Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» Martyr Jagsir Singh Cremated With Full State Honours

विदेश से आकर दी शहीद भाई को अंतिम विदाई, बोली थी मेरा इंतजार करना

शहीद के पार्थिव शरीर को कल फौज की तरफ से हैलीकॉप्टर के द्वारा जम्मू से फिरोजपुर लाया गया था।

Ravi Kumar | Last Modified - Jan 02, 2018, 05:09 PM IST

  • विदेश से आकर दी शहीद भाई को अंतिम विदाई, बोली थी मेरा इंतजार करना
    +11और स्लाइड देखें
    बहन के विदेश में होने के कारण शहीद हुए लोहगढ़ ठाकरां के जगसीर सिंह का सोमवार को संस्कार नहीं हो पाया था।

    फिरोजपुर। राजौरी जिले के नौशहरा सेक्टर में एलओसी पर रविवार सुबह हुई पाक फायरिंग में शहीद हुए पंजाब-19 बटालियन का गांव लौहगढ़ ठाकरांवाला निवासी जवान जगसीर सिंह का मंगलवार को राकजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया। शहीद की चिता को मुखाग्नि उनके भाई जसबीर सिंह ने दी। शहीद के अंतिम संस्कार को आस्ट्रेलिया में रह रही छोटी बहन पवनदीप कौर के कहने पर सोमवार को रोक दिया गया था। जिसके बाद आस्ट्रेलिया से आकर छोटी बहन ने अंतिम विदाई दी। पढ़ें पूरी खबर...

    शहीद के पार्थिव शरीर को कल फौज की तरफ से हेलिकॉप्टर के द्वारा जम्मू से फिरोजपुर लाया गया था। जिसके बाद शहीद जगसीर सिंह की देह को पूरे सम्मान के साथ गांव लाया गया। जैसे ही शहीद जगसीर सिंह का पार्थिव शरीर गांव पहुंचा तो समूचे इलाकों में भारी शोक की लहर दौड़ गई।

    पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए...

    बड़ी संख्या में लोगों ने नमी आंखों के साथ शहीद जगसीर सिंह को अंतिम विदाई दी और शहीद जगसीर सिंह अमर रहे और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए। इस मौके फौज की टुकड़ी ने शहीद को सलामी दी और प्रशासनिक अधिकारियों, फौज और पुलिस अधिकारियों, बीएसएफ के अलावा अलग -अलग पार्टियों के सीनियर नेताओं ने शहीद की देह पर फूल मलाएं भेंट की।

    सोमवार को आना था 2 माह की छुट्‌टी...

    जगसीर अपने बेटे का दूसरा जन्मदिन 27 फरवरी को धूमधाम से मनाना चाहता था। इसीलिए 22 दिसंबर को 10 दिन की छुट्टी काटकर अपने घर से 2 माह की छुट्टी बढ़वाने के लिए वापस ड्यूटी पर गया था। दो माह की छ़ुट्टी मंजूर हो गई थी सोमवार को उसे गांव के लिए निकलना था। जवान घर तो नहीं पहुंचा मगर साल के आखिरी दिन रविवार को उसकी शहादत की खबर जरूर पहुंची।

    लगभग दो हजार से ज्यादा आबादी वाले गांव में करीब 15 जवान भारतीय सेना में सेवा दे रहे हैं। जवान रिटायरमेंट के बाद घर चुके हैं। गांव की पहली शहादत पर जहां एक और गम का माहौल है वहीं शहीद जगसीर सिंह के परिवार वाले शहादत पर मान महसूस कर रहे हैं।

    भाई और बहन हैं विदेश में...

    32 वर्षीय शहीद जवान जगसीर सिंह के एक भाई एक बहन है। छोटा भाई जसवीर सिंह 10 सालों से दुबई में रह रहा है छोटी बहन पवनदीप कौर भी आस्ट्रेलिया में रह रही है। भाई की मौत की खबर सुन विदेश में बैठी बहन के पैरों तले से जमीन निकल गई आपातकाल में उसने टिकट बुक करवाई भारत के लिए चल पड़ी। शहीद जवान की 7 साल पहले सुनेहरा निवासी महिंद्रपाल कौर से शादी हुई उससे उनके दो बेटियां एक बेटा है।

  • विदेश से आकर दी शहीद भाई को अंतिम विदाई, बोली थी मेरा इंतजार करना
    +11और स्लाइड देखें
    शहीद जगसीर की पत्नी बच्चों के साथ।
  • विदेश से आकर दी शहीद भाई को अंतिम विदाई, बोली थी मेरा इंतजार करना
    +11और स्लाइड देखें
    शहीद जगसीर।
  • विदेश से आकर दी शहीद भाई को अंतिम विदाई, बोली थी मेरा इंतजार करना
    +11और स्लाइड देखें
    बहन ने भाई के आखिरी दर्शन करने तक संस्कार न करने को कहा था।
  • विदेश से आकर दी शहीद भाई को अंतिम विदाई, बोली थी मेरा इंतजार करना
    +11और स्लाइड देखें
    अंतिम दर्शन करते शहीद के परिजन।
  • विदेश से आकर दी शहीद भाई को अंतिम विदाई, बोली थी मेरा इंतजार करना
    +11और स्लाइड देखें
    राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार।
  • विदेश से आकर दी शहीद भाई को अंतिम विदाई, बोली थी मेरा इंतजार करना
    +11और स्लाइड देखें
    लगभग दो हजार से ज्यादा आबादी वाले गांव में करीब 15 जवान भारतीय सेना में सेवा दे रहे हैं ।
  • विदेश से आकर दी शहीद भाई को अंतिम विदाई, बोली थी मेरा इंतजार करना
    +11और स्लाइड देखें
    गांव के 7 जवान रिटायरमेंट के बाद घर चुके हैं।
  • विदेश से आकर दी शहीद भाई को अंतिम विदाई, बोली थी मेरा इंतजार करना
    +11और स्लाइड देखें
    शहीद जवान की 7 साल पहले सुनेहरा निवासी महिंद्रपाल कौर से शादी हुई थी।
  • विदेश से आकर दी शहीद भाई को अंतिम विदाई, बोली थी मेरा इंतजार करना
    +11और स्लाइड देखें
    शहीद को सलामी देते सेना के जवानी।
  • विदेश से आकर दी शहीद भाई को अंतिम विदाई, बोली थी मेरा इंतजार करना
    +11और स्लाइड देखें
    शहीद जगसीर का अंतिम संस्कार।
  • विदेश से आकर दी शहीद भाई को अंतिम विदाई, बोली थी मेरा इंतजार करना
    +11और स्लाइड देखें
    शहीद जगसीर के अंतिम संस्कार में लगभग सारा गांव शामिल हुआ
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×