--Advertisement--

तीन माह पहले ही हो गई थी सांपला को हटाने की तैयारी

चंडीगढ़/नई दिल्ली| केंद्रीय राज्यमंत्री एवं पंजाब भाजपा के प्रधान विजय सांपला से उनका कार्यकाल पूरा होने से पहले...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 03:05 AM IST
चंडीगढ़/नई दिल्ली| केंद्रीय राज्यमंत्री एवं पंजाब भाजपा के प्रधान विजय सांपला से उनका कार्यकाल पूरा होने से पहले ही यह जिम्मेदारी वापस ले ली गई है। अब केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली के नजदीकी माने जाते राज्यसभा सदस्य श्वेत मलिक को पंजाब भाजपा का नया प्रधान बनाया गया है। बताया जा रहा है कि करीब तीन माह पहले की सांपला को पद से हटाने की तैयारी हो गई थी, लेकिन आलाकमान ने पहले गुजरात और फिर त्रिपुरा, नगालैंड, मेघालय चुनाव की वजह से फैसले में देरी की। पार्टी ने 2019 के लोकसभा चुनाव में पंजाब में आधार बढ़ाने के लिए यह बदलाव किया है। अकाली दल के सुप्रीमो परकाश सिंह बादल और अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने मलिक को पंजाब भाजपा का प्रधान बनाने का स्वागत किया है। पूर्व में विधानसभा चुनाव से पहले आलाकमान ने केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली के करीबी कमल शर्मा को हटा विजय सांपला को प्रधान बनाया था।

रणनीति : लोकसभा की 6-7 सीटें चाहती है बीजेपी

भाजपा की रणनीति मलिक के जरिये पंजाब में गुटबाजी खत्म कर अकाली दल पर दबाव बढ़ाने की है। विधानसभा चुनाव के एक साल बाद और लोकसभा चुनाव से ठीक एक साल पहले मलिक की नियुक्ति से भाजपा ने साफ संदेश देने की कोशिश की है कि अकाली दल से नए सिरे से बातचीत की जाएगी। भाजपा की रणनीति बदले हुए जनसांख्यिकीय समीकरण के मद्देनजर सीट शेयरिंग में बदलाव किया है। अभी भाजपा और अकाली दल के बीच लोकसभा की 13 सीटों पर 3:10 का समीकरण है, लेकिन अब भाजपा की रणनीति कम से कम 6-7 सीटों पर लड़ने की है।