--Advertisement--

अब दिल्ली जीतने को तैयार भारतीय डब्ल्यूडब्ल्यूई स्टार जिंदल माहल

अब दिल्ली जीतने को तैयार भारतीय डब्ल्यूडब्ल्यूई स्टार जिंदल माहल

Dainik Bhaskar

Dec 08, 2017, 05:43 PM IST
दिल्ली पहुंचने पर ऐसे हुआ  जिं दिल्ली पहुंचने पर ऐसे हुआ जिं

चंडीगढ़। वर्ल्ड रेसलिंग एंटरटेनमेंट अब भारत में है और सभी फैंस डब्ल्यूडब्ल्यूई स्टार जिंदर माहल को रिंग में लड़ते देखने को बेताब हैं। माहल भले ही भारत से हैं, लेकिन यहां पर वे पहली बार रिंग में होंगे। जिंदर दूसरे ऐसे भारतीय हैं, जिन्होंने डब्ल्यूडब्ल्यूई चैंपियन की बेल्ट हासिल की थी। इससे पहले खली ने इस बेल्ट पर कब्जा किया था। डब्ल्यूडब्ल्यूई का खिताब उन्होंने मनी इन द बैंक पीपीवी में हासिल किया है।

जिंदर का खल्लास मूव खासा लोकप्रिय है और जिंदर हाल ही में डब्ल्यूडब्ल्यूई चैंपियन बने हैं। जिंदर के मामा पंजाबी पहलवान गदोवर सिंह सहोता उर्फ गामा पहलवान भी डब्ल्यूडब्ल्यूई रेसलर थे और 80 के दशक में उन्हें एक खूंखार रेसलर के रूप में जाना जाता था। जिंदर का पूरा नाम युवराज सिंह ढेसी है। उनका जन्म 19 जुलाई 1986 को कैनेडा के अल्बर्टा में हुआ था। उनके माता-पिता पंजाब में फिल्लौर के कंग अराइयां गांव के रहने वाले थे। जिंदर ने यूनिवर्सिटी आॅफ कैलगरी से कम्यूनिकेशन एंड कल्चर में डिग्री हासिल की है और अगर वे एक रेसलर न होते तो एक ब्रोकर होते। जिंदर 2010 में फ्लोरिडा चैंपियनशिप रेसलिंग के हीरो बने थे। वे पंजाबी में बात करते हैं जो उन्हें दूसरों से अलग बनाती है और वे पहले ऐसे फाइटर हैं जो पगड़ी पहनते हैं।

2014 में डब्ल्यूडब्ल्यूई से हुए थे अलग:

जिंदर माहल ने बचपन से ही फाइटिंग आर्ट सीखना शुरू किया और फाइटिंग को ही करियर बनाया। इसके बाद वे डब्ल्यूडब्ल्यूई के साथ जुड़े और 2014 में उनका डब्ल्यूडब्ल्यूई से कॉन्ट्रैक्ट खत्म हो गया और वे रिटेन नहीं किए गए। बाद में वे रॉ समर आॅफ चैंपियंस में राज सिंह के नाम से उतरे और टैग टीम चैंपियनशिप जीती। इसी साल युवराज को एक बार फिर डब्ल्यूडब्ल्यूई ने जिंदर माहल के तौर पर साइन किया। फिर उन्होंने रॉ में डेब्यू किया और वो भी हीथ स्लाटर के साथ। उन्होंने केसागो और बिग-शो जैसे बड़े रेसलर्स के साथ भी फाइट की।

- 21 मई को जिंदर ने दिग्गज रेसलर रैंडी आॅर्टन को हराकर डब्ल्यूडब्ल्यूई चैंपियनशिप पर कब्जा किया। जिंदर इस चैंपियनशिप को जीतने वाले दूसरे भारतीय बने थे, इससे पहले द ग्रेट खली इस बेल्ट को जीत चुके थे। जिंदर पर पहले स्टेरॉयड लेने के इल्जाम भी लगे थे, लेकिन बाद में उन्हें बेकसूर माना गया। जिंदर 700 में से 590 मुकाबले जीत चुके हैं और वे कनाडा के हैवीवेट चैंपियन भी हैं। जिंदर खली के साथ भी फाइट कर चुके हैं।


खल्लास है जिंदर का स्टार मूव:

युवराज उर्फ जिंदर ने रैंडी के साथ मैच के लिए खास तैयारी की थी। वे इसमें एक खास मूव के साथ आए, जिसका नाम खल्लास था। खल्लास बॉलीवुड का फेमस गाना भी है। ये शब्द भारत में काफी बोला जाता है जिसके चलते उन्होंने मूव का नाम ये रखा। इसका उद्देश्य भारतीय दर्शकों को खींचना भी था।

मूव का मतलब ही होता है- खत्म करना (खल्लास)!

जिंदर महल अप्रैल 2017 में डब्ल्यूडब्ल्यूई वर्ल्ड चैंपियनशिप में नंबर वन कंटेंडर बने थे। वे 700 में से 590 मुकाबले जीत चुके हैं। जिंदर कनाडा के हैवीवेट चैंपियन भी हैं। वे डब्ल्यूडब्ल्यूई में खली के साथ भी फाइट कर चुके हैं। जिंदर ने स्मैक डाउन में अपना आखिरी मैच 27 मई 2014 को एल टोरंटो के खिलाफ खेला था। जिंदर ने 2003 में मार्शल आर्ट्स फिटनेस सेंटर से रेसलिंग करियर शुरू किया था।



X
दिल्ली पहुंचने पर ऐसे हुआ  जिंदिल्ली पहुंचने पर ऐसे हुआ जिं
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..