--Advertisement--

मिंगजोंग का उलटफेर जारी, सचित की हार के साथ भारतीय चुनौती खत्म

मिंगजोंग का उलटफेर जारी, सचित की हार के साथ भारतीय चुनौती खत्म

Danik Bhaskar | Jan 05, 2018, 05:49 PM IST

चंडीगढ़। आईटीएफ जूनियर्स सर्किट वर्ल्ड रैंकिंग ग्रेड-3 टेनिस टूर्नामेंट के बॉयज सिंगल्स में भारतीय चुनौती सचित की हार के साथ समाप्त हो गई। उन्हें कोरिया के अनसीडेड प्लेयर मिंगजोंग पार्क ने सीधे सेटों में हराकर फाइनल में जगह बना ली। अब मिंग का फाइनल में खिताब के लिए सामना फ्रांस के टेरेंन्स आतमाने के साथ होगा। उन्होंने चौथी सीड यूक्रेन के एरिक वांशेलबोइम को आसानी के साथ मात देकर खिताब की ओर कदम बढ़ाया। गर्ल्स में भी भारतीय चुनौती सेमीफाइनल में समाप्त हो गई। थर्ड सीड वैदेही चौधरी को यूक्रेन की डियाना खोदाम ने तीन सेट में मात दी। अब उनका खिताब के लिए सामना ब्रिटेन की एमा रादुकानो के साथ होगा।


बॉयज सिंगल्स के सेमीफाइनल में कोरिया के मिंगजोंग पार्क ने एक बार फिर से उलटफेर किया। वे इससे पहले सीडेड प्लेयर को हराकर यहां तक आए थे और सेमीफाइनल में उन्होंने सेकंड सीड सचित शर्मा को 6-4, 6-4 से हराकर बाहर कर दिया। मैच के शुरुआत से कोरियन टेनिस स्टार ने अटैकिंग मोड अपनाया और लगातार शॉट्स लगाने शुरू कर दिए। उनकी सर्विस को खेलना सचित के लिए मुश्किल हो रहा था लेकिन वे किसी तरह चार गेम जीतने में सफल रहे। मिंग ने पहले सेट में 6-4 से जीत हासिल की। दूसरे सेट में भी वे पूरी तरह से हावी रहे और भारतीय खिलाड़ी को एक एक अंक के लिए संघर्ष करना पड़ा। मिंग ने दूसरे सेट में पहले लीड हासिल की और फिर सेट 6-4 से खत्म करते हुए फाइनल में जगह बना ली। अब खिताब के लिए मिंगजोंग का सामना फ्रांस के टेरेन्स आतमाने के साथ होगा। उन्होंने भी सेमीफाइनल में उलटफेर किया और चौथी सीड यूक्रेन के एरिक वांशेलबोइम को 6-3, 6-4 से मात दी। फ्रांसिसी टेनिस प्लेयर ने पहले सेट में पिछड़ने के बाद वापसी की। एरिक ने उनपर दबाव तो बनाया लेकिन वे सेट जीतने में सफल नहीं हो पाए। एरिक ने पहला सेट 6-3 से गंवाया जबकि दूसरे सेट में उन्हें 6-4 से शिकस्त मिली।


वैदेही हुईं उलटफेर की शिकार:
गर्ल्स सिंगल्स में बची एकमात्र भारतीय खिलाड़ी वैदेही चौधरी सेमीफाइनल में उलटफेर की शिकार होकर बाहर हो गर्इं। सेकंड सीड वैदेही को यहां यूक्रेन की अनसीडेड प्लेयर डियाना खोदान ने तीन सेट तक चले लंबे मैच में 7-6(8), 0-6, 6-3 से हराया। डियाना ने पहले सेट में अच्छी गेम खेली और वे वैदेही के साथ उन्होंने स्कोर को 6-6 से बराबरी पर ला दिया। इसके बाद वे टाइब्रेकर में 7-6(8) से जीतने में सफल रहीं। दूसरे सेट में वैदेही ने अपनी क्लास दिखाई और एक भी गेम उन्हें जीतने नहीं दिया। 0-6 से सेट जीतकर उन्होंने मैच को बराबरी पर ला दिया। तीसरे सेट में डियाना ने 6-3 से सेट जीतकर खिताबी मुकाबले में जगह बना ली। अब खिताब के लिए डियाना का सामना ब्रिटेन की एमा रादुकानो के साथ होगा। उन्होंने सेमीफाइनल में स्लोवाकिया की जीवा फाल्कनर को सीधे सेटों में 6-3, 6-2 से हराकर बाहर कर दिया।


डबल्स टाइटल पर डच और बेल्जीयम टीम का कब्जा:
बॉयज डबल्स में बेल्जियम की टीम ने टाइटल हासिल किया जबकि लड़कियों में डच टीम चैंपियन रही। बॉयज डबल्स में बेल्जियम के लुइस और ओंचलिन का सामना चीन की चौथी सीड जोड़Þी झाओ झाओ और जिन्मू झाओ के साथ था। बेल्जियम की थर्ड सीड जोड़ी ने मैच को 6-3, 6-2 से जीतकर खिताब अपने नाम कर लिया। वहीं लड़कियों में डबल्स टाइटल डच टीम को मिला। फाइनल में जूली और इसाबेल के डच पेयर का सामना थाइलैंड की आॅचिंसा और हॉन्गकॉन्ग की होई की जेनी वांग के साथ था। डच पेयर ने मैच को 6-1, 7-5 से अपने नाम करके खिताब हासिल कर लिए।