--Advertisement--

हरियाणा के कालेजों की पीयू से एफिलिएशन पर पंजाब के जवाब का इंतजार

हरियाणा के कालेजों की पीयू से एफिलिएशन पर पंजाब के जवाब का इंतजार

Danik Bhaskar | Jan 16, 2018, 05:38 PM IST

चंडीगढ़। बढ़ते आर्थिक बोझ के चलते पंजाब यूनिवर्सिटी (पीयू) बंद होने के वाइस चांसलर (वीसी) के बयान पर हाईकोर्ट द्वारा स्वयं संज्ञान लेने के मामले में मंगलवार को हरियाणा के कालेजों से पीयू की एफिलिएशन पर पंजाब सरकार की तरफ से समय दिए जाने की मांग की गई। इस पर हाईकोर्ट ने सात फरवरी के लिए मामले पर सुनवाई स्थगित कर दी।



हाईकोर्ट ने केंद्र से पूछा कि पीयू की हरियाणा के कुछ कॉलेजों को जोड़ने के प्रस्ताव पर क्या कार्रवाई की गई। इस पर केंद्र की तरफ से एडीशनल सोलिस्टर जनरल सत्यपाल जैन ने कहा कि पंजाब व मानव संसाधन मंत्रालय से इस पर ओपिनियन मांगी है। मंत्रालय ने ओपिनियन दे दी है जबकि पंजाब के जवाब का इंतजार किया जा रहा है।

पंजाब यूनिवर्सिटी (पीयू) के वाइस चांसलर प्रो. अरुण कुमार ग्रोवर के सीनेट में दिए बयान पर पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट द्वारा स्वयं संज्ञान लिया है। सीनेट ने पीयू का 502.11 करोड़ का रिवाइज्ड बजट पास कर दिया। पीयू प्रशासन केंद्र सरकार से इस साल के 277 करोड़ के घाटे को पूरा करने के लिए रिवाइज्ड बजट में ये पैसा मांगा। पीयू सीनेट में रिवाइज्ड बजट पास करने के साथ ही वाइस चांसलर प्रो. अरुण कुमार ग्रोवर बोले कि अगर केंद्र से ये रिवाइज्ड बजट नहीं मिला तो पीयू बंद हो जाएगी।