बढ़ रही स्ट्रे डॉग्स की समस्या के निदान के लिए कुत्तों को भेजा जाए नॉर्थ ईस्ट

Panchkula Bhaskar News - स्ट्रे डॉग्स की समस्या का समाधान पंचकूला प्रशासन नहीं कर पा रहा है। स्ट्रे डॉग्स गली-मोहल्ले में टू व्हीलर्स और...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 07:35 AM IST
Panchkula News - dogs should be sent to diagnose the problem of rising straw dogs
स्ट्रे डॉग्स की समस्या का समाधान पंचकूला प्रशासन नहीं कर पा रहा है। स्ट्रे डॉग्स गली-मोहल्ले में टू व्हीलर्स और फोर व्हीलर्स के पीछे दौड़ते हैं जोकि सड़क दुर्घटनाओं की वजह बनते हैं। रोजाना 10-12 लोग डॉग बाइट का भी शिकार हाे रहे हैं। इसके अलावा पंचकूला के आसपास के जंगलों से रोजाना अलग-अलग सेक्टरों में आने वाले बंदर भी लोगों के घरों में घुसकर नुकसान पहुंचा रहे हैं।

फेडरेशन ऑफ रेजिडेंट्स एसोसिएशंस की वीरवार को हुई एग्जीक्यूटिव कमेटी की मीटिंग में स्ट्रे डॉग्स और बंदरों की समस्या पर भी चर्चा हुई। फोरा के अध्यक्ष आरपी मल्होत्रा का कहना है कि मीटिंग में मेंबर्स ने प्रशासन से स्ट्रे डॉग्स, स्ट्रे एनिमल्स और बंदरों से नागरिकों की सुरक्षा के लिए कारगर कदम उठाने की अपील की है। मंेबर्स का सुझाव है कि स्ट्रे डॉग्स को नाॅर्थ ईस्ट ट्रांसफर किया जाए ताकि यह इंसानों के लिए आतंक बनने के बजाय मानव जाति की खुराक बन सकें। मल्होत्रा का कहना है कि कसौली के नजदीक सबाथू में गोरखा रेजिमेंट के जवान भी डॉग्स का मीट खुश होकर खाते हैं। शहर में इन कुत्तों को पकड़कर चंद किलोमीटर दूर गोरखा रेजिमेंट में भी भेजा जा सकता है। फोरा मेंबर्स ने मानसून नजदीक होने के बावजूद अब तक शहर की रोड गलियों की सफाई न कराए जाने पर भी चिंता जताई। फोरा के अध्यक्ष आरपी मल्होत्रा का कहना है कि एक तरफ म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन के कर्मचारी लंबी छुट्टियां लेकर पहाड़ों पर गर्मी दूर कर रहे हैं, दूसरी तरफ शहरवासी भीषण गर्मी से त्रस्त बरसात के लिए दुआ कर रहे हैं। दोनों इस बात से अनभिज्ञ हैं कि आने वाली बरसात क्या तबाही बरपाएगी। हर साल की तरह इस साल भी प्रशासन ड्रेनेज सिस्टम को सुधारने के मूड में नहीं है। प्रशासन में बैठे अफसर मस्त नींद सो रहे हैं। फोरा सदस्यों ने प्रशासनिक अफसरों से युद्ध स्तर पर ड्रेनेज सिस्टम को साफ कराने की अपील की है ताकि शहरवासी आने वाले मानसून में होने वाली तबाही से बच सकें।

अभी तक फोरा के सहयोग से घग्गर पार के सेक्टर 24, 25, 26 की समस्याओं को हाईलाइट किया जा चुका है। इस मीटिंग में रविंद्र शर्मा, एमसी सेठी, नरेश शर्मा, आरएन सहगल, एचसी गेरा, बीआर मेहता, उपेंद्र पाठक समेत 11 मेंबर्स ने हिस्सा लिया।

कहा- सबाथू में गोरखा रेजिमेंट के जवान भी डॉग्स का मीट खाते हैं

इन समस्याओं पर भी हुई चर्चा... फोरा मेंबर्स ने बिजली के अनशेडयूलड कट्स पर भी चिंता जताई। मेंबर्स का कहना है कि जरा सी बारिश और तेज हवाएं चलने के बाद दो दो तीन घंटे के कट लगाए जा रहे हैं। भीषण गर्मी में बिजली के घंटों कट लगने से लोगों की मुसीबत का अंदाजा लगाया जा सकता है। मीटिंग में सेक्टर 14 के शोरूमों के सामने सड़क की जर्जर हालत का मुद्दा भी उठा। कई साल से इस रोड की रीकार्पेटिंग नहीं की गई है। हालात यह है कि सड़क में गड्‌ढ़े ही गड्‌ढे हैं। फोरा अध्यक्ष आरपी मल्होत्रा का कहना है कि फेडरेशन शहरवासियों को हर मुलभूत सुविधाएं मुहैया करवाने के लिए प्रयासरत हैं। इसके लिए लगभग सभी सेक्टरों की आरडब्ल्यूए का भी सहयोग मिल रहा है। हर हफ्ते किसी एक सेक्टर की समस्याओं को सेक्टरवासियों की मदद से अखबार में प्रकाशित कर अफसरों को जगाने के प्रयास हो रहे हैं।

X
Panchkula News - dogs should be sent to diagnose the problem of rising straw dogs
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना