Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» कृषि प्रोग्रामों के लिए केंद्र-राज्य का हिस्सा फिर 90:10 किया जाए:कैप्टन

कृषि प्रोग्रामों के लिए केंद्र-राज्य का हिस्सा फिर 90:10 किया जाए:कैप्टन

सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिख कर कृषि क्षेत्र में पैदा हुए संकट से बचने के लिए...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 03:00 AM IST

सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिख कर कृषि क्षेत्र में पैदा हुए संकट से बचने के लिए विभिन्न कृषि विकास प्रोग्रामों के लिए फिर केंद्र और राज्य का 90:10 का हिस्सा अपनाने की अपील की है। कैप्टन ने कृषि को राह पर लाने और फ़सली विभिन्नता को लागू करने के अलावा किसानों की आय में विस्तार करने के लिए कृषि विकास प्रोग्रामों के लिए पहले वाले हिस्से को फिर लागू करने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया। उन्होंने कहा, पांच वर्षो में किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य उतनी देर तक प्राप्त नहीं किया जा सकता जब तक ज़रूरी संस्थाई समर्थन मुहैया करवाने पर ध्यान नहीं केन्द्रित किया जाता और इसके लिए ज़रूरी कदम नहीं उठाये जाते। मुख्यमंत्री ने कहा कि चाहे अनाज उत्पादन में पहले बहुत बड़ा विस्तार हुआ और गेहूं और धान अधीन बहुत ज्यादा कृषि योग्य ज़मीन आई परन्तु मौजूदा उपलब्ध प्रोद्यौगिकी के साथ इन फसलों की उत्पादन सामर्थ्य का लाभ पूरी तरह ले लिया गया है। एक तरफ़ उत्पादन बढ़ोतरी और किसानों की आय में वृद्धि के लिए काम किया जा रहा है और दूसरी तरफ़ गेहूँ और धान के फ़सली चक्कर के साथ पानी और मिटटी जैसे कुदरती साधनों का हद से अधिक प्रयोग किये जाने से इन साधनों के लिए चुनौती पेश आ रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि विभिन्न कारणों करके भारत भर में किसानों की हालत लगातार खराब हो रही है जिन में मौसम में तबदीली और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वस्तुओं की कीमतों में गिरावट भी शामिल है। उन्होंने कहा कि कृषि विकास प्रोग्रामों के लिए केंद्र और राज्य का हिस्सा फिर 90:10 करने के लिए पंजाब आग्रह कर रहा है जिसके साथ कृषि में निवेश को उत्साहित करने में मदद मिलेगी।

किसानों की हालत सुधारने को ठोस कदम उठाने होंगे

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×