चंडीगढ़ समाचार

--Advertisement--

एसएचओ रंजीत पर फूड वैन मालिक दो भाइयों और हवलदार पिता को पीटने का आरोप

चंडीगढ़ | शहर में सरेआम महिलाओं से स्नैचिंग करने वालों के सामने लाचार दिखने वाली यूटी पुलिस लाचार व्यक्तियों पर...

Dainik Bhaskar

Jun 15, 2018, 02:05 AM IST
एसएचओ रंजीत पर फूड वैन मालिक दो भाइयों और हवलदार पिता को पीटने का आरोप
चंडीगढ़ | शहर में सरेआम महिलाओं से स्नैचिंग करने वालों के सामने लाचार दिखने वाली यूटी पुलिस लाचार व्यक्तियों पर धौंस जमा रही है। बुधवार रात एक मामले में एसएचओ ने अपने कर्मियों के साथ मिलकर तीन लोगों से मारपीट की। इससे दो लोगों को फ्रेक्चर आया है जबकि तीसरे को चोटें लगी हैं। दरअसल आईटी पार्क में फूड वैन चलाने वाले दो भाइयों के साथ मनीमाजरा थाना एसएचओ रंजीत सिंह ने मारपीट की। इतना ही नहीं जब मदद के लिए उन्होंने यूटी पुलिस में तैनात अपने पिता हवलदार हीरा सिंह को बुलाया तो थाने में उन्हें भी पीटा गया। रात करीब 11 बजे थाने लाने के बाद सुबह चार बजे तक उन्हें थाने में ही बैठाए रखा गया। किसी तरह तीनों बाप बेटे थाने से निकले और उन्होंने जीएमसीएच 32 में अपना इलाज करवाया। फूड वैन के मालिक बेटे के मुताबिक उनके पिता व भाई को फ्रेक्चर आया है जबकि उनके शरीर पर चोटें आई हैं। फूड वैन मालिक द्वारा मैसेज लिखकर डीएसपी ईस्ट को शिकायत दी गई है, लेकिन डीएसपी द्वारा उन्हें कोई रिप्लाई नहीं किया गया।

बताया गया कि हीरा सिंह चंडीगढ़ पुलिस में तैनात हैं और उनकी ड्यूटी सेक्टर 34 थाने में है। उनका छोटा बेटा हरमनदीप सिंह आईटी पार्क में फूड वैन लगाता है। बुधवार को एसएचओ आईटी पार्क छुट्टी पर थे और एसएचओ मनीमाजरा रंजीत सिंह के पास उनका चार्ज था।

आरोप है कि बुधवार रात करीब साढ़े 10 बजे जब हरमनदीप किसी काम से गया हुआ था तो उनका बड़ा भाई जर्मनदीप सिंह वैन पर मौजूद था। इसी दौरान एसएचओ रंजीत मौके पर पहुंचे और उन्होंने जर्मनदीप सिंह के साथ मारपीट शुरू कर दी। इतने में हरमनदीप सिंह भी मौके पर पहुंचे तो उन्हें भी पीटा गया। इतना ही नहीं, दोनों को थाने ले जाया गया। जब हवलदार पिता थाने पहुंचे तो उन्हें भी पीटा गया। सुबह चार बजे उन्हें थाने से भेजा गया।


हवलदार हीरा सिंह का कहना है कि मैं तो कारण पूछ रहा था कि हमें पीट क्यों रहे हैं, लेकिन कोई जवाब नहीं दिया गया।

फूड वैन मालिक हरमनदीप सिंह का कहना है कि मैं नहाने गया था। पता लगा कि मेरे भाई को पीट रहे हैं। रास्ते से वापस लौट आया। आते ही मुझे भी मारना शुरू कर दिया। मेरे पिता और भाई को फ्रेक्चर आया है, जबकि मेरे शरीर पर चोटों के निशान हैं।

एसएचओ बोले...

मनीमाजरा के एसएचओ रंजीत सिंह का कहना है कि रेहड़ी वालों को हटाने के लिए मुलाजिम भेजे गए थे। पता लगा कि फूड वैन वाले बंद नहीं कर रहे और मुलाजिमों के साथ बहस कर रहे है। मैं भी मौके पर गया, लेकिन मारपीट कोई नहीं हुई है। बाद में हीरा सिंह थाने आए तो उन्होंने भी शराब पी हुई थी और मुलाजिमों के साथ बहस की। मारपीट कोई नहीं हुई है चोटें कैसे लगी, इस बारे में कुछ नहीं कह सकते।

X
एसएचओ रंजीत पर फूड वैन मालिक दो भाइयों और हवलदार पिता को पीटने का आरोप
Click to listen..