--Advertisement--

यूनेस्को की रिपोर्ट को रिव्यू किया पी यू की प्रोफेसर ने

यूनेस्को की रिपोर्ट को रिव्यू किया पी यू की प्रोफेसर ने

Danik Bhaskar | Dec 07, 2017, 04:21 PM IST

चंडीगढ़। पंजाब यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ़ कम्युनिकेशन स्टडीस की चेयरपर्सन प्रोफेसर अर्चना आर सिंह ने यूनेस्को की सोशल मीडिया पर बढ़ते वायलेंस और एक्सट्रीमइसम की रिपोर्ट को रिव्यू किया है। रिव्यू पैनल में वह एकमात्र भारतीय थी। यूथ एंड वायलेंस एक्सट्रीम एवं ऑन सोशल मीडिया मैपिंग द सर्च की रिपोर्ट सेराफिन अलवा, दिवना फ्रॉऊ मींज, घायदा हसन, हसन हुसैन और यानुअन वी ने तैयार की है।



यूनिवर्सिटी ऑफ पेरिस, साइकोलॉजी सोशल मीडिया यूनिवर्सिटी कनाडा, गूगल, यूनिवर्सिटी नैरोबी कैंपस, लंदन स्कूल ऑफ इकॉनॉमिक्स एंड पोलिटिकल साइंस से प्रतिनिधि रिव्यू पेनल में शामिल थे। सिंह ने रिपोर्ट के ड्राफ्ट और स्टडी से संबंधित इंप्रूवमेंट के लिए थे, जिसके लिए यूनेस्को ने उनको नॉलेज भी किया है।

स्टडी युवाओं में बढ़ते रेडिकल्सिज्म की जानकारी देती है। दुनिया भर में सोशल मीडिया का इस्तेमाल रेडिकल और अतिवाद के लिए किया जा रहा है। यह ऑनलाइन संस्कृत सर्विलांस काउंटर स्पीच और डिस्कशन की बात भी करती है। 2012 से 2016 तक रिसर्च की गई है, जिसका मकसद सोशल मीडिया पर अतिवाद हिंसा रेगुलेशन और उससे महिलाओं और बच्चों युवाओं पर असर को परखना है।