डेथ, कोर्ट केस में कमेटी की अप्रूवल के बाद ही ट्रांसफर हो सकेगी प्रॉपर्टी

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:35 AM IST

Panchkula Bhaskar News - एचएसवीपी में प्रॉपर्टी ट्रांसफर करवाने के लिए अब नए प्रोसेस से गुजरना पड़ेगा। क्योंकि डेथ केस में प्रॉपर्टी केस...

Panchkula News - death can be transferred only after court approval in court case
एचएसवीपी में प्रॉपर्टी ट्रांसफर करवाने के लिए अब नए प्रोसेस से गुजरना पड़ेगा। क्योंकि डेथ केस में प्रॉपर्टी केस ट्रांसफर करने से पहले अब एक कमेटी जांच करेगी। जांच पूरी होने के बाद आपकी प्रॉपर्टी को ट्रांसफर किया जाएगा। खास तौर पर डेथ केस, ब्लड रिलेशन या दूसरे प्रॉपर्टी ट्रांसफर मसलों की जांच होगी। इसके लिए एचएसवीपी के इस्टेट ऑफिस में अलॉटमेंट ब्रांच, लीगल ब्रांच अौर अकाउंट ऑफिसर की कमेटी बनेगी।

एचएसवीपी में प्रॉपर्टी ट्रांसफर के मामलों में कई गड़बड़ियां सामने आने के बाद इस बारे में एक आवेदन एडमिनिस्ट्रेटर ब्रांच को भेजा गया है। जिसके अप्रूव होने के बाद कमेटी को बना दिया जाएगा। पंचकूला में ट्रायल होने के बाद इसे पूरे हरियाणा में लागू किया जाएगा। एचएसवीपी में डेथ केस प्रॉपर्टी ट्रांसफर करने के लिए कोर्ट डिग्री या विल चाहिए होती है। जिसके बाद ही प्रॉपर्टी ट्रांसफर होती है। इसके अलावा नॉर्मल प्रॉपर्टी को भी ट्रांसफर करने का काम होता है। लेकिन कुछ महीनों से पंचकूला सहित हरियाणा में कई जगह पर प्रॉपर्टी ट्रांसफर में गड़बड़ियां सामने आई। जिसके बाद इस बारे में एक्शन लिया जा रहा है। इस कमेटी में अकाउंट ब्रांच, मुख्य अकाउंट ऑफिसर, लीगल ब्रांच, अलॉटमेंट ब्रांच को शामिल किया जाएगा। क्योंकि प्रॉपर्टी से संबंधित गलतियों को पहले ही मौके पर पकड़ा जा सके।

जांच के बाद ही फाइल को अप्रूव किया जाएगा...

डेथ केस, ब्लड रिलेशन, कोर्ट केस में इन्वेस्टिगेशन के लिए इस कमेटी को बनाया गया है। यह कमेटी अकाउंट लेवल, पुरानी अलॉटमेंट और लीगल कोर्ट केस के बारे में सभी प्लॉट की जांच करेगी। जिसमें देखा जाएगा कि सबसे पहला अलॉटी कौन था, उसने कब किसे इस प्रॉपर्टी को ट्रांसफर किया। उसके बाद अकाउंट में पहले का बकाया पेंडिंग तो नहीं, एक्सटेंशन फीस आ चुकी है या नहीं। इसके अलावा कोर्ट में परिवार की ओर से कोर्ट केस तो नहीं किया गया है, कोई अन्य लीगल पॉइंट तो नहीं हैं। जिसके चलते प्रॉपर्टी पर ऑब्जेक्शन हो, यह भी तय किया जाना है कि अलॉटमेंट के अनुसार जो एड्रेस दिया गया है, वो पहले कब बदला गया है या नहीं। इन सभी पॉइंट्स पर जांच के बाद ही फाइल को अप्रूव किया जाएगा।

ये हो रहा बदलाव...

प्रॉपर्टी ट्रांसफर करने, प्रॉपर्टी डिटेल लेने, प्लॉट को लेकर किसी भी मामले में अप्लाई करने के लिए बाय हैंड कोई भी जानकारी नहीं दी जाएगी। अलॉटी की एप्लीकेशन आने के बाद रजिस्ट्री से ही सारी जानकारी और अप्रूवल के बारे में बताया जाएगा। अगर कोई भी लेटर आता है तो उस संबंधित प्रॉपर्टी के अलॉटमेंट एड्रेस पर वो जानकारी आएगी। अलॉटी ऑनलाइन अपने आप पासवर्ड से एड्रेस को चेंज कर सकते हैं।

अमित शर्मा | पंचकूला

एचएसवीपी में प्रॉपर्टी ट्रांसफर करवाने के लिए अब नए प्रोसेस से गुजरना पड़ेगा। क्योंकि डेथ केस में प्रॉपर्टी केस ट्रांसफर करने से पहले अब एक कमेटी जांच करेगी। जांच पूरी होने के बाद आपकी प्रॉपर्टी को ट्रांसफर किया जाएगा। खास तौर पर डेथ केस, ब्लड रिलेशन या दूसरे प्रॉपर्टी ट्रांसफर मसलों की जांच होगी। इसके लिए एचएसवीपी के इस्टेट ऑफिस में अलॉटमेंट ब्रांच, लीगल ब्रांच अौर अकाउंट ऑफिसर की कमेटी बनेगी।

एचएसवीपी में प्रॉपर्टी ट्रांसफर के मामलों में कई गड़बड़ियां सामने आने के बाद इस बारे में एक आवेदन एडमिनिस्ट्रेटर ब्रांच को भेजा गया है। जिसके अप्रूव होने के बाद कमेटी को बना दिया जाएगा। पंचकूला में ट्रायल होने के बाद इसे पूरे हरियाणा में लागू किया जाएगा। एचएसवीपी में डेथ केस प्रॉपर्टी ट्रांसफर करने के लिए कोर्ट डिग्री या विल चाहिए होती है। जिसके बाद ही प्रॉपर्टी ट्रांसफर होती है। इसके अलावा नॉर्मल प्रॉपर्टी को भी ट्रांसफर करने का काम होता है। लेकिन कुछ महीनों से पंचकूला सहित हरियाणा में कई जगह पर प्रॉपर्टी ट्रांसफर में गड़बड़ियां सामने आई। जिसके बाद इस बारे में एक्शन लिया जा रहा है। इस कमेटी में अकाउंट ब्रांच, मुख्य अकाउंट ऑफिसर, लीगल ब्रांच, अलॉटमेंट ब्रांच को शामिल किया जाएगा। क्योंकि प्रॉपर्टी से संबंधित गलतियों को पहले ही मौके पर पकड़ा जा सके।

नहीं होगा फर्जीवाड़ा...

यह कमेटी बनने के बाद इन्वेस्टिगेशन में ज्यादा समय लगेगा, लोगों के काम डिले होंगे। उन सभी कामों को उतने ही दिनों में किया जाएगा जितने दिनों का पब्लिक चार्टर जारी हं। प्रॉपर्टी ट्रांसफर में गड़बड़ियाें को पहले ही चरण में पकड़ा जा सकेगा। पंचकूला जोन में ट्रायल करने के बाद पूरे हरियाणा में इसे जारी किया जाएगा। जिसमें हरियाणा के सभी अर्बन इस्टेट आएंगे।

X
Panchkula News - death can be transferred only after court approval in court case
COMMENT