Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» The Story Of Beauty Queen Jyoti Ruppa

इस ब्यूटी क्वीन की कार ट्रक और बस के बीच गई थी पिस, ऐसी है इनकी कहानी

इस ब्यूटी क्वीन की कार ट्रक और बस के बीच गई थी पिस, ऐसी है इनकी कहानी

vikas sharma | Last Modified - Dec 14, 2017, 10:17 AM IST

चंडीगढ़. चीन में 'क्लासिक मिसेज एशिया इंटरनेशनल पॉपुलैरिटी क्वीन-2017' का खिताब जीतने वाली चंडीगढ़ बेस्ड ज्योति रुपाल ने भी लाइफ में कई उतार-चढ़ाव देखें हैं, लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और आज वे एक सफल वुमन हैं। चंडीगढ़ में मीडिया से बातचीत में उन्होंने शेयर किया कि कैसे एक हादसे के बाद चेहरे पर आए 50 स्टिच के बाद भी उन्होंने ब्यूटी क्वीन का खिताब जीता।



उन्होंने बताया कि दिल्ली की एक घटना है, जब ज्योति की कार ट्रक और बस के बीच पिस गई। इस एक्सिडेंट में ज्योति के चेहरे पर 50 स्टिच आए और हेड में सेंसेशन कम हो गया। इसकी वजह से वह एक साल बेड पर रहीं। उस वक्त ज्योति ने जीने की उम्मीद छोड़ दी थीं। यह घटना 20 साल पहले की थी। क्या आप यकीन करेंगे कि यही ज्योति हाल ही में क्लासिक मिसेज एशिया इंटरनेशनल पॉपुलैरिटी क्वीन-2017ज् का खिताब जीतकर लौटी हैं।


वे चंडीगढ़ में रह रहीं हैं। बताती हैं कि पहले-पहले मुझे अजीब महसूस होता था। मेरे पति ने भी मुझसे यही कहा कि मेरे लिए तुम वैसी ही हो जैसी पहले थी। इसलिए कोई फर्क नहीं पड़ता कि तुम कैसी दिखती हो। बस इसी बात ने मेरा हौसला बढ़ाया और फिर मैं समाज सेवा में जुट गई। वे कहती हैं कि मार्केट में ऐसे बहुत से प्रोडक्ट्स हैं जिससे आपके दाग कम हो जाते हैं। पर मेरे मुताबिक खूबसूरती अंदर से होती है। अगर आपका मन खूबसूरत है तो वो चेहरे पर ही जाएगा। इसलिए मुझे लगता है कि मैं पहले से ज्यादा सुंदर हो गई हूं। मेरे स्टिच मेरे अवॉर्ड बन गए। यही मौका था खुद को और बेहतर बनाने का।


अब चंडीगढ़ और पंजाब के क्षेत्र में करना है काम


उन्होंने असम और उत्तर-प्रदेश में साक्षरता अभियान को अंजाम दिया है। ज्योति आर्मी वाइव्स वेल्फेयर एसोसिएशन (आवा) से जुड़ी हुई हैं और डिफेंस के सीमित दायरे में रहकर महिला उत्थान के प्रति काम कर रही हैं। इसी योगदान के लिए इन्हें वर्ष 2008 में आवा एक्सीलैंस अवॉर्ड से नवाजा जा चुका है। ज्योति ने बताया- वह अब उपलब्धि के बाद इस दायरे के बाहर भी सामाजिक कल्याण और महिला सशक्तिकरण के प्रति ओर अधिक काम करना चाहती हैं। वे जल्द ही चंडीगढ़ और पंजाब में किसी गैर सरकारी संगठन संस्थानों से जुड़कर देश को प्रगति की राह में ले जाना चाहती हैं, जिसमें उनके पति कर्नल डीएस रूपाल उनका साथ देंगे। वह हर महिला को यही संदेश देती हैं कि खुद में विश्वास रखें।


ज्योति एजुकेशनिस्ट हैं और ट्रेवल इंडस्ट्री में भी काम कर चुकी हैं। बोलीं- बेटा दुबई में इंजीनियरिंग कर रहा है। मेरे पास समय था। इसलिए एक साल पहले मैंने मिसेज इंडिया के ऑडिशंस का विज्ञापन देखा। दिल्ली में हुए ऑडिशन में सिलेक्ट हुईं तो सेमिफाइनल में पहुंची। इसके बाद मिसेज इंडिया 2017 में फस्र्ट रनरअप रहीं। पिछले दिनों चीन के जेझियांग के डोंगयांग शहर के हैंगडियन वल्र्ड फिल्म सिटी में आयोजित मिसेज एशिया इंटरनेशनल वल्र्ड ग्रैंड फाइनल-2017 में हिस्सा लिया। इसमें वियतनाम, मलेशिया, फिलिपींस, चीन, न्यूजीलैंड, मकाऊ, यूके, थाइलैंड, सिंगापुर सहित तीस कंटेस्टेंट्स ने भाग लिया था। पर आर्मी ऑफिसर कर्नल डीएस रुपाल की पत्नी, ज्योति ने अपने जज्बे को बरकरार रखा और प्रतियोगिता में मिसेज पॉपुलैरिटी क्लासिक को अपने नाम किया।



आगे की स्लाइड्स में देखें तस्वीरें...

फोटोः जसविंदर सिंह



दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×