--Advertisement--

टीम इंडिया, टीम इंडिया, टीम इंडिया,

टीम इंडिया, टीम इंडिया, टीम इंडिया,

Danik Bhaskar | Dec 08, 2017, 02:06 PM IST
सुखना लेक चंडीगढ़। सुखना लेक चंडीगढ़।

चंडीगढ़। चंडीगढ़ प्रशासन सुखना लेक को वेटलैंड नोटिफाई करने जा रहा है। इसको लेकर मिनिस्टरी ऑफ फॉरेस्ट के दिशा निर्देशों में एक वैटलैंड अथॉरिटी भी चंडीगढ़ में बनाई गई है। वैसे तो वैटलैंड नोटिफाई होने से सुखना को फ्यूचर में होने वाले खतरों से बचाया जा सकेगा लेकिन कमर्शियल तौर पर देखें तो चंडीगढ़ इंडस्ट्रियल एंड टूरिज्म डेवलपमेंट कारपोरेशन(सिटको) के लिए इससे परेशानी भी हो सकती है।

कमर्शियल एक्टिविटीज होगी डिस्ट्रिक्ट...

इससे कमर्शियल एक्टिविटी को कंट्रोल किया जाएगा। लेक में मोटर बोट चलाए जाने को लेकर हमेशा के लिए पाबंदी लग जाएगी। हालांकि पैडलिंग वाली बोट्स तो चलाई जा सकेगी। दरअसल सिटको के लिए सुखना कमाऊ पूत है और हर रोज कई लाख रुपए यहां से सिटको कमाता है। अकेले बोटिंग से ही करीब 2.50 से 3 लाख रुपए की कमाई होती है। इसके अलावा रेस्टोरेंट्स और बाकी शॉप्स वगैरह से अलग से 4-5 लाख रुपए की कमाई है।

लेकिन ये बेनीफिट भी...


सुखना को एन्क्रोचमेंट से बचाया जा सकेगा। लेक को आने वाले गंदे पानी को रोकने के लिए सख्त कदम उठाए जाएंगे।

लेक के 50 मीटर के दायरे में परमानेंट कंस्ट्रक्शन किए जाने पर पूरी तरह से पाबंदी लग जाएगी।

मैनमेड इस लेक को बचाने के लिए सही प्लानिंग बन पाएगी। हर साल तीन से चार मीटिंग्स सिर्फ सुखना को बचाने के लिए ही की जाएगी।