--Advertisement--

वर्ल्ड वॉर-1 ने पंजाब की राजनीति को भी किया प्रभावित

वर्ल्ड वॉर वन ने पंजाब पर काफी गहरा असर डाला। क्योंकि पंजाब का 80% बजट पानी, इम्पीरियल रिलीज़ फंड, एयरोप्लेन रिलीज फंड,...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 02:05 AM IST
वर्ल्ड वॉर वन ने पंजाब पर काफी गहरा असर डाला। क्योंकि पंजाब का 80% बजट पानी, इम्पीरियल रिलीज़ फंड, एयरोप्लेन रिलीज फंड, रिक्रूटमेंट रिलीज फंड और वॉर लोन को समर्पित था। देश की आर्थिक स्थिति पर भी इसका गहरा असर रहा। यह कहना था एसएस सोहल का। वह पंजाब यूनिवर्सिटी के डिपार्टमेंट ऑफ हिस्ट्री और डिपार्टमेंट ऑफ इवनिंग स्टडीज में ‘रोल ऑफ पंजाब इन वर्ल्ड वॉर-1’ पर पैनल डिस्कशन में बोल रहे थे। हिस्ट्री डिपार्टमेंट के स्टूडेंट्स की संस्था ऐतिहासिकी के इस प्रोग्राम का संचान वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व विधायक कंवर संधू ने किया।

खुद आर्मी रिक्रूट राजा... हिस्ट्री डिपाटमेंट की चेयरपर्सन प्रो. अंजू सूरी ने बताया कि ब्रिटिशर्स ने पंजाब से काफी ट्रुप्स साउथ अफ्रीका, इराक, फ्रांस में तैनात कर दीं थी। पटियाला, नाभा, मलेरकोटला, जींद जैसी प्रिंसली स्टेट्स से वहां के राजा खुद आर्मी रिक्रूट करते थे। एक और अंग्रेजों के विरोध के लिए गदर लहर चल रही थी और दूसरी ओर शाही घराने अंग्रेजों की आर्मी रिक्रूटमेंट में मदद कर रहे थे इसका असर आगे चलकर राजनीति पर भी पड़ा। क्योंकि आर्मी की भर्ती में मदद करने वाले अंग्रेजों के लॉयललिस्ट को फायदे भी मिले।

एजुकेशन रिपोर्टर | चंडीगढ़

वर्ल्ड वॉर वन ने पंजाब पर काफी गहरा असर डाला। क्योंकि पंजाब का 80% बजट पानी, इम्पीरियल रिलीज़ फंड, एयरोप्लेन रिलीज फंड, रिक्रूटमेंट रिलीज फंड और वॉर लोन को समर्पित था। देश की आर्थिक स्थिति पर भी इसका गहरा असर रहा। यह कहना था एसएस सोहल का। वह पंजाब यूनिवर्सिटी के डिपार्टमेंट ऑफ हिस्ट्री और डिपार्टमेंट ऑफ इवनिंग स्टडीज में ‘रोल ऑफ पंजाब इन वर्ल्ड वॉर-1’ पर पैनल डिस्कशन में बोल रहे थे। हिस्ट्री डिपार्टमेंट के स्टूडेंट्स की संस्था ऐतिहासिकी के इस प्रोग्राम का संचान वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व विधायक कंवर संधू ने किया।

ये कहा संधू ने...

संधू ने कहा फौजियों की डिप्लॉयमेंट वर्ल्ड वॉर-1 से काफी पहले शुरू हो गई थी। पंजाब के जवान चीन, अफ्रीका, इजिप्त, बर्मा, फिलिस्तीन में ब्रिटिश आर्मी के अंतरराष्ट्रीय कैंपेन का हिस्सा बने।