Hindi News »Union Territory News »Chandigarh News »News» Music Companies Will Send ED Records

राॅयल्टी के बहाने करोड़ों का हेरफेर, म्यूजिक कंपनियों के रिकाॅर्ड खंगालेगी ईडी

BHASKAR NEWS | Last Modified - Nov 14, 2017, 05:05 AM IST

2500 करोड़ की रकम का गबन करने के शक में ईडी ने देशभर की म्यूजिक कंपनियों पर नकेल कसनी शुरू कर दी है।
राॅयल्टी के बहाने करोड़ों का हेरफेर, म्यूजिक कंपनियों के रिकाॅर्ड खंगालेगी ईडी
चंडीगढ़. सिंगर्स की रॉयल्टी मनी को आईपीआरएस और पीपीएल यानी फोनोग्राफिक परफार्मेंस प्राइवेट लिमिटेड के जरिए इकट्ठा कर करीब 2500 करोड़ की रकम का गबन करने के शक में ईडी ने देशभर की म्यूजिक कंपनियों पर नकेल कसनी शुरू कर दी है। इन म्यूजिक कंपनियों के खाते और रिकाॅर्ड पिछले एक हफ्ते से ईडी खंगाल रही है।

पहले चरण में जहां ईडी यानी इंफोर्समेंट डायरेक्टोरेट ने मुंबई की म्यूजिक कंपनियों पर नकेल कसते हुए उनके मुंबई, दिल्ली और कलकत्ता में रेड की थी। वहीं अब ईडी जल्द ही पंजाब की म्यूजिक कंपनियों के खाते भी खंगालने जा रही है। इसके तहत ईडी ने अब पंजाब की स्पीड रिकाॅर्ड, एसएमआई, अमर ऑडियो समेत कई म्यूजिक कंपनियों का रिकाॅर्ड भी खंगालना शुरू करने जा रही है। बताया गया कि इसी हफ्ते ईडी की स्पेशल इंफोर्समेंट टीम इस मामले में जांच करेगी। इससे खुलासा होगा कि कंपनियों ने पीपीएल और आईपीआरएस के जरिए जो रॉयल्टी का पैसा इकट्ठा किया। वह आगे सिंगर्स को मिला या नहीं। अब तक मुंबई की पांच कंपनियों के जरिए करीब 2500 करोड़ रुपये के गबन की जानकारी ईडी को मिली है,जिसकी जांच हो रही है। यह रकम 10 हजार करोड़ तक पहुंच सकती है। इस संबंध में ईडी अब इन कंपनियों के रिकार्ड कब्जे में लेने के साथ साथ उनके खाते भी सील कर सकती है।
दर्ज किया था मनी लांडरिंग का केस
वर्ष 2015 में ईडी ने आईपीआरएस और पीपीएल कंपनी पर मनी लांडरिंग का केस दर्ज किया था। फिल्म एक्टर एंड डॉयरेक्टर जावेद अख्तर ने आरोप लगाया था कि म्यूजिक कंपनियां सिंगर्स की करोड़ों की रॉयल्टी रकम आईपीआरएस और पीपीएल के जरिए इक्ट्ठा करती है जबकि आगे सिंगर्स तक पैसा जमा नहीं करवाया जाता। इसके अलावा इनकम टैक्स विभाग से भी इस रकम की जानकारी छिपाई जाती है। आरोप था कि कंपनियां पहले ही सिंगर्स से कांट्रेक्ट कर लेती है कि उनकी रॉयल्टी की रकम वह हासिल करेंगे, इसमें उनका कोई हिस्सा नहीं होगा। जबकि कानूनन रॉयल्टी की रकम में सिंगर्स का ही हिस्सा होता है। इसके बाद ईडी ने 2015 में केस दर्ज कर जांच शुरू की थी।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Chandigarh News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: raaeylti ke bahaane karodeon ka herfer, myujik knpniyon ke rikaerd khngaaalegai eedi
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From News

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×