Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» CM Jairam Meets Dalai Lama At Dharamsala

सीएम जयराम ने धर्मशाला में की दलाई लामा से भेंट

सीएम जयराम ने धर्मशाला में की दलाई लामा से भेंट

vikas sharma | Last Modified - Feb 01, 2018, 04:15 PM IST

धर्मशाला। तिब्बतियों के सर्वोच्च धार्मिक गुरु दलाई लामा ने कहा कि वर्तमान परिप्रेक्ष्य में आम नागरिकों तथा विशेषकर राजनीतिज्ञों को मानसिक शांति के लिए भारत के पुरातन ज्ञान के अध्ययन की आवश्यकता है। भावनाओं में बहकर व्यक्ति को वास्तविकता नज़र नहीं आती। ज्यादा इच्छाओं तथा ज्यादा क्रोध के कारण व्यक्ति को मानसिक शांति प्राप्त नहीं होती।


यह उद्गार दलाई लामा ने वीरवार को उनके निवास स्थान थकचेक चोलिंग में भेंट करने पुहंचे मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर से बातचीत करते हुए व्यक्त किए। दलाई लामा ने इस अवसर पर विभिन्न धार्मिक तथा सांस्कृतिक मुद्दों पर चर्चा की तथा कहा कि मुख्यमंत्री पर अबदोगुणी जिम्मेदारी है जिनमें प्रथम जिम्मेदारी सरकार का संचालन व लोगों का कल्याण तथा द्वितीय जिम्मेदारी पार्टी के प्रति है। उन्होंने कहा कि मानसिक तथा भावनात्मक नियंत्रण की कला भारतीय पुरातन ज्ञान की एक महान परम्परा है।


भारत ऐसा एकमात्र देश है जहां जैन, बौद्ध, सिक्ख, इसाई, मुस्लिम सभी धर्मों के लोग सौहार्द से एक साथ रहते हैं। पुरातन ज्ञान आज के समय में भी तर्कसंगत है। मानसिक तथा भावनात्मक स्वच्छता शांतिमय जीवन जीने के लिए आवश्यक है। मानसिक परिवर्तन लाना महत्वपूर्ण है तथा मानसिक ऊर्जा को दिशा देने के लिए भावनाओं का प्रशिक्षण अधिक महत्वपूर्ण है। उन्होंने पुरातन ज्ञान के सम्पूर्ण अध्ययन पर बल देते हुए कहा कि लोगों को इसे अपने जीवन में अपनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि आवश्यकता से अधिक लगाव क्रोध व तनाव का कारण है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×