Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» इंडियाज बेस्ट ड्रामेबाज की रनरअप तमन्ना दीपक ने हमसे एक्टिंग, अपनी लर्निंग व चाहत पर बात की ।

इंडियाज बेस्ट ड्रामेबाज की रनरअप तमन्ना दीपक ने हमसे एक्टिंग, अपनी लर्निंग व चाहत पर बात की ।

छोटा भीम देखकर मैंने हिंदी सीखी... सिटी रिपोर्टर | चंडीगढ़ दो साल पहले, तकरीबन साढ़े चार साल की मेरी उम्र थी।...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 03, 2018, 02:05 AM IST

इंडियाज बेस्ट ड्रामेबाज की रनरअप तमन्ना दीपक ने हमसे एक्टिंग, अपनी लर्निंग व चाहत पर बात की ।
छोटा भीम देखकर मैंने हिंदी सीखी...

सिटी रिपोर्टर | चंडीगढ़

दो साल पहले, तकरीबन साढ़े चार साल की मेरी उम्र थी। मुझे इंग्लिश बोलनी नहीं आती थी जब मैंने इंडियाज बेस्ट ड्रामेबाज में पार्टिसिपेट किया। सेमी-फिनाले के वक्त मैं जज की कुर्सी पर बैठ गई। वो कुर्सी जज साजिद खान की थी। आते ही उन्होंने मुझसे पूछा, इंग्लिश बोलनी आती है आपको? मैंने कहा, नहीं। इसपर उन्होंने कहा कि यह कुर्सी सिर्फ उन्हीं लोगोें के लिए है जिन्हें इंग्लिश बोलनी आती है। इसलिए आप मेरे से बात मत करो। खुद ही सोचने की बात है कि इतने छोटे बच्चे को इंग्लिश कैसे आती होगी। उनकी यह बात मुझे काफी बुरी लगी। मुझे बिलकुल भी अच्छा नहीं लगा। बाद में काफी रोई भी। पर उनका मुझे यह कहाना मेरी बेहतरी के लिए था। उनकी वजह से मैंने इंग्लिश सीखी। अपनी अच्छी बुरी याद व लर्निंग का जिक्र करते हुए इंडियाज बेस्ट ड्रामेबाज की रनरअप तमन्ना दीपक ने यह कहा। तमन्ना असम से हैं। सात बरस की है। तीसरी क्लास में पढ़ रही है। टीवी शो बेस्ट ड्रामेबाज, यह वादा रहा, छोटे मियां धाकड़, डीआईडी लिटिल मास्टर्स से लेकर कई कॉमर्शियल कर चुकी हैं। एक मुलाकात में उन्होंने बातचीत में अपनी लर्निंग व चाहत पर बात की। उन्होंने कहा- मुझे छोटा भीम देखना पसंद है। मुझे पहले हिंदी नहीं आती थी। उसे देखकर मैंने हिंदी सीखी। पहले डॉक्टर बनना था। लेकिन अब प्रियंका चोपड़ा के जैसा एक्टर बनना है। उनकी तरह नाम कमाना है। जैसे लोग उन्हें पीसी कहते हैं वैसे मुझे भी टीडी कहकर पुकारे।

ऐसे आई टीवी में

तमन्ना कहती हैं- मेरा आना असल में बड़ी बहन की वजह से हुआ। नटखट हूं, खूब बातें किया करती हूं। किसी न किसी की नकल उतारा करती थी। दीदी अपने फोन में मेरी वीडियो बनाती रहती थी। उन्होंने टीवी पर ड्रामेबाज का प्रोमो देखा और मेरे वीडियो उनकी वेबसाइट पर अपलोड कर दिए। इस बारे में माॅम-डैड को पता नहीं लगने दिया। क्योंकि दीदी को लगा कि मुझमें एक्टिंग को लेकर एक पागलपन है। मेरा वीडियो सिलेक्ट हुआ और फिर कोलकाता ऑडिशन के लिए बुलाया गया। वहीं से सफर शुरू हुआ। पार्टिसिपेट किया और रनरअप बनी। दो साल पहले मुंबई शिफ्ट हुई। उसके बाद बाकी टीवी शो व कॉमर्शियल किए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×