--Advertisement--

पंजाब यूनिवर्सिटी गर्ल्स ने जीता नॉर्थ जोन में गोल्ड

पंजाब यूनिवर्सिटी गर्ल्स ने जीता नॉर्थ जोन में गोल्ड

Dainik Bhaskar

Dec 07, 2017, 05:42 PM IST
स्कूल में अधर में लटका है भविष स्कूल में अधर में लटका है भविष

शिमला। हिमाचल प्रदेश के सरिमौर जिला में शिक्षा खंड शिलाई के अंतर्गत आने वाले स्कूल कांडीय-कोटी में स्कूल से गायब रहने पर दो शिक्षकों को सस्पेंड किया गया है। इन शिक्षकों को सोशल मीडिया में वॉयरल हुए वीडियों के आधार पर किया गया है जिसमें एक मासूम स्टूडेंट ने बताया कि यहां शिक्षक महीने में दस दिन ही आते हैं और और इस दौरान स्कूल भी स्टूडेंट्स खुद ही खोलते हैं। पढ़ें पूरी खबर...

एलिमेंट्री डिप्टी डायरेक्टर ने किया जारी कारण बताओ नोटिस...

एलिमेंट्री डिप्टी डायरेक्टर नाहन के आदेशों पर कार्रवाई अमल में लाई गई है। स्कूल के सीएचटी व शिक्षा खंड अधिकारी को भी जांच के आदेश जारी कर कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। गौरतलब है कि स्कूल से टीचर्स के गायब रहने को लेकर स्थानीय लोगों ने एक वीडियो बनाकर शिक्षा विभाग को दिया था, जिसके वॉयरल होने के बाद ये कार्रवाई अमल में लाई गई।

यदि जवाब संतोषजनक नहीं रहा तो सीएचटी व शिक्षा खंड अधिकारी का निलंबन निश्चित होगा। शिक्षा विभाग की कार्रवाई से स्थानीय लोगों में खुशी की लहर है। अभिभावकों को विश्वास है कि अधिकारी कार्रवाई कर रहे हैं। इससे पहले अभिभावकों ने कार्रवाई न करने पर एक सप्ताह का अल्टीमेटम दिया था। क्या था पूरा मामला पांच दिन पहले प्राथमिक स्कूल कांडीय-कोटी में स्कूल में शिक्षकों सहित जलवाहक नदारद पाए गए थे। जिसका ग्रामीणों को पता चला तो ग्रामीणों ने स्कूल में ताले लगा दिए थे।

तीन दिन से नदारद थे टीचर्स...

हालांकि शिक्षा खंड अधिकारी के मौके पर जाने के बाद ग्रामीणों ने ताले खोल दिए थे मगर हाजरी रजिस्टर चेक करने पर पता चला कि एचटी चेत राम तीन दिनों से स्कूल नहीं पहुचे थे तो पैट टीचर दिनेश पांडे व स्कूल में कार्यरत जलवाहक एक-एक दिन से नदारद थे। मामले को भास्कर ने प्रमुखता से विभाग व स्थानीय लोगों के सामने लाया। जिसके बाद विभाग ने उक्त शिक्षकों पर कार्रवाई कर निलंबित किया है। साथ ही सीएचटी व शिक्षा खंड अधिकारी को इसलिए कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। फिर उनको स्कूल से शिक्षकों के नदारद होने की जानकारी क्यों नहीं है। आखिर विभाग व उच्चाधिकारियों को बिना बताए शिक्षक कैसे नदारद हो गए।

ग्रामीणों ने पंचायत को भी भेजी थी शिकायत...


इस स्कूल में टीचरों की अनियमितता को लेकर स्थानीय पंचायत ने भी शिकायत भेजी थी। शिकायत में आरोप लगाया गया था कि स्कूल की हालत काफी खस्ता है। यहां पर टीचर रेगुलर नहीं आते। सफाई व्यवस्था बूरी तरह चरमराई हुई है। टायलेट की हालत दयनीय है। पंचायत ने इसकी मौखिक और लिखित में शिकायत भेजी थी। लेकिन विभाग ने पहले इसका संज्ञान नहीं लिया। गांव वालों ने मौका देखकर खुद इसका वीडियो तैयार किया। तब जाकर विभाग की नींद टूटी।

आगे की स्लाइड्स भी देखें

X
स्कूल में अधर में लटका है भविषस्कूल में अधर में लटका है भविष
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..