--Advertisement--

कजौली में 6 घंटे बंद रही बिजली, चंडीगढ़ में सुबह-शाम पानी आया लो प्रेशर

पानी का स्टोरेज कम होने से शहर में पानी की लो प्रेशर सप्लाई हो सकी। बुधवार सुबह पानी दूसरी मंजिल तक पहुंच पाएगा।

Dainik Bhaskar

May 02, 2018, 07:52 AM IST
drinking water crisis due to power cut in chandigarh

चंडीगढ़. भाखड़ा नहर की रिपेयर के चलते शहर में 6 मई तक 20 एमजीडी पानी कम पहुंचेगा। वहीं सोमवार को पंजाब स्टेट पावर काॅर्पोरेशन नेे कजौली के सब स्टेशन की रिपेयर के लिए सुबह 10 बजे से दोपहर 3 बजे तक बिजली कट लिया हुआ था। ऐसे में कजौली से भाखड़ा नहर का पानी सेक्टर-39 वाॅटर वर्क्स तक पौने 6 घंटे बाद पहुंचा। वाॅटर वर्क्स के यूजीआर में पानी कम रह गया। इसी की वजह सोमवार शाम को शहर में एक घंटा लो प्रेशर से पानी सप्लाई हुआ। वहीं मंगलवार सुबह 5 बजे से 8 बजे तक लो प्रेशर सप्लाई हुई। पानी पहली मंजिल तक नहीं पहुंचा। इसके कारण शहर वासियों को पानी की किल्लत झेलनी पड़ी। शहर के 393 लोगों ने निगम के शिकायत सेंटर पर पानी की शिकायत की। इसमें से एमसी ने 223 लोगों के घर पर 77 टैंकर भेजे। पानी की किल्लत को देखते हुए लोगों ने प्राइवेट टैंकर भी मंगवाए। सबसे ज्यादा शिकायतें सेक्टर-20 से आईं।

- निगम अफसरों का कहना है कि सोमवार को कजौली में बिजली कट लगने से पानी वाॅटर वर्क्स में पौने 6 घंटे बाद पहुंचा। पानी का स्टोरेज कम होने से शहर में पानी की लो प्रेशर सप्लाई हो सकी। बुधवार सुबह पानी दूसरी मंजिल तक पहुंच पाएगा।

सुबह-शाम मंगवाने पड़े टैंकर

पंजाब स्टेट पावर काॅर्पोरेशन ने सोमवार को कजौली में सुबह 10 से दोपहर 3 बजे तक बिजली कट लिया हुआ था। इस दौरान शहर में कजौली की 20-20 एमजीडी की चार लाइन से पानी नहीं पहुंचा। दोपहर 3 बजकर 5 मिनट पर बिजली चालू होने से कजौली वाॅटर वर्क्स की पंपिंग मशीनरी चली। इसके बाद सूखी लाइनों में कजौली से सेक्टर-39 वाॅटर वर्क्स तक 35 मिनट में पानी पहुंचा। यानी शहर में भाखड़ा नहर का पानी दोपहर बाद 3.40 बजे पहुंचने लगा। कजौली से पौने 6 घंटे बाद सेक्टर-39 के वाॅटर वर्क्स में पानी आया। इस वजह से सोमवार शाम सप्लाई शहर में पौना घंटा से एक घंटा तक ही लो प्रेशर से दी गई। एमसी के सेक्टर 39 के यूजीआर में पानी कम पड़ने की वजह से मंगलवार सुबह 5 से 8 बजे तक पानी लो प्रेशर से आया। मंगलवार शाम को भी लो प्रेशर से सप्लाई हुई। पानी शाम 7 बजे से 8.30 बजे तक दिया गया। पहली मंजिल से ऊपर पानी नहीं पहुंचा।

यहां पहली मंजिल पर नहीं चढ़ा पानी

सेक्टर 12, 26, 32, 37, 52 वाॅटर वर्क्स से जुड़े सभी सेक्टर में पहली मंजिल से ऊपर पानी नहीं पहुंचा। ग्राउंड फ्लोर पर रहने वालों को भी टॉयलेट के लिए सुबह ही बाल्टियां भरकर रखनी पड़ी। क्योंकि उनके वाॅटर टैंक पहली या दूसरी मंजिल की छतों पर रखे हुए थे। वहां तक पानी की सप्लाई नहीं पहुंची तो टंकी का पानी सूख गया।

