--Advertisement--

चाहत के उपचार पर हाईकोर्ट ने स्टेटस रिपोर्ट तलब की

सेल से गरीब मरीजों के उपचार में आने वाले खर्च पर सहयोग किया जा रहा है।

Danik Bhaskar | Jan 20, 2018, 05:44 PM IST

चंडीगढ़ . नौ महीने की बच्ची चाहत के वजन बढ़ने के मामले में पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने पीजीआई से उपचार पर स्टेटस रिपोर्ट तलब की है। पीजीआई की तरफ से कहा गया कि चाहत के दो लाख रुपये तक के टेस्ट दिल्ली से फ्री कराए गए हैं। इसके अलावा गरीब मरीजों के लिए पूअर पेशेंट असिस्टेंस सेल बनाया हुआ है। सेल से गरीब मरीजों के उपचार में आने वाले खर्च पर सहयोग किया जा रहा है।


अमृतसर निवासी नौ महीने की बच्ची चाहत का वजन 20 किलो से ज्यादा है। इस बीमारी के इलाज के लिए उसे चंडीगढ़ पीजीआई लाया गया था लेकिन पीजीआई ने इलाज करने से मना कर दिया था। हाईकोर्ट ने इस मामले पर संज्ञान लेते हुए पीजीआई को नोटिस जारी कर जवाब मांगा था। चाहत के जीन के सैंपल की टेस्टिंग के लिए दो लाख रुपए की जरूरत है।


यह रकम उसके पिता सूरज नहीं जुटा पाए तो पीजीआई के डॉक्टरों ने इलाज से हाथ खड़े कर दिए कि बिना पैसे इलाज नहीं हो सकता। परिवार वालों का कहना है कि चाहत जब पैदा हुई तो उसका वजन महज दो किलो था लेकिन धीरे धीरे उसका वजन बढ़ने लगा। चार माह की उम्र से चाहत का वजन लगातार बढ़ रहा है। उसका वजन 20 किलोग्राम तक पहुंच गया है। उसके माता पिता ने पहले अमृतसर के गुरु नानक देव हास्पिटल में इलाज कराने की कोशिश की लेकिन उसे उपचार के लिए पीजीआई रेफर कर दिया गया।