--Advertisement--

सेक्सुअल हैरासमेंट, लेक्चरर-लैब अटेंडेंट पर केस

गौरव भाटिया | चंडीगढ़ b.gaurav@dbcorp.in शहर के एक गवर्नमेंट स्कूल में एक लेक्चरर और एक वर्कशॉप अटेंडेंट ने 11वीं क्लास की तीन...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:10 AM IST
गौरव भाटिया | चंडीगढ़ b.gaurav@dbcorp.in

शहर के एक गवर्नमेंट स्कूल में एक लेक्चरर और एक वर्कशॉप अटेंडेंट ने 11वीं क्लास की तीन गर्ल्स स्टूडेंट्स को मॉलेस्ट किया, सेक्सुअली हैरास किया और मेंटली टॉर्चर किया गया। इसकी खबर चंडीगढ़ भास्कर में 21 दिसंबर को छपी थी। इस मामले के उजागर होने के बाद जनवरी में एजुकेशन सेक्रेटरी ने पुलिस को केस दर्ज करने के लिए अप्रूवल दे दी थी। इसके बाद अब चंडीगढ़ पुलिस ने केस दर्ज किया है। मेडिकल लैब टेक्नोलॉजी के लेक्चरर व क्लास टीचर बिमल कुमार और इसी लैब में वर्कशॉप अटेंडेंट गुरमेज सिंह के खिलाफ आईपीसी के सेक्शन 354 A के तहत छेड़छाड़ और पॉक्सो के एक्ट की धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है। अभी इन दोनों को गिरफ्तार नहीं किया गया है। तीन लड़कियों ने स्कूल प्रिंसिपल को दोनों के खिलाफ शिकायत दी थी। इसके बाद यूटी एजुकेशन डिपार्टमेंट ने जांच बैठाई और दोनों को इसमें दोषी पाए जाने के बाद उन्हें सस्पेंड कर दिया गया है। डिपार्टमेंट ने दोनों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के लिए चंडीगढ़ पुलिस को लिखा।

यह करता था

एजुकेशन डिपार्टमेंट की जांच रिपोर्ट के मुताबिक बिमल कुमार तीनों लड़कियों को अलग अलग स्टोर रूम में पड़ी अलमारी के अंदर रजिस्टर रखने और लाने के लिए कहता था। इसी दौरान वह लड़कियों को पकड़कर अलग-अलग तरह से मॉलेस्ट करता था।

गौरव भाटिया | चंडीगढ़ b.gaurav@dbcorp.in

शहर के एक गवर्नमेंट स्कूल में एक लेक्चरर और एक वर्कशॉप अटेंडेंट ने 11वीं क्लास की तीन गर्ल्स स्टूडेंट्स को मॉलेस्ट किया, सेक्सुअली हैरास किया और मेंटली टॉर्चर किया गया। इसकी खबर चंडीगढ़ भास्कर में 21 दिसंबर को छपी थी। इस मामले के उजागर होने के बाद जनवरी में एजुकेशन सेक्रेटरी ने पुलिस को केस दर्ज करने के लिए अप्रूवल दे दी थी। इसके बाद अब चंडीगढ़ पुलिस ने केस दर्ज किया है। मेडिकल लैब टेक्नोलॉजी के लेक्चरर व क्लास टीचर बिमल कुमार और इसी लैब में वर्कशॉप अटेंडेंट गुरमेज सिंह के खिलाफ आईपीसी के सेक्शन 354 A के तहत छेड़छाड़ और पॉक्सो के एक्ट की धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है। अभी इन दोनों को गिरफ्तार नहीं किया गया है। तीन लड़कियों ने स्कूल प्रिंसिपल को दोनों के खिलाफ शिकायत दी थी। इसके बाद यूटी एजुकेशन डिपार्टमेंट ने जांच बैठाई और दोनों को इसमें दोषी पाए जाने के बाद उन्हें सस्पेंड कर दिया गया है। डिपार्टमेंट ने दोनों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के लिए चंडीगढ़ पुलिस को लिखा।




-निलांबरी जगदाले, एसएसपी, चंडीगढ़ पुलिस