Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» 63.01% इजाफा स्नैचिंग में 3 साल में, 31.92% केस ही सॉल्व कर पाई पुलिस

63.01% इजाफा स्नैचिंग में 3 साल में, 31.92% केस ही सॉल्व कर पाई पुलिस

मोहाली जिले में वर्ष 2017 में इस साल अब तक भास्कर टीम. चंडीगढ़. लगातार बढ़ती स्नैचिंग की वारदातों से पब्लिक, खास...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 14, 2018, 03:10 AM IST

63.01% इजाफा स्नैचिंग में 3 साल में, 31.92% केस ही सॉल्व कर पाई पुलिस
मोहाली जिले में वर्ष 2017 में

इस साल अब तक

भास्कर टीम. चंडीगढ़. लगातार बढ़ती स्नैचिंग की वारदातों से पब्लिक, खास तौर पर महिलाएं और सीनियर सिटीजन खौफ के साये में जी रहे हैं। पुलिस के लिए हर स्नैचिंग सिर्फ एक केस है, लेकिन लोगों की चेन लुट रही है और चैन भी। जिन 113 लोगों के घर जाकर भास्कर टीम ने मुलाकात की, उनमें से 22 का सामान ही रिकवर हुआ है। कई महिलाओं का अपनी गोल्ड चेन से इमोशनल अटैचमेंट था तो जिनके पर्स छीने गए वो आज भी डॉक्यूमेंट्स बनवाने के लिए चक्कर काट रहे हैं। पुलिस के क्या इंतजाम हैं इस पर आज हाईकोर्ट में सुनवाई है।

चंडीगढ़ में स्नैचिंग का बढ़ता ग्राफ...

146

मोहाली-पंचकूला में भी चैन नहीं...

1009 कॉल आई स्नैचिंग की

412 कॉल एक ही स्नैचिंग की डबल आई

597 स्नैचिंग हुई इस हिसाब से, लेकिन

182 केस ही दर्ज हुए

वुमंस डे पर प्रीति की चेन ऐसे छीनी गई कि गले में गंभीर जख्म हो गया। (ऐसी ही महिलाओं की आपबीती उन्हीं की जुबानी पेज-2 पर)

स्नैचिंग के मुकाबले केस सॉल्व होने का रेट आधा...

159

161

238

2018 (अब तक)

56

पंचकूला में

79 कॉल स्नैचिंग की

19 केस ही दर्ज किए गए

76 स्नैचर दबोचे, सिर्फ 3 ज्वेलर

गोल्ड चेन छीनने वाले स्नैचर अपने घर में सोने का गोदाम नहीं बना रहे हैं। जाहिर है स्नैचिंग के बाद वह छीनी गई चेन ज्वेलर को बेचते हैं। पुलिस स्नैचर्स को तो पकड़ती है, लेकिन चोरी की चेन खरीदने वाले ज्वेलर्स पर नकेल नहीं कसती। 2017 में पुलिस ने 76 स्नैचरों को दबोचा, जबकि सिर्फ 3 ज्वेलर ही पकड़े गए, वह भी क्राइम ब्रांच ने पकड़े। ज्वेलर अच्छी तरह जानते हैं कि वह स्नैच की हुई चेन खरीद रहे हैं, क्योंकि ऐसी चेन टूटी हुई होती है। ज्वेलर इसे सस्ते दाम पर खरीदते हैं।

ऐसे होती है ज्वेलर्स से डील...

ऐसी चेन को गलाकर ज्वेलर तुरंत सोने का टुकड़ा बना देता है और फिर उससे नए गहने बनाता है।

पुलिस स्नैचर को दबोचकर उससे पूछताछ करती है तो वह ज्वेलर का पता बताता है।

पुलिस उस ज्वेलर तक पहुंचती है, लेकिन उसे अरेस्ट नहीं किया जाता।

उसे इसी शर्त पर छोड़ा जाता है कि वह उसी वजन की चेन दे जो स्नैच हुई थी।

स्नैचिंग के शिकार लोगों को पुलिस कोर्ट से ये चेन दिलवाती है।

उन्हीं ज्वेेलर्स को गिरफ्तार किया जाता है, जो चेन बरामद नहीं करवाते।

अगर पुलिस ज्वेलर्स को अरेस्ट करे और चेनों को केस प्रॉपर्टी बनाकर जब्त करे, तभी स्नैचिंग की वारदातें कम होंगी। जब तक ज्वेलर ऐसी चेन खरीदेंगे, तब तक स्नैचिंग जारी रहेगी।

...क्योंकि नहीं टूटती स्नैचर-ज्वेलर के बीच साठगांठ की कड़ी

सिर्फ 12 फीसदी ने कोर्ट में स्नैचर को पहचाना, 88 फीसदी हुए बाइज्जत बरी

स्नैचर पकड़े़ जाते हैं और कोर्ट से बच निकलते हैं, क्योंकि स्नैचिंग के शिकार लोग उन्हें पहचानने से ही इनकार कर देते हैं। 100 में से 88 मामलों में विक्टिम ने कोर्ट में आरोपी की शिनाख्त नहीं की। सिर्फ 12 ने ही स्नैचर को पहचाना। वहीं, पिछले दो सालों में यूटी पुलिस का स्नैचिंग के आरोपी को सजा दिलाने का सक्सेस रेट सिर्फ 40 फीसदी है। यानी हर 10 में से 6 स्नैचर बाइज्जत बरी हो जाते हैं।

1. स्नैचिंग का शिकार हुए ज्यादातर लोग कोर्ट में स्नैचर को पहचानने से इनकार कर देते हैं। गवाही से पहले ही इन्हें स्नैच किया हुआ सामान मिल जाता है।

सिर्फ नशा है स्नैचिंग की वजह,जब तक नशा खत्म नहीं तब तक होती रहेगी शहर में स्नैचिंग....

शहर में स्नैचिंग के बाद पुलिस स्नैचरों के पीछे लगती है, लेकिन इसकी जड़-नशे को खत्म करने की कोशिश कभी नहीं की गई। स्नैचिंग की सिर्फ एक वजह है नशा, जो शहर में खुलेआम बिक रहा है। इस साल अब तक 16 स्नैचर पकड़े गए, जिनमें 11 स्नैचर नशे के आदी हैं। नशे के लिए ही ये स्नैचिंग करते थे।

स्नैचिंग करने वालों की लिस्ट पुलिस के पास होती है, जिसमें दिलबाग, मनीष जैसे पुराने स्नैचर्स के नाम हैं। लेकिन अब पहली बार स्नैचिंग करने वाले सामने आ रहे हैं, जिनमें अच्छे घरों के लड़के भी हैं।

597 स्नैचिंग 182 केस ही दर्ज मोहाली में

79 स्नैचिंग 19 केस ही दर्ज पंचकूला में

इसके दो कारण हैं...

2. स्नैचर आमतौर पर चेहरा ढककर वारदात करते हैं। वहीं, पुलिस लोगों से बयान करवाती है कि वह सामने आने पर स्नैचर की पहचान कर सकते हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Chandigarh News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 63.01% इजाफा स्नैचिंग में 3 साल में, 31.92% केस ही सॉल्व कर पाई पुलिस
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×