--Advertisement--

सीएम कैंडिडेट को लेकर हिमाचल में हंगामा, बीजेपी नेताओं की

सीएम कैंडिडेट को लेकर हिमाचल में हंगामा, बीजेपी नेताओं की

Danik Bhaskar | Dec 22, 2017, 11:21 AM IST
जयराम ठाकुर 1998 से लगातार 5वीं बा जयराम ठाकुर 1998 से लगातार 5वीं बा

शिमला. हिमाचल के मुख्यमंत्री की पोस्ट पर बीजेपी चुने हुए विधायकों में से ही किसी एक को बैठाएगी। DainikBhaskar.com को सोर्सेस ने बताया, "सीएम के लिए नाम पर सस्पेंस बरकरार है। जयराम ठाकुर का नाम सामने आने पर शुक्रवार को ऑब्जर्वर्स निर्मला सीतारमण और नरेंद्र सिंह तोमर के सामने धूमल समर्थकों ने हंगामा किया।" ऑब्जर्वर्स विधायकों से सीएम के नाम पर चर्चा के बाद दिल्ली रवाना हो गए हैं। इस बीच हिमाचल बीजेपी प्रभारी मंगल पांडेय ने कहा कि केंद्र ही सीएम का नाम तय करेगा। बता दें कि हिमाचल में बीजेपी को 44 सीटें और कांग्रेस को 21 सीटें मिली हैं।

धूमल से मिले ठाकुर, आशीर्वाद मांगा

- सोर्सेस के मुताबिक, "जयराम ठाकुर के नाम पर धूमल गुट सहमत नहीं है। वहीं बीजेपी धूमल को मनाने में जुटी है। पार्टी धूमल को राज्यसभा भेजने या राज्यपाल बनाने का भरोसा दे सकती है। इस बीच जयराम ठाकुर ने धूमल से मुलाकात की और उनका आशीर्वाद मांगा।"

2 दिन से ऑब्जर्वर्स हिमाचल में, MLAs और लीडर्स से ली राय


- ऑब्जर्वर्स निर्मला सीतारमण और नरेंद्र सिंह तोमर गुरुवार को शिमला पहुंचे। उन्होंने बीजेपी MLAs और लीडर्स की राय ली।
- सोर्सेस के मुताबिक, शुक्रवार को भी ऑब्जर्वर्स कोर कमेटी की मीटिंग के लिए पहुंचे, लेकिन यहां धूमल सपोर्टर्स ने हंगामा शुरू कर दिया।

धूमल के लिए सीट ऑफर की, लेकिन विरोध में भी हैं लोग
- इलेक्शन के दौरान बीजेपी के सीएम कैंडिडेट रहे प्रेम कुमार धूमल के लिए तीन विधायकों ने अपनी सीट छोड़ने के की पेशकश की है। धूमल चुनाव हार चुके हैं।
- न्यूज एजेंसी के मुताबिक, "कई सीनियर लीडर्स और कांगड़ा के सांसद ने धूमल को सीएम बनाए जाने के प्लान का विरोध किया है। इन लोगों का कहना है कि पार्टी ने क्लियर मेजॉरिटी हासिल की है। राज्य में कई ऐसे नेता हैं जो सीएम बनने के काबिल हैं। ऐसे में किसी हारे हुए नेता को सीएम बनाने से लोगों में गलत मैसेज जाएगा।'

धूमल रेस में पीछे क्यों?

- हिमाचल प्रदेश असेंबली इलेक्शन में बीजेपी ने सीएम के तौर पर प्रेम कुमार धूमल का नाम प्रोजेक्ट किया था। पार्टी ने तो शानदार जीत दर्ज की लेकिन धूमल सुजानपुर सीट हार गए। पार्टी के लिए इससे दिक्कतें बढ़ गईं।

कौन हैं जयराम ठाकुर?

- 5वीं बार मंडी जिले के सिराज विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुने गए हैं। ठाकुर 1998 में पहली बार विधायक बने थे। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) से अपना पॉलिटिकल करियर शुरू किया था। ठाकुर मंडी के राजकीय महाविद्यालय में पढ़ाई के दौरान ABVP से जुड़े। बीए करने के बाद वह जम्मू में होल टाइमर ABVP कार्यकर्ता बने। दस साल के बाद 90 के दशक में उन्हें मंडी के सिराज विधानसभा क्षेत्र से युवा मोर्चा का अध्यक्ष बनाया गया। इसके बाद 1993 में वह युवा मोर्चा के जिलाअध्यक्ष भी रहे।

CM के लिए और कौन से नाम चर्चा में?
- केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा, आरएसएस प्रचारक अजय जमवाल और शिमला से विधायक सुरेश भारद्वाज के नाम भी सीएम के लिए चर्चा में हैं।