विज्ञापन

साइबर सेल की होगी अपनी बिल्डिंग, केस ट्रेस करने के लिए मिलेंगे नए टूल्स

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 07:20 AM IST

Chandigarh News - देश में बड़े बड़े स्टेट के अलावा अब चंडीगढ़ पुलिस का भी अपना तकनीकी रूप से सक्षम साइबर सेल होगा। इसके लिए यूटी...

Chandigarh News - cyber cell will be available to trace your building new tools
  • comment
देश में बड़े बड़े स्टेट के अलावा अब चंडीगढ़ पुलिस का भी अपना तकनीकी रूप से सक्षम साइबर सेल होगा। इसके लिए यूटी एडमिनिस्ट्रेशन ने एक जगह भी पुलिस को दी है। इसके पीछे कारण देश में अॉनलाइन बढ़ रहे फ्रॉड केस है।

अभी सेक्टर-17 के थाने में है साइबर सेल: दरअसल यूटी पुलिस के पास अभी भी सेक्टर 17 थाने में साइबर सेल है लेकिन वह अभी तकनीकी रूप से सक्षम नहीं है उन्हें कई केसों में उन्हें प्राइवेट कंपनियों की मदद लेनी पड़ती है लेकिन इस साइबर सेल के तैयार होने के बाद एेसा नहीं होगा। यूटी पुलिस का साइबर सेल हर केस को सॉल्व करने में बिना किसी प्राइवेट कंपनी की मदद के सक्षम होगा। इतना ही नहीं यह साइबर सेल समय रहते अपराधियों को पकड़ने में भी सक्षम होगा।

बताया गया कि साइबर सेल के लिए यूटी पुलिस की तरफ से खाका तैयार कर लिया गया है। उन्हें एक जगह भी दी जा चुकी है। अब वह इसे जल्द ही शुरू करने के लिए काम कर रहे हैं। हालांकि अभी यह क्लियर नहीं किया गया है कि इसे तैयार होने में कितना समय लगेगा। इस साइबर सेल में नए टूल्स होेंगे। जिसमें लाइव लोकेशन ट्रैकर, कई हार्डवेयर व सॉफ्टवेयर डिवाइस शामिल हैं। इसके अलावा हर तरह से यह साइबर सेल हाईटैक होगा। इसमें कोई भी साइट को बंद करने या चलाने के अधिकार साइबर सेल के पास होंगे।

अभी साइबर सेल को किसी भी साइट को बंद करना होता है तो उन्हें एक मेल लिखनी पड़ती है जिसके बाद संबंधित विभाग उस साइट को बंद करता है या साइबर सेल को पूरी डिटेल देता है लेकिन अब साइबर सेल खुद ही इसे कर सकेंगे। इससे केस हल करने में आसानी हो जाएगी।

ट्रैनिंग लैब होगी...दिन प्रतिदिन देश में साइबर क्राइम बढ़ रहा है। यह साइबर क्राइम के बाद एफआईआर रजिस्टर करने में भी धाराओं में कई बार बदलाव होते हैं इसके लिए एक ट्रेनिंग लैब होगी। जब भी साइबर सेल में किसी नए अॉफिसर की ट्रांसफर होगी तो उनके लिए यह लैब होगी जिसमें उन्हें ट्रेनिंग या नए एक्ट के बारे में विस्तार से बताया जाएगा। जिससे कि इन्वेस्टिगेशन में आईओ को किसी तरह की दिक्कतें न आए।



इस साइबर सेल में एक रिसर्च ब्लॉक होगा। जिसमें काम करने वाले साइबर एक्सपर्ट यह जांच करेंगे कि किस तरह के नए साइबर क्राइम हो रहे हैं और उन्हें कैसे रोका जा सकता है। ऐसे मामलों की जांच के लिए एक्सपर्ट तरीके भी ऑनलाइन खोजेंगे। वहीं एक सोशल मीडिया सेल होगा जिसमें आने वाले वीडियो को ट्रेस किया जाएगा। इसमें चल रही अफवाहों और सच्चाई को जांच करने के लिए इंटेलीजेंस गैदर की जाएगी। इस इंटेलीजेंस से पुलिस यह भी पता लगा पाएगी कि किस रैली में कितने लोग शामिल होंगे और कितनी गैदरिंग हो सकती है। इसके अलावा क्राइम के बाद फरार हुए क्रिमिनल्स को भी पकड़ने में साइबर सेल मदद करेगी। बताया गया कि साइबर सेल अभी भी मदद करता है लेकिन अब वह अपने टूल्स से तुरंत जानकारी हासिल करेंगे। साइबर क्राइम के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। आए दिन फोन या फिर अन्य तरीके से शातिर ठग लोगों को चपत लगाते रहते हैं।

X
Chandigarh News - cyber cell will be available to trace your building new tools
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543
विज्ञापन