Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» स्मार्ट पार्किंग: रेट आज से डबल, सुविधा न पहले थी, न अब

स्मार्ट पार्किंग: रेट आज से डबल, सुविधा न पहले थी, न अब

नगर निगम पेड पार्किंग एरिया की फीस रविवार से डबल करने जा रहा है, लेकिन इन पार्किंग एरिया का हाल ये है कि पर्ची कटवाओ...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 02:10 AM IST

स्मार्ट पार्किंग: रेट आज से डबल, सुविधा न पहले थी, न अब
नगर निगम पेड पार्किंग एरिया की फीस रविवार से डबल करने जा रहा है, लेकिन इन पार्किंग एरिया का हाल ये है कि पर्ची कटवाओ और अंदर कहां गाड़ी खड़ी करनी है या किस तरह निकलानी है, ये आपको खुद ही तय करना है। न तो यहां आपको गाड़ी खड़ी करने पर कोई सुविधा मिलेगी और न ही कोई यह बताने वाला मिलेगा कि गाड़ी कहां खड़ी करें। आपका खर्चा तो डबल होगा ही, लेकिन इसके बदले में आपको सुविधा कोई नहीं मिलेगी। पार्किंग एरिया में रेहड़ी फड़ी लगाने वालों का भी डेरा है और इनके सामने आपको गाड़ी लगाने नहीं दी जाएगी। ये सिर्फ एक पेड पार्किंग का हाल नहीं, बल्कि चंडीगढ़ की सभी पार्किंग एरिया में इसी तरह काम चल रहा है। ये सिर्फ एमसी के लिए कमाई का जरिया है, जबकि जो लोग रोज इन पार्किंग एरिया में अपनी गाड़ी लाते हैं, उनको खर्चा करने के बाद भी कोई सुविधा यहां नहीं मिलती, बल्कि गाड़ी खड़ी करने के लिए अंदर पार्किंग के लिए जगह मिल जाए, ये भी कई बार मुश्किल हो जाता है।

सेक्टर-22(बस स्टैंड सेक्टर-17 के सामने) के पार्किंग एरिया में सबसे ज्यादा भीड़ रहती है। मोबाइल मार्केट के चलते यहां रोज कई लोग खरीदारी करने पहुंचते हैं। पार्किंग एरिया में दिक्कतें भी यहां सबसे ज्यादा हैं। टू व्हीलर खड़ा करने की जगह पर गाड़ियां खड़ी की गई हैं। कोई यहां गाड़ी लेकर आए तो बताने वाला कोई नही कि गाड़ी कहां खड़ी करनी है, जगह कहां खाली है। पार्किंग एरिया में ही कई जगह रेहड़ी फड़ी वाले हैं, जिनके पक्के अड्डे हैं। इनको कोई हटाने वाला नहीं। न ही इनके सामने आप गाड़ी खड़ी कर सकते हैं।

सेक्टर-22 मार्कट के पीछे ये हाल

बाहर खड़ी कर देते हैं गाड़ियां...

पार्किंग कर्मियों से पूछा कि अंदर गाड़ी खड़ी करवाने में मदद करने के लिए कोई कर्मी होगा तो उन्होंने कहा अभी तो कोई नहीं है। पार्किंग एरिया में भीड़ इतनी कि लोग बाहर ही गाड़ी खड़ी करके चलते जाते हैं या जल्दी गाड़ी निकालने के लिए बीच में गाड़ी खड़ी कर देते हैं।

सरकार की नाकामी...

यह सरकार की नाकामी है, जो चंडीगढ़ जैसे आधुनिक और अनुशासित शहर में पार्किंग व बिजली की दरों को लेकर इतनी वृद्धि की जा रही है। चंडीगढ़ जैसे शहर में वाईफाई और पार्किंग तो फ्री होनी चाहिए। चंडीगढ़ काे हर साल भारी भरकम बजट मिलता है। -मनीष तिवारी, पूर्व केंद्रीय मंत्री

यहां पार्किंग में हेयरड्रेसर...

सेक्टर-22 पार्किंग में जूस की रेहड़ी

पार्किंग नहीं, एंट्री फीस वसूल रहे

स्मार्ट सिटी के नाम पर जनता को लूटा जा रहा है। शहर की पार्किंग में स्मार्ट वाली कोई बात नहीं है। ये पार्किंग नहीं, सिर्फ एंट्री के लिए फीस वसूल रहे हैं। जनता पैसे देने को तैयार है लेकिन उन्हें कोई सुविधा तो मिले। पार्किंग फीस बेशक बढ़ा दी जाए लेकिन पहला आधा घंटा फ्री दिया जाए। -बिट्‌टू, चेयरमैन फॉसवेक

सुविधाएं नहीं तो डबल रेट क्यों

जब सुविधाओं में कोई बदलाव नहीं किया गया तो हम क्यों डबल रेट दें। ये पार्किंग चलाने वाली कंपनी को फायदा पहुंचाने के लिए निगम की मिलीभगत से हो रहा है। पार्किंग अभी भी वैसी ही है, जैसे पहले थी। तो रेट बढ़ाने की क्या जरूरत थी। -सचिन शर्मा, चेयरमैन, यूथ इनोवेटिव सोसायटी

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×