Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» ऑल इंग्लैंड ओपन; 118 साल पहले शुरू हुआ था, तब सिंगल्स मुकाबले नहीं होते थे

ऑल इंग्लैंड ओपन; 118 साल पहले शुरू हुआ था, तब सिंगल्स मुकाबले नहीं होते थे

पहली ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप 4 अप्रैल 1899 को लंदन स्कॉटिश राइफल्स के हेडक्वार्टर में खेली गई थी। 63 खिलाड़ी शामिल हुए...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 14, 2018, 03:05 AM IST

ऑल इंग्लैंड ओपन; 118 साल पहले शुरू हुआ था, तब सिंगल्स मुकाबले नहीं होते थे
पहली ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप 4 अप्रैल 1899 को लंदन स्कॉटिश राइफल्स के हेडक्वार्टर में खेली गई थी। 63 खिलाड़ी शामिल हुए थे। इस टूर्नामेंट की नींव एक साल पहले गिल्डफोर्ड बैडमिंटन क्लब के सेक्रेटरी पर्सी ब्यूकले ने रखी थी। उन्होंने 10 मार्च 1898 को ड्रिल हॉल में पहला ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट आयोजित किया था। पहले इसे "द बैडमिंटन एसोसिएशन टूर्नामेंट' कहा जाता था। 1902 से "द ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियनशिप' कहा जाने लगा। तब से अब तक 8 बार वेन्यू बदले जा चुके हैं। 1994 के बाद से बर्मिंघम एरिना में खेला जाता है।

दुनिया के 5 खेलों के 5 टूर्नामेंट, जो 100 साल से अधिक समय से लगातार खेले जा रहे हैं...

ओलिंपिक 1896 से: यूनानी देवता ज्यूस के सम्मान में 776 ईसा पूर्व में हुए थे गेम्स

ग्रीक में 776 ईसा पूर्व में देवता ज्यूस के सम्मान में खेला गया था। उसी तर्ज पर एथेंस में 1896 में पहला ओलिंपिक हुआ। तब सिर्फ 13 देश इसमें शामिल हुए थे।

20 देशों के 300 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे, 5 दिन में 155 मैच होंगे

विंबलडन 1877 से: पहली बार मैगजीन में दिया गया था ओपन टूर्नामेंट का विज्ञापन

टेनिस का सबसे पुराना टूर्नामेंट। 1877 में पहली बार खेला गया। तब मैगजीन में इसका विज्ञापन दिया गया था। एंट्री फीस एक पाउंड, एक शिलिंग रखी गई थी।

चंडीगढ़ , बुधवार, 14 मार्च, 2018

बैडमिंटन दुनिया का सबसे तेज रैकेट स्पोर्ट्स है

बैडमिंटन दुनिया का सबसे तेज रैकेट स्पोर्ट्स है। स्मैश मारने के बाद शटल की स्पीड 300 किमी/घंटे होती है। टेनिस में सबसे तेज सर्विस का रिकॉर्ड 263 किमी/घंटे का है।

3 घंटे के टेनिस और एक घंटे के बैडमिंटन मैच की तुलना करें, तो...

टेनिस बैडमिंटन

मैच इंटेंसिटी 9% 48%

रैली 299 146

शॉट 1004 1972

हर रैली में शॉट 3.4 13.5

तय दूरी 3.2 किमी 6.4 किमी

कैलोरी बर्न 817 307

शटल: पहले बतख के बाएं पंख से शटल बनती थी। उसमें 16 पंख होते थे। अब सिंथेटिक शटल भी बनती है। वजन 5.5 ग्राम तक होता है।

रैकेट: पहले लकड़ी का रैकेट और बिल्ली की आंत से स्ट्रिंग बनती थी। अब कार्बन फाइबर और नायलोन की बनती है। वजन 80 से 100 ग्राम होता है।

एशेज 1882 से: ‘राख’ के लिए शुरू हुई ऑस्ट्रेलिया-इंग्लैंड क्रिकेट की राइवलरी

ऑस्ट्रेलिया ने 1882 में इंग्लैंड को उसी के देश मेंं हराया था। उस मैच की गिल्लियां जलाकर राख ट्रॉफी में रखी गई थी। इसी ट्रॉफी के लिए एशेज हो रहा है।

