--Advertisement--

ये हमसे नहीं बल्कि हम इनसे जिंदगी से जीतना सीख रहे हैं...

शहर में इस वक्त बहुत से समर कैंप चल रहे हैं। पर सेक्टर-24 स्थित पीजीआई के कम्युनिटी सेंटर में चल रहे समर कैंप जरा हट...

Dainik Bhaskar

Jun 13, 2018, 02:10 AM IST
ये हमसे नहीं बल्कि हम इनसे जिंदगी से जीतना सीख रहे हैं...
शहर में इस वक्त बहुत से समर कैंप चल रहे हैं। पर सेक्टर-24 स्थित पीजीआई के कम्युनिटी सेंटर में चल रहे समर कैंप जरा हट कर हैं। दरअसल इसमें स्पेशल किड्स को एक्टिविटीज में एंगेज किया जा रहा है ताकि वे रूटीन से हटकर कुछ नया सीख सकें। इसका नाम जॉय ऑफ गिविंग समर कैंप रखा गया है लेकिन ऑर्गेनाइजर करनवीर सिंह सीबिया के मुताबिक उन्हें यहां जॉय ऑफ रिसीविंग का फील आ रहा है।

बोले- इसमें सोरम, स्नेहालय, भवन विद्यालय, विवेक हाई स्कूल और लर्निंग डिसेबिलिटी से 30 स्टूडेंट्स हिस्सा ले रहे हैं। यहां उन्हें एथलेटिक्स, फुटबॉल, योगा, चैस, आर्ट एंड क्राफ्ट, डांस और म्यूजिक सिखाया जा रहा है। यह कैंप 29 जून तक चलेगा। बाेलीं- हमें इन बच्चों से बहुत कुछ सीखने को मिल रहा है। इन एक्टिविटीज को सिखाने वाले कोई स्पेशल एजुकेटर नहीं, बल्कि अलग-अलग फील्ड के वॉलंटियर्स हैं, जिसमें डॉक्टर्स और साइकोलॉजिस्ट्स आदि शामिल हैं। स्पेशलिस्ट डॉ. बबीता घई के मुताबिक पीजीआई में स्टूडेंट्स खुलने में थोड़ा वक्त जरूर लेते हैं पर जब घुल-मिलजुल जाते हैं तो बाद में इनसे ज्यादा हम इनकी कंपनी को एंजॉय करते हैं। कैंप का सबसे ज्यादा असर ये हो रहा है कि ये किड्स अब खुद जाते वक्त हमें हग करके जाते हैं।

Summer Camp

पीजीआई के कम्युनिटी सेंटर में चल रहा है स्पेशल किड्स के लिए समर कैंप, जॉय ऑफ गिविंग समर कैंप।

इनकी ग्रास्पिंग पावर ज्यादा है

डॉ. मलविंदर चीमा सेरेब्रल पाल्सी से ग्रस्त रहिया तलवार को फुटबॉल फेंकना सिखा रही थीं। जब इनसे पूछा कि इन्हें क्या एक्स्ट्रा एफर्ट करना पड़ रहा है तो बोलीं- इन बच्चों की ग्रास्पिंग पावर बहुत ज्यादा है। इसलिए मुझे एक पल के लिए भी नहीं लगा कि इन्हें कुछ भी सिखाने के लिए मेहनत करनी पड़ रही है। इसी तरह डांस इंस्ट्रक्टर शिबाजी ने कहा- सामान्य और इन बच्चों को डांस सिखाने के बीच मुझे कोई अंतर नहीं लगा। बल्कि मैंने इनसे लड़ना सीखा कि हम हर रोज उठकर अपनी प्रॉब्लम्स के बारे में सोचते हैं। पर इनकी जिंदगी और संघर्ष देखकर लगता ही नहीं कि हमें शिकायत करनी चाहिए।

ये हमसे नहीं बल्कि हम इनसे जिंदगी से जीतना सीख रहे हैं...
ये हमसे नहीं बल्कि हम इनसे जिंदगी से जीतना सीख रहे हैं...
X
ये हमसे नहीं बल्कि हम इनसे जिंदगी से जीतना सीख रहे हैं...
ये हमसे नहीं बल्कि हम इनसे जिंदगी से जीतना सीख रहे हैं...
ये हमसे नहीं बल्कि हम इनसे जिंदगी से जीतना सीख रहे हैं...
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..