Hindi News »Union Territory »Chandigarh »News» टारगेट अजमेर जेल से, लंदन से फंडिंग

टारगेट अजमेर जेल से, लंदन से फंडिंग

हरियाणा एसटीएफ की तरफ से 6 जून को हैदराबाद से गिरफ्तार किए गए लॉरेंस विश्नोई गैंग के कुख्यात शूटर संपत नेहरा ने...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 15, 2018, 02:05 AM IST

  • टारगेट अजमेर जेल से, लंदन से फंडिंग
    +2और स्लाइड देखें
    हरियाणा एसटीएफ की तरफ से 6 जून को हैदराबाद से गिरफ्तार किए गए लॉरेंस विश्नोई गैंग के कुख्यात शूटर संपत नेहरा ने बहादुरगढ़ में एसटीएफ की तरफ से की इंटेरोगेशन में कई खुलासे किए हैं। उसने माना कि उसे अजमेर जेल में बंद लॉरेंस विश्नोई सुपारी लेकर फोन पर टारगेट देता था। वह साथी अंकित भादू, हरदीप लाहौरिया, अक्षय पहलवान से मिलकर हत्याएं करता था। इसके लिए उसे लॉरेंस जेल में बैठा ही हवाला के जरिए लंदन से वेस्टर्न यूनियन के रास्ते रुपये भेजता था जिसे वह सोपू (स्टूडेंट आर्गेनाइजेशन ऑफ पंजाब यूनिवर्सिटी) के नेताओं की आईडी पर कैश करवाता था। संपत को लॉरेंस ने 2016 से 2018 के बीच 5 लाख लंदन से हवाला के जरिए भेजे। इस दौरान संपत ने पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में 8 हत्याएं की। अब इसका अगला टारगेट सलमान खान था क्योंकि जनवरी महीने में लॉरेंस ने उसे मारने की धमकी दी थी। 5 महीने से संपत इसी ताक में था और उसने हैदराबाद में बैठ सलमान की मुंबई जाकर रैकी भी की थी। मगर इसे अंजाम देने को रुपए चाहिए थे, इसीलिए उसने श्रीगंगानगर के व्यवसायियों से फिरौती मांगी थी, लेकिन पकड़ा गया।

    संपत नेहरा

    2 साल में लंदन से लॉरेंस ने संपत को हवाला के जरिए दिलाए थे 5 लाख

    वेस्टर्न यूनियन में आता था पैसा, सोपू नेताओं की आईडी पर होता था कैश

    संपत से पूछताछ के बाद अंबाला से हरदीप लाहौरिया बीकानेर से भादू अरेस्ट, अब शूटर अक्षय की तलाश

    अंकित भादू

    हरदीप लाहौरिया

    आनंदपाल गैंग का सुभाष व फौजी दे रहे लॉरेंस का साथ

    राजस्थान के कुख्यात गैंगस्टर आनंदपाल के एनकाउंटर के बाद उसका राइट हैंड सुभाष बराल अजमेर जेल में लॉरेंस के साथ बंद है। वह और उसका दूसरा साथी फौजी जो इस समय आनंदपाल गैंग को लीड कर रहे हैं, लॉरेंस विश्नोई का साथ दे रहे हैं। लॉरेंस के कुछ साथी लंदन से हवाला के जरिए रुपया इसके कहने पर वेस्टर्न यूनियन के जरिए इसके गैंग के सदस्यों तक पहुंचाते हैं। बातचीत के लिए व्हाट्सएप कॉल का इस्तेमाल करते हैं।

    संपत नेहरा से पूछताछ के बाद हरियाणा एसटीएफ ने पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में कई ठिकानों पर छापामारी की। इस दौरान पंजाब की टीम के साथ ज्वाइंट आप्रेशन के तहत अंबाला से बुधवार की रात को हरदीप लाहौरिया को गिरफ्तार किया गया। उससे राजपुरा सीआईए में पूछताछ के बाद मिले इनपुट पर वीरवार को बीकानेर में छापामारी कर अंकित भादू को उसके एक साथी के साथ गिरफ्तार किया गया। अब पुलिस को इसके चौथे शूटर अक्षय पहलवान निवासी पानीपत की तलाश है। इसके चंडीगढ़ में छिपे होने की संभावना है। अंकित भादू से गंगानगर के हिंदुमलकोट पुलिस थाने में रखकर पूछताछ की जा रही है।

    अगला टारगेट सलमान था, पैसे जुटाने को व्यापारियों से मांगी थी फिरौतियां

    यमुनानगर के पूर्व विधायक के भाई पर भी चलाई गोलियां

    लॉरेंस विश्नोई पंजाब में विक्की गौंडर के गैंग को खत्म करना चाहता था। इसलिए उसने गौंडर के साथी कोटकपूरा निवासी लवी दयौड़ा की संपत नेहरा को कहकर 2017 में हत्या करवा दी। इसके बाद लॉरेंस के ही कहने पर संपत ने खरड़ के पार्षद के पति की गोलियां मारकर हत्या की। इसके बाद एक के बाद एक हरियाणा में संपत ने 3 हत्याओं को अंजाम दिया, जिसका टार्गेट भी लॉरेंस ने दिया था। लॉरेंस के कहने पर ही संपत ने मई 2017 में यमुनानगर के पूर्व विधायक दिलबाग सिंह के भाई राजेंद्र राजा व उसके पार्टनर संजीव गुप्ता पर गोलियां चलाई थी मगर वह बच गए। इसके बाद अगस्त में इनके पार्टनर विकास कवातरा पर फिर से फायरिंग की। संपत ने यह भी माना कि लॉरेंस के कहने पर ही उसने जयपुर में ज्वेलर, सीकर में पूर्व सरपंच, श्रीगंगानगर में जॉर्डन और सादुलपुर कोर्ट में अजय जैतपुरिया की हत्या की थी।

  • टारगेट अजमेर जेल से, लंदन से फंडिंग
    +2और स्लाइड देखें
  • टारगेट अजमेर जेल से, लंदन से फंडिंग
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Chandigarh News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: टारगेट अजमेर जेल से, लंदन से फंडिंग
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×