--Advertisement--

पूर्व भारतीय कप्तान सतगुर दयाल तलवाड़ का देहांत, कप्तानी में देश बना था एशिया कप चैंम्पियन

1955 में जापान में एशिया कप वॉलीबॉल का खिताब हासिल किया था। यहां पर वे बेस्ट स्मैशर भी चुने गए थे।

Danik Bhaskar | Nov 17, 2017, 06:19 AM IST

चंडीगढ़/पंचकूला. भारत को एशियन वॉलीबॉल चैंपियन बनाने वाले पंचकूला के सतगुर दयाल तलवाड़ का बुधवार देर रात को देहांत हो गया। वे 82 वर्ष के थे। वीरवार को मनीमाजरा में उनका अंतिम संस्कार किया गया। सतगुर दयाल अपने समय के शानदार स्मैशर रहे हैं और भारतीय वॉलीबॉल को बुलंदियों तक पहुंचाने में उन्होंने अपना अहम योगदान दिया। वे करीब चार साल तक भारतीय टीम के लिए खेले और उन्हीं की कप्तानी में भारत ने 1955 में जापान में एशिया कप वॉलीबॉल का खिताब हासिल किया था। यहां पर वे बेस्ट स्मैशर भी चुने गए थे।

भारतीय टीम की कप्तानी करने के साथ साथ उन्होंने हरियाणा और पंजाब वॉलीबाॅल टीम को कोचिंग भी दी। उनकी कोचिंग में दोनों टीमों ने कई खिताब हासिल किए। उन्होंने हरियाणा खेल विभाग में भी अपनी सेवाएं दीं। सतगुर दयाल 1992 तक हरियाणा खेल विभाग में डिप्टी डायरेक्टर के पद पर कार्यरत रहे। उन्हें अपनी शानदार उपलब्धियों के कारण कई सम्मान भी मिले और कई प्लेयर तैयार करने के लिए भी उन्हें याद किया जाता है। दयाल के बेटे राकेश तलवाड़ ने बताया कि वे कुछ समय पहले अपने कमरे में गिर गए थे जिस वजह से उनके हिप बोन में चोट आई थी। उनका ऑपरेशन कराया गया लेकिन उसके बाद से ही उनकी तबीयत स्थिर नहीं रही।

काफी प्रयासों के बाद भी उन्हें बचाया नहीं जा सका। बुधवार देर रात उन्होंने अंतिम सांसें ली। वे अपने पीछे अपनी पत्नी संजोग्ता, दो बेटे परवेश तलवाड़ और राकेश तलवाड़ और बेटी अंजू को छोड़ गए हैं। उनके देहांत पर वॉलीबॉल टीम के कप्तान रहे अमीर सिंह ने शोक जताया है। पंचकूला में रहने वाले अमीर ने कहा कि दयाल बड़े खिलाड़ी थे, जिन्होंने भारतीय वॉलीबॉल के लिए बहुत कुछ किया है।