चंडीगढ़ समाचार

--Advertisement--

आईजी की इंक्वायरी रिपोर्ट हाईकोर्ट ने तलब की

आईजी की इंक्वायरी रिपोर्ट हाईकोर्ट ने तलब की

Danik Bhaskar

Dec 14, 2017, 05:20 PM IST

चंडीगढ़। कैथल पुलिस के सीआईए स्टाफ द्वारा 14 साल की बच्ची के यौन शोषण मामले में हरियाणा सरकार के वकील ने वीरवार को पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान माना कि पुलिस कर्मियों की डयूटी में लापरवाही रही। आईजी करनाल रेंज ने अपनी जांच में सीआईए स्टाफ के चार पुलिस कर्मियों को ड्यूटी में कोताही के लिए जिम्मेवार पाया। इनमें से एक इंस्पेक्टर स्तर का अधिकारी भी है।


रात को लड़की तो थाने ले जाते समय महिला पुलिस को साथ मे नहीं लिया गया। हाईकोर्ट ने इस पर पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की जानकारी मांगी तो कहा गया कि चारों पुलिस कर्मियों को एक माह के लिए ससपेंड किया गया था।


इस पर याची के वकील प्रदीप रापड़िया ने कोर्ट में कहा कि सभी पुलिस वालों के खिलाफ तुरंत एफआईआर दर्ज की जाए। पुलिस कर्मियों को बचाने के लिए सस्पेंशन का ड्रामा रचा गया। इस पर कोर्ट ने सरकार को आईजी की इंक्वायरी रिपोर्ट को कोर्ट में पेश करने के निर्देश दिए हैं।


रापड़िया ने कोर्ट को बताया कि सीआईए पुलिस रेप पीडि़ता को महिला थाने ले जाने की बजाय रात को 10 बजे सी.आई.ए. थाना ले गई और वहां पर उसके साथ हुए दुष्कर्म की पुष्टि करने की जांच के बहाने उससे दुर्व्यवहार किया।

Click to listen..