--Advertisement--

प्रिंसिपलों की कमेटी ने परीक्षा में सख्ती जारी रखने को कहा

चंडीगढ़ | सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूलों के प्रिंसिपलों की कमेटी ने शिक्षा मंत्री ओपी सोनी को सौंपी रिपोर्ट में...

Danik Bhaskar | Jun 15, 2018, 02:05 AM IST
चंडीगढ़ | सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूलों के प्रिंसिपलों की कमेटी ने शिक्षा मंत्री ओपी सोनी को सौंपी रिपोर्ट में शिक्षा सुधारों के लिए कई सुझाव दिए हैं। इनमें हर कक्षा के लिए अलग कमरे, बिजली और पानी की सुविधा, पुस्तकालय, लड़कों-लड़कियों के लिए अलग टायलेट, परीक्षा में सख्ती रखने और पिछले साल की परीक्षा की परंपरा को निरंतर तीन-चार साल तक लागू करने का सुझाव शामिल है।

कमेटी ने ‘पढ़ो पंजाब, पढ़ाओ पंजाब’ की सुचारू मॉनीटरिंग, मानव स्रोतों के सही प्रयोग के लिए स्कूलों में रैशनलाइजेशन की नीति, बॉर्डर एरिया के लिए अलग काडर के तहत भर्ती और बदली की नीति, अध्यापकों के तबादलों संबंधी नीति, स्कूल प्रमुखों की जिम्मेदारियों और जवाबदेही संबंधी भी सुझाव दिए हैं। कमेटी ने विद्यार्थियों को समय पर किताबें मुहैया करवाने के साथ-साथ सिलेबस के ई-कंटेंट को स्मार्ट क्लासों के लिए तैयार करने का सुझाव दिया है। प्री-प्राइमरी शुरू करने के फैसले को सही बताते हुए इसको और भी योजनाबद्ध ढंग से चलाने को कहा है। अध्यापकों के लिए समय-समय पर ओरिएंटेशन प्रोग्राम चलाए जाने को जरूरी बताया है। सोनी ने उन स्कूलों के प्रिंसिपलों को सुझाव देने के लिए कहा था जिनके पिछले वर्षों के नतीजे शत-प्रतिशत रहे हैं। अब सोनी इन सुझावों पर सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह से बात करेंगे।

शिक्षा मंत्री ओपी सोनी को दी रिपोर्ट में दिए व्यापक सुझाव