Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» मनीमाजरा गवर्नमेंट स्कूल के 9वीं के सभी 54 स्टूडेंट्स फेल, एक भी सब्जेक्ट में पास नहीं हुए

मनीमाजरा गवर्नमेंट स्कूल के 9वीं के सभी 54 स्टूडेंट्स फेल, एक भी सब्जेक्ट में पास नहीं हुए

मंजीत सहदेव | मनीमाजरा गवर्नमेंट स्कूलों में पढ़ाई का क्या हाल है, यह मनीमाजरा पॉकेट नंबर-1 के गवर्नमेंट स्कूल के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 02:10 AM IST

मनीमाजरा गवर्नमेंट स्कूल के 9वीं के सभी 54 स्टूडेंट्स फेल, एक भी सब्जेक्ट में पास नहीं हुए
मंजीत सहदेव | मनीमाजरा

गवर्नमेंट स्कूलों में पढ़ाई का क्या हाल है, यह मनीमाजरा पॉकेट नंबर-1 के गवर्नमेंट स्कूल के रिजल्ट को देखने से पता चला। यहां 9वीं क्लास के एक सेक्शन में पढ़ने वाले सभी 54 स्टूडेंट फेल हो गए। स्टूडेंट्स के पेरेंट्स ने शनिवार को स्कूल की प्रिंसिपल सुदेश व क्लास टीचर के सामने जमकर हंगामा किया। पेरेंट्स का आरोप था कि पूरा साल बच्चों को पढ़ाया नहीं जाता, टीचर बच्चों की पढ़ाई की ओर ध्यान ही नहीं देते। नीतू गर्ग व बलजीत कौर का कहना है कि बच्चों को पढ़ाने के लिए स्कूल में टीचर आते ही नहीं। पूरा दिन बच्चे खाली बैठे रहते हैं। ऐसे में बच्चे कैसे पास होंगे।

शहर के दो स्कूलों का रिजल्ट रहा खराब, पेरेंट्स ने किया हंगामा, एजुकेशन डिपार्टमेंट को शिकायत

ये है हाल...

फेल हुए स्टूडेंट्स के कई सब्जेक्ट्स में 15 से भी कम नंबर

इंग्लिश, साइंस, सोशल स्ट्डीज, संस्कृत अौर पंजाबी में सभी में बच्चे फेल

स्कूल अगर बच्चों को 15% ग्रेस मार्क भी दे देगा, तब भी सभी बच्चे पास नहीं हो सकते।

जिम्मेदारों के ये हैं जवाब...

स्कूल में टीचर हैं नहीं, बच्चों को कैसे पढ़ाएं: प्रिंसिपल

प्रिंिसपल सुदेश का कहना है कि वह डीपीआई चंडीगढ़ को कई लेटर लिख चुकी हैं िक स्कूल में टीचर ही नहीं हैं। बिना टीचर बच्चों को कैसे पढ़ा सकते हैं। उन्होंने भास्कर को उन ईमेल्स की कॉपी भी मुहैया करवाई, जिसमें स्कूल में टीचर्स की कमी के बारे में लिखा गया है। लेटर में इंग्लिश, साइंस, सोशल स्टडी, पंजाबी व संस्कृत के टीचर भर्ती करने की मांग की थी।

बच्चे ही पढ़ाई में कमजोर थे: क्लास इंचार्ज

9वीं कक्षा के सेक्शन-बी की इंचार्ज रितू का कहना है कि यह स्कूल नया शुरू हुआ है। इसमें दूसरे स्कूलों के बच्चों को एडमिशन दी गई है। सभी बच्चे पढ़ाई में कमजोर थे, इसलिए बच्चे फेल हुए हैं।

देव समाज स्कूल में 11वीं में नई एडमिशन लेने वाले 80% स्टूडेंट फेल

चंडीगढ़ | आईएस देव समाज सीनियर सेकेंडरी स्कूल सेक्टर-21 में शनिवार को पेरेंट्स ने रोष प्रकट किया। कारण था कि 11वीं क्लास के 30 से ज्यादा स्टूडेंट्स फेल कर दिए गए। किसी को दो नंबर तो किसी को तीन नंबर से फेल किया गया है। पेरेंट्स ने अब डायरेक्टर स्कूल एजुकेशन आरएस बराड़ और डिस्ट्रिक्ट एजुकेशन ऑफिसर अनुजीत कौर को शिकायत की है। कहा कि स्कूल ने जानबूझकर उनके बच्चों को फेल कर दिया है।

मैं छुट्टी पर हूं। 3-4 दिन के लिए शहर से बाहर हूं, इसलिए इसकी जानकारी नहीं है। मैं अपने प्रिंसिपल का चार्ज भी देकर आई हूं।

-सुमति कंवर, प्रिंसिपल

ग्रेस मार्क्स तक नहीं दिए

पेरेंट्स ने कहा कि उनके बच्चों को ग्रेस मार्क्स तक नहीं दिए गए हैं। 4 महीने पहले स्टूडेंट्स को यह बोल दिया गया था कि उन्हें फेल कर दिया जाएगा और अगली क्लास में वह प्रमोट नहीं होंगे। शिकायत में स्टूडेंट्स ने लिखा है कि जो फेल हुए हैं, उनमें 80 परसेंट नई एडमिशन लेने वाले स्टूडेंट्स रहे।

पेरेंट्स के आरोप गलत हैं, क्योंकि हमने जो फेल किया है, वह बिल्कुल सही है। बाकी अभी सब्जेक्ट टीचर्स स्कूल में नहीं हैं। उनसे इस बारे में पूछा जाएगा।

-लवलीन बेदी, एक्टिंग प्रिंसिपल

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×