Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» Two Teachers Have Been Suspended While Missing From The School In Himachal

पंजाब यूनिवर्सिटी गर्ल्स ने जीता नॉर्थ जोन में गोल्ड

पंजाब यूनिवर्सिटी गर्ल्स ने जीता नॉर्थ जोन में गोल्ड

gaurav marwaha | Last Modified - Dec 07, 2017, 05:42 PM IST

शिमला।हिमाचल प्रदेश के सरिमौर जिला में शिक्षा खंड शिलाई के अंतर्गत आने वाले स्कूल कांडीय-कोटी में स्कूल से गायब रहने पर दो शिक्षकों को सस्पेंड किया गया है। इन शिक्षकों को सोशल मीडिया में वॉयरल हुए वीडियों के आधार पर किया गया है जिसमें एक मासूम स्टूडेंट ने बताया कि यहां शिक्षक महीने में दस दिन ही आते हैं और और इस दौरान स्कूल भी स्टूडेंट्स खुद ही खोलते हैं। पढ़ें पूरी खबर...

एलिमेंट्री डिप्टी डायरेक्टर ने किया जारी कारण बताओ नोटिस...

एलिमेंट्री डिप्टी डायरेक्टर नाहन के आदेशों पर कार्रवाई अमल में लाई गई है। स्कूल के सीएचटी व शिक्षा खंड अधिकारी को भी जांच के आदेश जारी कर कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। गौरतलब है कि स्कूल से टीचर्स के गायब रहने को लेकर स्थानीय लोगों ने एक वीडियो बनाकर शिक्षा विभाग को दिया था, जिसके वॉयरल होने के बाद ये कार्रवाई अमल में लाई गई।

यदि जवाब संतोषजनक नहीं रहा तो सीएचटी व शिक्षा खंड अधिकारी का निलंबन निश्चित होगा। शिक्षा विभाग की कार्रवाई से स्थानीय लोगों में खुशी की लहर है। अभिभावकों को विश्वास है कि अधिकारी कार्रवाई कर रहे हैं। इससे पहले अभिभावकों ने कार्रवाई न करने पर एक सप्ताह का अल्टीमेटम दिया था। क्या था पूरा मामला पांच दिन पहले प्राथमिक स्कूल कांडीय-कोटी में स्कूल में शिक्षकों सहित जलवाहक नदारद पाए गए थे। जिसका ग्रामीणों को पता चला तो ग्रामीणों ने स्कूल में ताले लगा दिए थे।

तीन दिन से नदारद थे टीचर्स...

हालांकि शिक्षा खंड अधिकारी के मौके पर जाने के बाद ग्रामीणों ने ताले खोल दिए थे मगर हाजरी रजिस्टर चेक करने पर पता चला कि एचटी चेत राम तीन दिनों से स्कूल नहीं पहुचे थे तो पैट टीचर दिनेश पांडे व स्कूल में कार्यरत जलवाहक एक-एक दिन से नदारद थे। मामले को भास्कर ने प्रमुखता से विभाग व स्थानीय लोगों के सामने लाया। जिसके बाद विभाग ने उक्त शिक्षकों पर कार्रवाई कर निलंबित किया है। साथ ही सीएचटी व शिक्षा खंड अधिकारी को इसलिए कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। फिर उनको स्कूल से शिक्षकों के नदारद होने की जानकारी क्यों नहीं है। आखिर विभाग व उच्चाधिकारियों को बिना बताए शिक्षक कैसे नदारद हो गए।

ग्रामीणों ने पंचायत को भी भेजी थी शिकायत...


इस स्कूल में टीचरों की अनियमितता को लेकर स्थानीय पंचायत ने भी शिकायत भेजी थी। शिकायत में आरोप लगाया गया था कि स्कूल की हालत काफी खस्ता है। यहां पर टीचर रेगुलर नहीं आते। सफाई व्यवस्था बूरी तरह चरमराई हुई है। टायलेट की हालत दयनीय है। पंचायत ने इसकी मौखिक और लिखित में शिकायत भेजी थी। लेकिन विभाग ने पहले इसका संज्ञान नहीं लिया। गांव वालों ने मौका देखकर खुद इसका वीडियो तैयार किया। तब जाकर विभाग की नींद टूटी।

आगे की स्लाइड्स भी देखें

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Chandigarh News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: yaha 20 din tak gaaayb rhte hain staaf smet teachers, students kholte hain school
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×