जांच में लापरवाही, पुलिस पर कॉस्ट लगनी चाहिए पर आखिरी मौका दिया: हाईकोर्ट

Chandigarh News - हिंदुस्तान मशीन टूल्स लिमिटेड एचएमटी की एम्पलाइज कोऑपरेटिव कंजूमर सोसायटी लिमिटेड में करोड़ों रुपए के घोटाले...

Jul 14, 2019, 07:25 AM IST
Chandigarh News - investigation should be done on negligence police costs but given last chance high court
हिंदुस्तान मशीन टूल्स लिमिटेड एचएमटी की एम्पलाइज कोऑपरेटिव कंजूमर सोसायटी लिमिटेड में करोड़ों रुपए के घोटाले में पंचकूला पुलिस की जांच पर पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने सवाल उठाए हैं जस्टिस महावीर सिंह सिंधु ने मामले में दो आरोपियों की अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि पुलिस इस मामले की जांच बेहद लापरवाह ढंग से कर रही है ऐसे में जांच को देखते हुए पुलिस पर कॉस्ट लगनी चाहिये लेकिन पुलिस को एक आखरी मौका दिया जा रहा है हाईकोर्ट ने मामले की जांच पर स्टेटस रिपोर्ट तलब की है हाई कोर्ट ने कहा कि पंचकूला पुलिस ने इस मामले में महज एक आरोपी दलजीत सिंह को ही गिरफ्तार किया है जो कि दर्शाता है कि पुलिस किस कदर गंभीरता से जांच कर रही है मामले में आरोपी सुनील सेठी और एक अन्य आरोपी की तरफ से अग्रिम जमानत याचिका दायर कर जमानत दिए जाने की मांग की गई है चएमटी इंप्लॉयज कॉपरेटिव कंज्यूमर सोसाईटी के बारें में कर्मिक संघ की ओर से वर्ष 2017 में एक शिकायत प्रबंधन को दी गई थी। जिसके चलते सोसाईटी में करोडों रूपयों का फ्रॉड होने की बात कही गई थी।

ये है मामला...

एचएमटी इंप्लॉयज कॉपरेटिव कंज्यूमर सोसायटी के बारे में एचएमटी कर्मिक संघ की ओर एचएमटी टूल्स एंड मशीन प्रबंधन को शिकायत दी गई थी। जिस पर पहले तो शिकायत को दबाया गया, लेकिन जब यूनियन नहीं दबी और बार-बार शिकायतें दी तो एचएमटी की विजिलेंस को मामले की शिकायत दी गई। जिसके बाद एचएमटी की विजिलेंस ने रिपोर्ट तैयार की। सभी डॉक्यूमेंट्स को लगाया गया और एक रिपोर्ट बनाकर पंचकूला पुलिस को दी। जिसके बाद पंचकूला पुलिस के इक्नोमिक सैल ने इंक्वायरी की। लिहाजा ये रिपोर्ट पंचकूला पुलिस कमिश्नर ऑफिस गई, जहां से अप्रूवल के बाद मैनेजमेंट के कई बडे अधिकारियों पर मामला दर्ज किया गया है।

इनकी रही भूमिका...

हिंदूस्तान टूल्स एंड मशीन के एचआरएम (डीजीएम) रहे पीके सिंहा को एचएमटी इंप्लॉयज कॉपरेटिव कंज्यूमर सोसाईटी का प्रेजीडेंट बनाया गया था। इस गडबड के सामने आने के बाद सिंहा को बचाते हुए हैदराबाद ट्रांस्फर कर दिया गया था। ट्रेनिंग सेंटर इंचार्च रहे और एचएमटी इंप्लॉयज कॉपरेटिव कंज्यूमर सोसायटी में मैनेजर प्रेेम चंद का नाम सामने आया तो उसे बचाने के लिए अजमेर ट्रांस्फर कर दिया गया था। वहीं एचएमटी इंप्लॉयज कॉपरेटिव कंज्यूमर सोसायटी में ट्रैजरार रहा मांगेराम अभी दिल्ली में है। इसके अलावा रिपोर्ट में दलजीत सिंह, दीपक भारद्वाज, सुनील सेठी, अनिल शर्मा, मोतीराम की भूमिका सामने आई हैकि ये सभी इस फ्रॉड में शामिल हैं

X
Chandigarh News - investigation should be done on negligence police costs but given last chance high court
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना