Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» Haryana And Punjab Cm Meeting In Chandigarh

हरियाणा को क्या-क्या दें, पानी भी मांगता है: कैप्टन, खट्टर का जवाब-चंडीगढ़ को हरियाणा के लिए छोड़े पंजाब

पंजाब सीएम के सामने हरियाणा के मुख्यमंत्री ने रखी मांग।

‌Bhaskar News | Last Modified - Jul 11, 2018, 02:42 AM IST

हरियाणा को क्या-क्या दें, पानी भी मांगता है: कैप्टन, खट्टर का जवाब-चंडीगढ़ को हरियाणा के लिए छोड़े पंजाब

चंडीगढ़.सीएम मनोहर लाल ने एक बार फिर पंजाब से चंडीगढ़ को हरियाणा के लिए छोड़ने को कहा है। उन्होंने चंडीगढ़ में आयोजित एक कार्यक्रम में पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के सामने यह मांग रखी। पंचकूला-चंडीगढ़-मोहाली के योजनागत विकास को लेकर बुलाई पैनल चर्चा में कैप्टन ने कटाक्ष किया कि हरियाणा को क्या-क्या दें। पानी भी मांगता है। इस पर मनोहर लाल खट्‌टर ने कहा कि पंजाब नया चंडीगढ़ बसा रहा है। उसे नए चंडीगढ़ को राजधानी बना लेना चाहिए व चंडीगढ़ को हरियाणा के लिए छोड़ देना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह मंच ट्राईसिटी के योजनागत विकास की चर्चा के लिए था, पर कैप्टन ने दूसरे विषय पर अपनी बात रखी है। इसलिए उन्हें भी जवाब देना पड़ा।

राजस्व की हिस्सेदारी पर राजी नहीं:चंडीगढ़ के राजस्व को 60 और 40 के अनुपात में पंजाब व हरियाणा को देने के संबंध में सीएम ने कहा कि सरकारों का काम ईज आफ डूईंग के तहत राजस्व को देखना नहीं है, बल्कि चंडीगढ़ के राजस्व पर चंडीगढ़ के लोगों का पहला हक है। इसे उन पर प्रयोग किया जाना चाहिए। राजस्व की हिस्सेदारी ठीक नहीं हैं। इन तीनों शहरों के नगर निगमों को मिलकर काम करना चाहिए। एक बड़ी परियोजना बनाकर तीनों शहरों का विकास किया जा सकता है।


पंजाब विश्वविद्यालय से जुड़े हरियाणा के कॉलेज :चंडीगढ़ स्थित पंजाब विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाने के संबंध में उठाए प्रश्न पर मनोहर लाल ने कहा कि इस विश्वविद्यालय में पहले हरियाणा का भी हिस्सा रहता था, परंतु हरियाणा चाहता है कि इसमें हरियाणा को भी मिला लिया जाए और हरियाणा के कुछ काॅलेजों की मान्यता इस विश्वविद्यालय से दी जानी चाहिए ताकि गुणवत्तापरक शिक्षा हरियाणा के छात्रों को मिल सके। उन्होंने कहा कि यदि पंजाब ने इंडस्ट्रियल एरिया क्षेत्र की समस्याओं के निपटान के लिए कुछ अच्छी नीतियां बनाई हैं तो उन नीतियों का अध्ययन कराकर पंचकूला के उद्यमियों को भी राहत देने का काम किया जाएगा।

पानी पर भी दी सलाह:अमरिंदर ने जल स्त्रोतों पर पंजाब का हक जताया। इस पर खट्‌टर ने पंजाब को बड़ा भाई बताते हुए पानी की हकमारी न करने को कहा। बताया कि हरियाणा में भूजल स्तर 1500 फीट तक जा चुका है, जबकि पंजाब में यह 250 फीट तक है। पाक में व्यर्थ जा रहे पानी का सही प्रबंधन कर दोनों राज्यों के साथ दिल्ली व राजस्थान को भी अतिरिक्त पानी मिल सकता है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×