Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» असि. प्रोफेसर को नौकरी से हटाने के हक में 32 सीनेटर और 18 ने डिमोशन के लिए दिया वोट

असि. प्रोफेसर को नौकरी से हटाने के हक में 32 सीनेटर और 18 ने डिमोशन के लिए दिया वोट

पंजाब यूनिवर्सिटी की रविवार को हुई सीनेट मीटिंग में सेक्सुअल हैरासमेंट मामले में पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 03:10 AM IST

पंजाब यूनिवर्सिटी की रविवार को हुई सीनेट मीटिंग में सेक्सुअल हैरासमेंट मामले में पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन डिपार्टमेंट के असिस्टेंट प्रोफेसर कोमल सिंह को सजा देने के लिए करीब पांच घंटे तक हंगामा होता रहा। तीन बार मीटिंग निरस्त हुई और वोटिंग भी कराई गई। नतीजा फिर भी बेनतीजा रहा, क्योंकि कोमल सिंह को पद से हटाने के लिए नियम अनुसार एक तिहाई वोट की जरूरत थी। वोटिंग में 51 सीनेटरों ने वोट किया। 18 ने उसका डिमोशन करने और 32 ने उसको नौकरी से हटाने के हक में वोट किया। एक वोट इनवैलिड रहा। बहस के दौरान स्थिति ये रही कि कुछ सीनेटरों ने कहा कि सजा अपराध के हिसाब से होनी चाहिए। उसने वर्बल एब्यूज किया है, उसको रेप की सजा नहीं दी जा सकती। इस पर प्रो. पैम राजपूत ने कहा कि ‘क्या आप रेप का इंतजार कर रहे हैं’। जब असिस्टेंट प्रोफेसर को पद से हटाने के लिए दलित कार्ड खेलने की कोशिश हुई और उसके परिवार को लेकर इमोशनल अपील हुईं तो पैम राजपूत फिर खड़ी हुईं। कहा कि ‘छाती ठोक कर कहें कि पुरुष सीनेटर कोमल सिंह को बचाना चाहते हैं। आरोपी असिस्टेंट प्रोफेसर ‘रेगुलर ऑफेंडर्स” है। वीसी प्रो. अरुण ग्रोवर ने मेजर पेनल्टी के तहत पद से हटाने का प्रस्ताव दिया। उनका कहना था कि वह डॉ. कोमल को साइकोलॉजिकल ट्रीटमेंट व सुधार का मौका दे चुके हैं। उनका ट्रांसफर भी किया गया, कोई असर नहीं दिखा। इसलिए वह अब स्टूडेंट्स के साथ रिस्क नहीं ले सकते।

धृतराष्ट्र या गांधारी मत बनिए: डीयूआई प्रो. मीनाक्षी मल्होत्रा ने कहा कि कोमल सिंह को नौकरी से हटाना जरूरी है, वर्ना लड़कियां हिम्मत नहीं करेंगी। 70 फीसदी वुमन फैकल्टी वाले डेंटल इंस्टीट्यूट में हैरासमेंट के जो मामले आए हैं, उसके लिए वुमन फैकल्टी पर धिक्कार होना चाहिए। सीनेट मेंबर इस मसले पर महाभारत के धृतराष्ट्र या आंखों पर पट्‌टी बांधने वाली गांधारी न बनें। ऐसा हुआ तो पेरेंट्स अपने बच्चों को पीयू कैंपस पढ़ने नहीं भेजेंगे।

क्या अब रेप का इंतजार...पेज-2

ये हैं तीन मेजर पेनल्टी

1. रिडक्शन इन रैंक/ग्रेड पे दोबारा छह हजार रुपए ग्रेड पे पर कर दिया जाएगा। एसोसिएट प्रोफेसर बनने के लिए उसे दोबारा आठ साल और लगेंगे। बिना सजा के वह दो साल में एसोसिएट प्रोफेसर बन सकते थे।

2. पद से हटाना, लेकिन वह किसी भी नौकरी के योग्य रहेंगे और दोबारा पीयू में अप्लाई कर सकेंगे।

3. पद से हटाना और हमेशा के लिए नौकरी के अयोग्य करना।

ये है मामला... पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन के असिस्टेंट प्रोफेसर कोमल सिंह ने अपनी स्टूडेंट को गलत मैसेज भेजे। कहा कि तुम्हारी आंखें मेरी प|ी जैसी हैं, इनमें दर्द है और मैं तुम्हें प्यार करता हूं। इसके बाद एक अन्य मामले में भी उसको दोषी करार दिया गया। इसमें उसने युवती के साथ मारपीट का भी प्रयास किया था। एक अन्य मामले में उसने अपनी क्लास में ही आकर स्टूडेंट्स से बदतमीजी की।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×