--Advertisement--

२०१७ था भारी, अब नहीं चाहता रिपीट हो, ये लिख उठाया ऐसा कदम

२०१७ था भारी, अब नहीं चाहता रिपीट हो, ये लिख उठाया ऐसा कदम

Danik Bhaskar | Jan 23, 2018, 11:00 AM IST
रस्सी टूटी तो एमबीबीएस के स्टू रस्सी टूटी तो एमबीबीएस के स्टू

लुधियाना. एमसी में एमबीबीएस कर रहे चौथे साल के स्टूडेंट ने हॉस्टल में फंदा लगा सुसाइड कर लिया। स्टूडेंट जॉयल जोसफ जॉन ने पहले रस्सी से फंदा लगाने की कोशिश की, लेकिन रस्सी टूट गई। इसके बाद बैडशीट का फंदा बनाया और पंखे से लटक गया। वह मूल रूप से कोच्ची केरल का रहने वाले थे। मौजूदा समय उनका परिवार कुवैत में रहता है। उसके पास से एक सुसाइड नोट भी मिला है, जिसमें उसमें लिखा है कि 2017 था बहुत भारी था, अब नहीं चाहता रिपीट हो।

घटना का पता उस समय चला जब सोमवार शाम जॉयल के क्लास में न आने पर क्लास खत्म होने के बाद उसके दोस्त उसे बुलाने कमरे में पहुंचे। जॉयल ने कमरे की दीवार पर स्कैच पैन से सुसाइड नोट भी लिखा है। जॉयल सीएमसी के खुड्‌ड मोहल्ला रोड पर बने रोज हॉस्टल में पहली मंजिल पर 28 नंबर कमरे में रहते थे। सोमवार दोपहर दो बजे उसकी क्लास थी, लेकिन वह क्लास में नहीं गए। उसके दोस्तों ने कई बार उनके मोबाइल पर फोन किया, लेकिन फोन भी नहीं उठाया। शाम को क्लास खत्म होने के बाद करीब सवा 6 बजे उनके क्लासमेंट एवल सजू और जूलियस उनके कमरे पर गए। उस समय कमरे का दरवाजा बंद था। कई बार खटखटाने के बाद भी दरवाजा नहीं खुला। दोनों ने धक्के मार कर कुंडी तोड़ी तो देखा कि जॉयल बैडशीट का फंदा बना पंखे से लटक रहा था। जॉयल को फंदे से उतार कर सीएमसी की एमरजेंसी में ले गए, जहां उन्हें डेड डिक्लेयर कर दिया गया। पुलिस ने फिलहाल 174 की कार्रवाई की है।


सुसाइड नोट में लिखा, 2017 था भारी, अब नहीं चाहता रिपीट हो


पुलिस के मुताबिक जॉयल ने कमरे की दीवार पर स्कैच पैन से इंग्लिश में सुसाइड नोट लिखा है। उसने लिखा है कि साल 2017 उस पर बहुत भारी था, उसने बहुत मुश्किल से दिन काटे हैं। अब वह नहीं चाहता कि वैसा ही कुछ उसकी लाइफ में रिपीट हो, इस कारण वह सुसाइड कर रहा है।