चंडीगढ़ समाचार

--Advertisement--

विलक्षण प्रतिभा वाले दिव्यांगों को मिला भारत प्रेरणा पुरस्कार

डॉ. अनिल काशी मुरारका तथा ऐम्पल मिशन की अनोखी पहल को सबने सराहा

Danik Bhaskar

Apr 17, 2018, 08:33 PM IST

दिव्यांग होने के बावजूद शारीरिक बाधाओं एवं विपरीत परिस्थितियों का बहादुरी से सामना किया और अपनी अदम्य इच्छाशक्ति से कामयाबी के आसमान को चूम लिया। अपनी असाधारण उपलब्धियों से देश-विदेश के युवाओं के लिए प्रेरणा बनने वाली इन विशिष्ट प्रतिभाओं को समाजसेवी डॉ. अनिल काशी मुरारका द्वारा स्थापित ऐम्पल मिशन की ओर से 14 अप्रैल की शाम गोरेगांव पूर्व स्थित शैला लॉन्स में आयोजित एक रंगारंग समारोह में भारत प्रेरणा पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

अपनी लगन, तपस्या, कड़ी मेहनत और सतत संघर्ष के बल पर एक अलग मुकाम बनाने वाले इन पुरस्कार विजेताओं में शामिल मनोज बिंगारे, बंदे नवाज और नदीम शेख ने जहां हाथ नहीं होने के बावजूद मुंह और पैर से खूबसूरत पेंटिंग कर दर्शकों का मन मोह लिया, वहीं सुनने की शक्ति से वंचित होने के बावजूद प्रेरणा शहाणे ने अपने क्लासिकल डांस से समां बांध दिया। समारोह के मुख्य अतिथि मुंबई सबर्ब के कलेक्टर दीपेंद्र सिंह कुशवाहा, उत्तर मुंबई बीजेपी अध्यक्ष विनोद शेलार, जोश फाउंडेशन के डॉ. जयंत गांधी तथा देवांगी दलाल ने डॉ. मुरारका की इस अनोखी पहल की जमकर सराहना की। आयोजन समिति की ओर काशी चिरंजीलाल मुरारका ने शॉल एवं पुष्पगुच्छ देकर उनका अभिनंदन किया।

मानव कल्याण, परोपकार तथा समाजसेवा को जीवन का मिशन मानकर चलने वाले मीराकेम इंडस्ट्रीज के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ. अनिल मुरारका ने बताया कि महीनों की मेहनत और रिसर्च के बाद भारत प्रेरणा पुरस्कार के लिए इन विलक्षण प्रतिभाओं का चुनाव किया गया। कोई पुणे और रोहतक से है, तो कोई सूरत और कोयंबटूर से। सड़क दुर्घटना के बाद लकवाग्रस्त हो चुके वरुण आज मशहूर डीजे आमिष हैं तो शरीर की चूर-चूर हड्डियों के साथ जी रहे साईं कौस्तुभ दासगुप्ता जबर्दस्त सिंगर हैं। हाई वोल्टेज बिजली ट्रांसफॉर्मर का झटका खाकर एक हाथ और दोनों पैर गवां चुके पिंकेश कौशिक मैराथन में हिस्सा लेते हैं। व्हीलचेयर पर बैठे आदिल अंसारी तीरंदाजी के चैंपियन हैं और देश के लिए ओलंपिक मैडल लाना चाहते हैं। दुर्घटना में एक हाथ खोकर भी क्रिकेट खेलने वाले मयूर दुमासिया का जोशोखरोश देखकर हर कोई भौंचक रह गया। कल्पेश चौधरी, अक्षय देशमुख, मानसी गोखले, जैशल शाह से लेकर विराली मोदी, स्वर्णलता, एरिक पॉल तक हर विजेता की हैरतअंगेज कहानी हृदय को छू लेने वाली थी।

Click to listen..