सॉल्यूशन: पानी की स्टोरेज 2160 लाख से 8100 लाख लीटर करेंगे

शहर में अभी पानी की स्टोरेज कैपेसिटी 2160 लाख लीटर है। लेकिन वॉटर लाइन में कोई दिक्कत आए तो पानी सप्लाई में दिक्कत हो जाती है, क्योंकि शहर में रोज पानी की सप्लाई 3735 लाख लीटर होती है। इसी समस्या को दूर करने के लिए एमसी अब पानी की स्टोरेज को 2160 लाख लीटर से बढ़ाकर 8100 लाख लीटर करने जा रहा है। इसके बाद चंडीगढ़ में दो दिन तक पानी की सप्लाई में कोई प्रॉब्लम नहीं होगी। पहले फेज में एमसी सेक्टर-39 वाॅटर वर्क्स के अंडरग्राउंड रिजरवायर (यूजीआर) की कैपेसिटी 2160 लाख लीटर से बढ़ाकर 4050 लाख लीटर तक करेगा। मलोया में सीवर ट्रीटमेंट प्लांट वाली जमीन पर 90 एमजीडी का यूजीआर भी बनाएगा। शहर में दो दिन का पानी स्टॉक हो सकेगा। कजौली की किसी भी लाइन पर रिपेयर वर्क होने से लो प्रेशर की प्रॉब्लम्स नहीं रहेगी। ध्यान रहे कि शहर में भाखड़ा का पानी कजौली वाॅटर हेड से 20-20 एमजीडी की चार लाइन से सेक्टर-39 वाॅटर वर्क्स तक आता है। वहां से ही मोहाली, चंडीमंदिर और पंचकूला को हिस्सा दिया जाता है। सेक्टर-39 वाॅटर वर्क्स में अभी 48 एमजीडी पानी के लिए यूजीआर बना हुआ है। वहां से दूसरे सेक्टर के वाॅटर वर्क्स को वाॅटर सप्लाई होता है। कजौली की किसी एक फेज की लाइन की लीकेज की रिपेयर किए जाने से एक लाइन से रॉ वाटर नहीं पहुंच पाता है। इसके कारण ही शहर में पानी की शाॅर्टेज हो जाती है। क्योंकि एमसी के पास सेक्टर-39 वाॅटर वर्क्स में 48 एमजीडी पानी स्टाॅक रखने का यूजीआर बना हुआ है जबकि शहर को पानी की सप्लाई 83 एमजीडी (3735 लाख लीटर) होती है।

यूजीआर को बढ़ाने के लिए कंसल्टेंट ने दी रिपोर्ट
नगर निगम सेक्टर-39 के वाॅटर वर्क्स में 48 एमजीडी के यूजीआर को 90 एमजीडी का करेगा। कंसल्टेंट ने रिपोर्ट दे दी है। सेक्टर-39 वाॅटर वर्क्स में 4050 लाख लीटर पानी स्टॉक करने का यूजीआर बनाया जा सकता है। रिपोर्ट के बाद एमसी का पब्लिक हेल्थ विंग इसका एस्टीमेट तैयार करवाने लगा है। इसका एजेंडा मई की हाउस में मीटिंग में अप्रूवल के लिए लाया जाएगा।

सेक्टर 39 वाॅटर वर्क्स में अभी 48 एमजीडी का यूजीआर है इसे बढ़ाकर 90 एमजीडी किया जाएगा। कंसल्टेंट की रिपोर्ट आने के बाद एस्टीमेट पर काम होने लगा है। इसके बाद मलोया में 90 एमजीडी का यूजीआर बनाया जाना है। इनके बनने से शहर के दो दिन के पानी का स्टॉक हो जाएगा। ^
-मनोज बंसल, चीफ इंजीनियर, नगर निगम

X
drinking water crisis due to power cut in chandigarh
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..