साल पहले एक गेस्ट मनी सिंगला की एग्जॉस्ट शाफ्ट से गिरकर मौत हो गई थी। इस...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 02:10 AM IST

आईटी पार्क स्थित होटल ललित में करीब चार साल पहले एक गेस्ट मनी सिंगला की एग्जॉस्ट शाफ्ट से गिरकर मौत हो गई थी। इस मामले में जिला अदालत ने होटल के तीन डायरेक्टर्स को बतौर आरोपी पेश होने के लिए समन किए थे। जेएमआईसी हरलीन पाल सिंह के इस फैसले के खिलाफ होटल के तीनों डायरेक्टर्स माधव सिक्का, अरविंद सचदेव और रॉकी कालरा ने रिवीजन पिटीशन फाइल की है। उन्होंने कहा है कि इस मामले का उनसे कोई संबंध नहीं है और उन्हें आरोपी बनाना गलत होगा। डायरेक्टर्स ने कहा कि इस हादसे में मरने वाले की खुद की लापरवाही थी। तीनों डायरेक्टर्स ने एडिशनल डिस्ट्रिक्ट एंड सेशंस जज डॉ. अजीत अत्री की कोर्ट में रिवीजन पिटीशन दायर की है जिसमें उन्होंने जेएमआईसी के फैसले को खारिज करने की मांग की है।

इस आधार पर दायर की रिवीजन पिटीशन

इस केस में पुलिस पहले ही कह चुकी है होटल की लापरवाही नहीं बनती

इस हादसे में मरने वाले की खुद की लापरवाही थी

तीनों नॉन-एग्जीक्यूटिव/नॉन ऑपरेशनल डायरेक्टर्स हैं और दिल्ली में काम कर रहे हैं। इनका होटल के ऑपरेशन से कोई संबंध नहीं है।

होटल का डे-टू-डे ऑपरेशन जनरल मैनेजर आशीष गावरी देखते हैं।

ये था मामला... 20 मार्च, 2014 को होटल ललित में रिंग सेरेमनी थी। मृतक मनी सिंगला अपने घरवालों के साथ सेरेमनी में गया था। मनी की होटल के एग्जॉस्ट शाफ्ट में गिरने से मौत हो गई थी।

सिटी रिपोर्टर | चंडीगढ़

आईटी पार्क स्थित होटल ललित में करीब चार साल पहले एक गेस्ट मनी सिंगला की एग्जॉस्ट शाफ्ट से गिरकर मौत हो गई थी। इस मामले में जिला अदालत ने होटल के तीन डायरेक्टर्स को बतौर आरोपी पेश होने के लिए समन किए थे। जेएमआईसी हरलीन पाल सिंह के इस फैसले के खिलाफ होटल के तीनों डायरेक्टर्स माधव सिक्का, अरविंद सचदेव और रॉकी कालरा ने रिवीजन पिटीशन फाइल की है। उन्होंने कहा है कि इस मामले का उनसे कोई संबंध नहीं है और उन्हें आरोपी बनाना गलत होगा। डायरेक्टर्स ने कहा कि इस हादसे में मरने वाले की खुद की लापरवाही थी। तीनों डायरेक्टर्स ने एडिशनल डिस्ट्रिक्ट एंड सेशंस जज डॉ. अजीत अत्री की कोर्ट में रिवीजन पिटीशन दायर की है जिसमें उन्होंने जेएमआईसी के फैसले को खारिज करने की मांग की है।

बाद में केस दर्ज किया...पहले तो पुलिस ने होटल मैनेजमेंट के खिलाफ ही केस दर्ज किया था लेकिन बाद में एक प्राइवेट आर्किटेक्ट के खिलाफ केस दर्ज कर कोर्ट में चालान पेश कर दिया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×