Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» ये मानकर चलो कि ब्रेकअप होने से दुनिया खत्म नहीं हो जाती

ये मानकर चलो कि ब्रेकअप होने से दुनिया खत्म नहीं हो जाती

लव असल में एक खिचड़ी है, जिसे बयां करना मुश्किल। खासतौर पर अल्फाज में कहना। क्योंकि इसमें एक नहीं दर्जनों इमोशंस...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 10, 2018, 02:00 AM IST

ये मानकर चलो कि ब्रेकअप होने से दुनिया खत्म नहीं हो जाती
लव असल में एक खिचड़ी है, जिसे बयां करना मुश्किल। खासतौर पर अल्फाज में कहना। क्योंकि इसमें एक नहीं दर्जनों इमोशंस होते हैं। इसकी एक परिभाषा नहीं है। मैं रोमांटिक जोनर में लिखता हूं। क्योंकि इसमें खुद को सहज पाता हूं। इमोशनल हूं पर नुकसान होने के बावजूद ठीक रहता हूं। इस अंदाज में राइटर रविंदर सिंह ने रोमांटिक कहानियों पर बात की। रविंदर की पहचान इंडिया के बेस्ट सेलिंग राइटर्स के रूप में है। आजकल वह अपनी नई बुक ‘विल यू स्टिल लव मी’ के लिए चर्चा में है। वह शनिवार को एलांते में मीट एंड ग्रीट सेशन के तहत शहर पहुंचे थे।

बोले- ब्रेकअप होने से दुनिया खत्म नहीं हो जाती। बस सोचना होता है कि अब हम जिंदगी को कैसे बिताना चाहते हैं। मेरी कहानियों में यही दर्द रहता है जो जिंदगी के अनुभवों से प्रभावित होता है। कहानियों में टूटे दिल का एलिमेंट रखता हूं। यही वजह है कि ज्यादा से ज्यादा लोग इनसे खुद को रिलेट कर पाते हैं। बाकी लेखकों की तुलना में काफी वक्त बाद बुक आती है, इसकी कोई खास वजह? इस पर रविंदर बोले- अपने मूड के हिसाब से लिखता हूं। अकसर सुबह के वक्त लिखना पसंद करता हूं। इससे काफी एनर्जी मिलती है। मुझे एक किताब लिखने में एक साल का वक्त लग जाता है। मैं लिखने को लेकर काफी इनडिसिप्लिंड हूं। आजकल मैं दो लाइंस लिखता हूं सोशल मीडिया पर। उसे लिखने में भी मुझे दो घंटे लग जाते हैं।

मीट एंड ग्रीट सेशन के दौरान बेस्ट सेलिंग राइटर रविंदर सिंह ने पैशन, प्यार, ब्रेकअप और बेस्ट सेलर बनने को लेकर बात की।

पैशन फॉलो कराे, मगर प्लान बी साथ में रखो

रविंदर कहते हैं- पैशन को फॉलो करो लेकिन उसके पीछे सबकुछ मत छोड़ो। कुछ भी काम शुरू करने से पहले ही सक्सेस के बारे में मत सोचो। दो साल का वक्त साथ लेकर चलो। फायदा भी हो सकता है और नुकसान भी। इसलिए वक्त देना जरूरी है। साथ ही प्लान बी भी तैयार रखो। यह मानकर चलो कि अगर इस दौरान हर चीज मनमुताबिक नहीं रही तो अपनी उसी दुनिया में वापिस आना है तो आपको अपनी पुरानी गलियां खुलीं मिले।

कहानियों में सैड एंडिंग तब खत्म होंगी...

लोग पूछते हैं कि आपकी कहानियों की हमेशा सैड एंडिंग होती है। मैं कहता हूं जिस दिन अखबारों में मुझे अच्छी खबरें पढ़ने को मिलेंगी। तब से मेरी कहानियों की एंडिंग भी हैप्पी होगी। मैं रोज सुबह जब अखबार पढ़ता हूं तो उनमें मुझे हादसों व वारदातों की खबरें पढ़ने को मिलती हैं। इन्हें पढ़कर मन काफी दुखता है।

बेस्ट सेलर बनने का कोई तरीका

यूं तो यह बुक्स के ज्यादा से ज्यादा बिकने पर तय होता है। टॉप दस बेस्ट सेलर राइटर्स की लिस्ट में एक नाम मेरा भी है। मैंने इसके लिए कुछ नहीं किया। कुछ राइटर हैं जो यह टैग चाहते हैं। असल में दस हजार बुक्स मार्केट में बिकने के बाद बेस्ट सेलिंग राइटर का नाम मिल जाता है। इसलिए लोग खुद को बेस्ट कहना पसंद करते हैं। आप भी बाहर निकलकर ओपन में खुद को बेस्ट बता सकते हैं। इसका कोई क्रिएटिव फॉर्मूला नहीं है। मेरी पहली बुक की ढाई लाख कॉपियां बिकी, इसका मतलब तो मैं काफी पहले बेस्ट सेलर बन गया था।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×