--Advertisement--

रूचिका छेड़छाड़ मामले में दोषी को परेड सलामी पर मचा बवाल

रूचिका छेड़छाड़ मामले में दोषी को परेड सलामी पर मचा बवाल

Danik Bhaskar | Jan 28, 2018, 02:32 PM IST
मंच पर एसपीएस राठौड़। मंच पर एसपीएस राठौड़।

पंचकूला। गणतंत्र दिवस समारोह में अतिथियों के बीच स्टेज पर परेड की सलामी लेते हुए बीचों-बीच पूर्व DGP एसपीएस राठौड़ की मौजूदगी पर बवाल मच गया है। राठौड़ 14 साल की टेनिस खिलाड़ी रुचिका गिरहोत्रा से छेड़छाड़ करने के मामले में दोषी हैं। लोगों का आरोप है कि वो शख्स एक संगीन मामले में दोषी है इसके बावजूद वो प्रशासनिक अधिकारियों के साथ कैसे मौजूद हो सकता है। पढ़ें पूरी खबर...


26 जनवरी को पंचकूला के सेक्टर 5 में गणतंत्र दिवस मनाया गया। लेकिन समारोह में एसपीएस राठौर की मौजूदगी को लेकर प्रशासन पर तरह-तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं। रुचिका की सहेली और आनंद प्रकाश की बेटी आराधना ने आरोप लगाते हुए कहा कि 26 जनवरी कार्यक्रम में राठौर को बुलाना शर्म की बात। एक दोषी को स्टेज पर बुलाया गया और इज्जत दी गई।

ये था पूरा मामला...


1990 में तत्कालीन आईजी एसपीएस राठौड़ जो हरियाणा टेनिस एसोसिएशन के अध्यक्ष भी थे, पर 14 साल की टेनिस खिलाड़ी रुचिका गिरहोत्रा से छेड़छाड़ करने का आरोप लगा था। इस मामले में शिकायत करने पर रुचिका को स्कूल से निकाल दिया गया था। साथ ही रुचिका के परिवार ने राठौड़ के कहने पर हरियाणा पुलिस द्वारा परेशान करने की बात कही थी।

रूचिका ने जहर खाकर कर ली आत्म हत्या...

28 दिसंबर, 1993 को रुचिका ने जहर खाकर खुदकुशी कर ली थी। रुचिका छेड़छाड़ मामले को आनंद और मधु प्रकाश अदालत तक ले गए। इनकी बेटी आराधना रुचिका छेड़छाड़ मामले में प्रमुख गवाह बनी।

18 महीने की हुई थी सजा...


राठौड़ के खिलाफ मामला दर्ज हुआ और सरकार ने सीबीआई को जांच सौंप दी। एक लंबी लड़ाई के बाद 22 दिसंबर 2009 को घटना के 19 साल के बाद चंडीगढ़ कोर्ट ने राठौड़ को धारा 354 आईपीसी (छेड़छाड़) के तहत दोषी करार देते हुए छह महीने की कैद और 1,000 रुपए जुर्माना की सजा सुनाई थी, जिसे हाईकोर्ट ने बढ़ाकर 18 महीने कर दिया था।

आगे की स्लाइड्स भी देखें...