भारत से 13 खिलाड़ी शामिल; साइना को मिला कठिन ड्रॉ, पहला मैच टॉप सीड ताई जू यिंग से

इस बार भारत के 5 खिलाड़ी सिंगल्स में और 5 जोड़ियां डबल्स में हिस्सा ले रही हैं। 2015 की रनरअप साइना नेहवाल को कठिन ड्रॉ मिला है। पहला मुकाबला वर्ल्ड नंबर वन और टॉप सीड ताइवान की ताई जू यिंग से होगा। साइना-ताई का करिअर रिकॉर्ड 5-9 है। चौथी सीड पीवी सिंधु पहले मैच में थाईलैंड की पोर्नपावी सोशुवांग से भिड़ेंगी। पुरुष सिंगल्स में तीसरी सीड किदांबी श्रीकांत का पहला मैच फ्रांस के ब्राइस लेवेरडेज से, एचएस प्रणय का पहला मैच चीन के चोउ तियान चेन से और प्रणीत का द. कोरिया के सोन वान से होगा।

कैलकटा कप 1879 से: रग्बी टूर्नामेंट की ट्रॉफी कैलकटा (कोलकाता) में बनी थी

रग्बी का सबसे पुराना टूर्नामेंट इंग्लैंड और स्काॅटलैंड के बीच होता है। ट्रॉफी 1878 में कैलकटा (कोलकाता) में बनी थी। इसलिए कैलकटा कप कहा जाता है।

टूर्नामेंट की कुल प्राइज मनी 6.5 करोड़ रुपए, तीसरा सबसे ज्यादा पुरस्कार वाला टूर्नामेंट

ऑल इंग्लैंड में भारत:चार बार भारतीय पहुंचे फाइनल में, दो बार चैंपियन बने

भारत के दो खिलाड़ी ऑल इंग्लैंड चैंपियन बन सके हैं। प्रकाश पादुकोण ने 1980 और गोपीचंद ने 2001 में खिताब जीता था। 1981 में प्रकाश पादुकोण रनरअप रहे थे। साइना 2015 में फाइनल हार गई थीं।

सबसे सफल देश: 24 खिताब के साथ इंग्लैंड सबसे सफल देश है। डेनमार्क 20 खिताब के साथ दूसरे नंबर पर है।

सबसे सफल खिलाड़ी: ब्रिटेन के एलन थॉमस 21 खिताब के साथ सबसे सफल पुरुष और अमेरिका की जूडी 17 खिताब के साथ सर्वाधिक सफल महिला खिलाड़ी हैं।

बैडमिंटन में एशिया का दबदबा, ओलिंपिक में 90% मेडल एशियन खिलाड़ियों के नाम

बैडमिंटन ओलिंपिक में 1992 में शामिल किया गया था। तब से 103 ओलिंपिक मेडल में से 93 एशियन खिलाड़ियों ने जीते हैं। यानी, 90% से ज्यादा। सबसे सफल देश चीन और इंडोनेशिया हैं। इन देशों के खिलाड़ियों ने 70% बीडब्ल्यूएफ इवेंट्स जीते हैं। पुरुष वर्ल्ड टीम चैंपियनशिप ‘थॉमस कप’ 69 साल में सिर्फ तीन देशों ने जीती है। मलेशिया, इंडोनेशिया और चीन।

एफए कप 1871 से: ग्रेट ब्रिटेन के पहले अखबार के ऑफिसर ने दिया था आइडिया

इंग्लैंड में फुटबाॅल टूर्नामेंट का आइडिया ब्रिटेन के ‘द स्पोर्ट्समैन’ अखबार के ऑफिसर ने दिया था। पहला फाइनल केनिंगटन ओवल में खेला गया था।

8

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Chandigarh News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: ऑल इंग्लैंड ओपन; 118 साल पहले शुरू हुआ था, तब सिंगल्स मुकाबले नहीं होते थे
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×